Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्यशक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकैतनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०२६.बावड़ी के जल में सात भव दिख जाते हैं

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बावड़ी के जल में सात भव दिख जाते हैं

उववणवाविजलेणं सित्ता पेच्छंति एक्कभवजाइं।

तस्स णिरिक्खणमेत्ते सत्तभवातीदभाविजादीओ।।८०८।।

उपवन की वापिकाओं के जल से अभिषिक्त जनसमूह एक भवजाति को देखते हैंं और उसके निरीक्षणमात्र के होने पर अर्थात् वापी के जल में निरीक्षण करने पर सात अतीत व अनागत भवजातियों को देखतें हैं।।८०८।। (तिलोयपण्णत्ति,पृ॰ २४८)