Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्यशक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकैतनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०१. पुस्तक-२ का मंगलाचरण एवं प्रारम्भिक भूमिका

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मंगलाचरणम्

35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
35yb.jpg
सिद्धिकन्याविवाहार्थं, त्यक्त्वा राजीमतीं सतीम्।

दीक्षां लेभे महायोगिन्! नेमिनाथ! नमोऽस्तु ते।।१।।

उज्जयिन्यां[१] महावीरो-ऽतिमुक्तकवने स्थितः। रुद्रोपसर्गजेता तं, तपोभूमिं च नौम्यहम् ।।२।।

उपसर्गजितः साधून् आचार्याकम्पनं स्तुवे। श्रुतसिन्धुं च योगीन्द्रं, विष्णुं चापि सुदृष्टये।।३।।
सर्वभाषामयीं देवीं, शारदां हृदि धारये। यस्याः कृपाप्रसादेन, ज्ञानज्योतिश्चकासते।।४।।
अतिवीरं मुहुर्नत्वा, या विंशतिप्ररूपणा।तास्वालापाः प्रवक्ष्यन्ते, स्वस्मिन् बुद्ध्यद्र्धिलब्धये।।५।।
सिद्धान्तचिन्तामणि टीका-
अथ श्रीमद् भगवत्पुष्पदन्तभूतबलि प्रणीत-षट्खण्डागमनाम-महाग्रन्थे जीवस्थाननामप्रथमखण्डोऽस्ति। तस्मिन्नपि सप्तसप्तत्यधिक-शतसूत्रसमन्वितं सत्प्ररूपणानाम प्रथमप्रकरणमस्ति। तस्यै विशेषविवरणरूपा विंशतिप्ररूपणाग्रन्थो वर्तते। अस्मिन् ग्रन्थे गुणस्थानेषु मार्गणासु च विंशतिप्ररूपणानामालापा वक्ष्यन्ते।

मंगलाचरण

श्लोकार्थ-सिद्धि कन्या से विवाह करने हेतु जिन्होंने सती राजमती का त्याग करके जैनेश्वरी-मुनिदीक्षा धारण की थी ऐसे हे महायोगिराज ! नेमिनाथ भगवन्! आपको मेरा नमस्कार होवे।।१।।

उज्जयिनी नगरी के अतिमुक्तकवन में ध्यानस्थ होकर जिन्होंने भव नामक रुद्र द्वारा किये गये उपसर्ग पर विजय प्राप्त की थी, उन तीर्थंकर श्रीमहावीर स्वामी को एवं उनकी तपोभूमि को भी मेरा नमन है।।२।।

उपसर्ग को जीतने वाले श्री अकम्पनाचार्यादि सात सौ मुनियों की हम स्तुति करते हैं तथा बलि आदि मंत्रियों को वाद-विवाद में पराजित करने वाले श्री श्रुतसागर मुनिराज को एवंं सात सौ मुनियों का उपसर्ग दूर करने वाले श्री विष्णुकुमार महामुनिराज को भी अपने सम्यग्दर्शन की निर्मलता हेतु हमारा नमस्कार है।। ३।।

जिनकी कृपाप्रसाद से ज्ञान की ज्योति प्रकाशमान होती है ऐसी सर्वभाषामय शारदा देवी-सरस्वती माता को हम अपने हृदय में धारण करते हैं।।४।।

अतिवीर नाम से भी प्रसिद्ध महावीर भगवान् को बार-बार नमस्कार करके अब अपनी आत्मा में बुद्धि ऋद्धि की प्राप्ति हेतु बीस प्ररूपणा एवं उनके आलाप मेरे द्वारा कहे जाएंगे।।५।।

सिद्धान्तचिन्तामणि टीका-श्रीमान् भगवान् पुष्पदन्त एवं भूतबली द्वारा प्रणीत-रचित षट्खण्डागम नामक महाग्रन्थ में ‘जीवस्थान’ नामका यह प्रथम खण्ड है। उस प्रथम खण्ड में भी एक सौ सतत्तर सूत्र से समन्वित सत्प्ररूपणा नामक प्रथम प्रकरण है। उसी के विशेष विवरणरूप यह बीसप्ररूपणा ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ में गुणस्थान एवं मार्गणाओं में बीस प्ररूपणाओं के आलाप का वर्णन करेंगे।

