Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

हींग करे हाजमे को दुरस्त

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हींग करे हाजमे को दुरस्त

हींग एक ऐसा ही मसाला हैं जो प्राय: सभी रसोईघर की शान है। हींग पौधे का गाढ़ा रस है जिसे सूखा कर बनाया जाता है। इसके कई उपयोग हैं—

१. उल्टी होने पर — हींग को घी में भून लें व अजवाइन के साथ काला नमक व काली मिर्च मिलाकर पीस लें। अब इस चूर्ण की २ ग्राम मात्रा पानी के साथ लें।

२. महिलाओं के कमर दर्द में — ३ ग्राम हींग, १० ग्राम काली मिर्च, १० ग्राम सोंठ व पीपल को पीसकर छान लें। इसे ५० ग्राम काले तिल में भूनकर ब्राह्मी बूटी के साथ काढ़ा बना कर लें। जल्दी ही आराम पहुँचेगा।

३. गैस होने पर हींग का पानी पेट पर लगाने से आराम पहुँचता है।

४. हींग पाचन में सहायक है एवं मूत्राशय व पित्त के रोगों में भी उपयोगी है।

५. फैफड़े के रोगों में हींग को सर्व सुलभ एवं रामबाण औषधि माना गया है।