प्रोक्तं च श्रीवीरसेनाचार्येण-

‘‘संपहि संतसुत्तविवरण-समत्ताणंतरं तेसिं परूपणं भणिस्सामो[२]।’’ अतएवास्यां प्ररूपणायां एकमपि सूत्रं नास्ति केवलं धवलाटीकयैव असौ प्ररूपणाधिकारोऽस्ति। तस्या धवलाटीकाया आधारं गृहीत्वा मया सिद्धान्त-चिन्तामणिटीका रचिता।

प्ररूपणानाम किं उक्तं भवति इति चेत् ?
श्रीवीरसेनाचार्यो ब्रवीति-‘‘ओघादेसेहि गुणेसु जीवसमासेसु पज्जत्तीसु पाणेसु सण्णासु गदीसु इंदिएसु काएसु जोगेसु वेदेसु कसाएसु णाणेसु संजमेसु दंसणेसु लेस्सासु भविएसु अभविएसु सम्मत्तेसु सण्णिअसण्णीसु आहारि-अणाहारीसु उवजोगेसु च पज्जत्तापज्जत्तविसेसणेहि विसेसिऊण जा जीवपरीक्खा सा परूवणा णाम।[३]’’
सामान्यविशेषाभ्यां गुणस्थानेषु जीवसमासेषु पर्याप्तिषु प्राणेसु संज्ञासु गत्यादि-चतुर्दशमार्गणासु उपयोगेषु च विंशतिप्ररूपणासु पर्याप्तापर्याप्तविशेषाभ्यां विशेष्य या जीव परीक्षा क्रियते सा प्ररूपणा नाम उच्यते।
उक्तं च-
गुणजीवा पज्जत्ती पाणा सण्णा य मग्गणाओ य।
उवओगो वि य कमसो वीसं तु परूवणा भणिया।।
अत्र तावद् गुणस्थानेषु मार्गणासु च विंशतिप्ररूपणानामालापकथनेन द्वौ महाधिकारौ स्तः। तत्रापि प्रथमे महाधिकारे गुणस्थानेषु विंशतिप्ररूपणाः कथ्यन्ते। तेषु सप्तविंशतिकोष्ठकान्यपि वक्ष्यन्ते। द्वितीयमहाधिकारे अष्टादशोत्तरपञ्चशतानि कोष्ठकानि सन्ति। तेषां विस्तरः-
तासु मार्गणासु तावद् गतिमार्गणायां पञ्चपञ्चाशदधिकशतकोष्ठकानि सन्ति। द्वितीयेन्द्रियमार्गणायां त्रिंशत्संदृष्टयः भवन्ति। तृतीयस्यां कायमार्गणायां एकोनत्रिंशत्संदृष्टयो वर्तन्ते। चतुर्थे योगमार्गणालापेषु त्रिपञ्चाशत् कोष्ठकानि भवन्ति। वेदमार्गणानाम्नि पञ्चमेऽधिकारे सप्तत्रिंशत् संदृष्टयः सन्ति। षष्ठे कषायमार्गणाधिकारे विंशतिकोष्ठकानि भवन्ति। सप्तम्यां ज्ञानमार्गणायां विंशतिसंदृष्टयः सन्ति। अष्टमे संयममार्गणाधिकारे नव कोष्ठकानि सन्ति। नवम्यां दर्शनमार्गणायां पञ्चदश कोष्ठकानि भवन्ति। दशम्यां लेश्यामार्गणायां चतुःसप्ततिः संदृष्टयः सन्ति। एकादशे भव्यमार्गणाधिकारे त्रीणि कोष्ठकानि भवन्ति। द्वादशे सम्यक्त्वमार्गणाधिकारेऽष्टाविंशतिसंदृष्टयो भवन्ति। त्रयोदशे संज्ञिमार्गणाधिकारे षोडश कोष्ठकानि भवन्ति। चतुर्दशे आहारमार्गणाधिकारे एकोनत्रिंशत् संदृष्टयो भवन्तीति गुणस्थानमार्गणयोद्र्वयोर्महाधिकारयोः मेलने सति पञ्चचत्वारिंश-दधिकपञ्चशतानि कोष्ठकानि जायन्ते इत्यत्र समुदायपातनिका सूचिता भवति।

श्री वीरसेनाचार्य ने कहा है-

‘‘सत्प्ररूपणा के सूत्रों का विवरण समाप्त हो जाने के अनन्तर अब उनकी प्ररूपणा का वर्णन करता हूँ।’’

अतएव इन प्ररूपणा ग्रन्थ में एक भी सूत्र नहीं है, केवल धवला टीका के द्वारा ही इस प्ररूपणा अधिकार को कहा गया है। उसी धवला टीका के आधार को लेकर मैंने (गणिनी ज्ञानमती माताजी) ने यह सिद्धान्तचिन्तामणि टीका लिखी है।

शंका- प्ररूपणा शब्द का क्या लक्षण है?

समाधान- श्री वीरसेनाचार्य कहते हैं-सामान्य और विशेष की अपेक्षा गुणस्थानों में, जीवसमासों में, पर्याप्तियों में, प्राणों में, संज्ञाओं में, गतियों में, इन्द्रियों में, कायों में, योगों में, वेदों में, कषायों में, ज्ञानों में, संयमों में, दर्शनों में, लेश्याओं में, भव्योें में, अभव्यों में, सम्यक्त्वों में, संज्ञी-असंज्ञियों में, आहारी-अनाहारियों में और उपयोगों मे पर्याप्त एवं अपर्याप्त विशेषणों से विशेषित करके जीवों की जो परीक्षा की जाती है उसे प्ररूपणा कहते हैं।

सामान्य तथा विशेष दृष्टियों से गुणस्थान, जीवसमास, पर्याप्ति, प्राण, संज्ञा तथा गति आदि चौदह मार्गणाओं में और उपयोग में बीसप्ररूपणाओं में पर्याप्त और अपर्याप्त विशेषणों के द्वारा विश्लेषित करके जीवों की जो परीक्षा-खोज की जाती है वही प्ररूपणा नाम से जानी जाती है।

कहा भी है-

गाथार्थ-गुणस्थान, जीवसमास, पर्याप्ति, प्राण, संज्ञा, चौदह मार्गणाएं और उपयोग इस प्रकार क्रम से बीस प्ररूपणाएं कही गई हैं।।

यहाँ उन गुणस्थान और मार्गणाओं में बीसप्ररूपणाओं के नाम एवं आलापों के कथन करने वाले दो महाधिकार हैं। उसमें भी प्रथम महाधिकार के अंतर्गत गुणस्थानों में बीस प्ररूपणाओं का कथन करते हैं। उनमें सत्ताईस कोष्ठक (चार्ट) भी कहेंगे। पुनः द्वितीय महाधिकार में पाँच सौ अठारह कोष्ठक हैं। उन्हीं का विस्तार करते हैं-

उन मार्गणास्थानों में गति मार्गणा सम्बन्धी एक सौ पचपन कोष्ठक हैं। द्वितीय इन्द्रियमार्गणा में तीस संदृष्टियाँ (कोष्ठक) हैं, तृतीय कायमार्गणा में उनतीस संदृष्टि हैं, चतुर्थ योगमार्गणा के आलापों में तिरेपन कोष्ठक हैं, वेदमार्गणा नाम के पञ्चम अधिकार में सैतीस संदृष्टि हैं, छठे कषायमार्गणा अधिकार मेें बीस कोष्ठक हैं, सातवीं ज्ञानमार्गणा में बीस संदृष्टि हैं, आठवें संयममार्गणाधिकार मेें नौ कोष्ठक हैं, नवमी दर्शनमार्गणा में पन्द्रह कोष्ठक हैं, दशवीं लेश्यामार्गणा में चौहत्तर संदृष्टियां हैं, ग्यारहवें भव्यमार्गणाधिकार में तीन कोष्ठक हैं, बारहवें सम्यक्त्व मार्गणाधिकार में अट्ठाईस संदृष्टि हैं, तेरहवें संज्ञीमार्गणाधिकार में सोलह कोष्ठक हैं और चौदहवें आहार मार्गणा अधिकार में उनतीस संदृष्टियाँ हैं, इस प्रकार गुणस्थान और मार्गणा इन दोनों महाधिकारों के मिलाने पर कुल पाँच सौ पैंतालीस कोष्ठक हो जाते हैं। यह यहाँ पर कोष्ठकों की समुदायपातनिका प्रस्तुत की गई है।


अथात्र प्रथमतो गुणस्थानमहाधिकारे प्ररूपणा उच्यन्ते-

गुणस्थान-जीवसमास-पर्याप्ति-प्राण-संज्ञा-उपयोगा इमाः षट्प्ररूपणाः, चतुर्दश-मार्गणाश्चैता मिलित्वा विंशतिप्ररूपणा भवन्ति। पूर्वोक्तसत्प्ररूपणान्तर्गतसप्तसप्तत्यधिकशतसूत्रेषु गुणस्थान-जीवसमास-पर्याप्ति-चतुर्दशमार्गणानां अर्थो विस्तरेण कथितोऽधुना प्राण-संज्ञा-उपयोगप्ररूपणानामर्थो निगद्यते-

प्राणिति जीवति एभिरिति प्राणाः।
के ते?
पञ्चेन्द्रियाणि मनोबलं वाग्बलं कायबलं उच्छ्वासनिःश्वासौ आयुरिति।
एतेषामिन्द्रियाणामिन्द्रियमार्गणास्वन्तर्भावो भवेदिति चेत् ?
न भवेत्, चक्षुरादिक्षयोपशमनिबन्धनानामिन्द्रियाणामेकेन्द्रियादिजातिभिः साम्याभावात्।
तर्हीन्द्रियपर्याप्तावन्तर्भावः शक्येत?
न शक्येत, चक्षुरिन्द्रियाद्यावरणक्षयोपशमलक्षणेन्द्रियाणां क्षयोपशमापेक्षया बाह्यार्थग्रहणशक्त्युत्पत्तिनिमित्तपुद्गलप्रचयस्य चैकत्वविरोधात्।
मनोबलं मनःपर्याप्तावन्तर्भवेत् इति चेत्?
न, मनोवर्गणास्कंधनिष्पन्नपुद्गलप्रचयस्य तस्मादुत्पन्नात्मबलस्य चैकत्वविरोधात्। एवमेव वाग्बलं भाषापर्याप्ता-वन्तर्भवतीत्यपि कथयितुं न शक्यं, आहारवर्गणास्कन्धनिष्पन्नपुद्गलप्रचयस्य तस्मदुत्पन्नाया भाषावर्गणास्कंधानां श्रोत्रेन्द्रियग्राह्यपर्यायेण परिणमनशत्तेश्च साम्याभावात्। तथैव कायबलमपि न शरीरपर्याप्तावन्तर्भवति, वीर्यान्तराय-जनितक्षयोपशमस्य खलरसभागनिमित्तशक्तिनिबन्धनपुद्गलप्रचयस्य चैकत्वाभावात्। अनेन प्रकारेण उच्छ्वास-निःश्वासप्राणपर्याप्त्योः कार्यकारणयोरात्मपुद्गलोपादानयोर्भेदोऽभिधातव्य इति।
संज्ञा चतुर्विधा-आहार-भय-मैथुन-परिग्रहसंज्ञाश्चेति।
मैथुनसंज्ञा वेदेऽन्तर्भवेदिति चेत् ?
न, वेदत्रयोदयसामान्यनिबंधनमैथुनसंज्ञाया वेदोदयविशेषलक्षणवेदस्य चैकत्वानुपपत्तेः।
परिग्रहसंज्ञापि लोभेनैकत्वं लभेत्?
नैतत्, लोभोदयसामान्यस्यालीढबाह्यार्थलोभतः परिग्रहसंज्ञामादधानतो भेदात्।
यदि चतस्रोऽपि संज्ञा आलीढबाह्यार्थाः, अप्रमत्तानां संज्ञाभावः स्यादिति चेत् ?
न, तत्रोपचारतस्तत्सत्त्वाभ्युपगमात् ।
उपयोगस्य लक्षणं किम्?
स्वपरग्रहणपरिणाम उपयोगः। न सोऽयं ज्ञानदर्शनमार्गणयोरन्तर्भवति, ज्ञानदृगावरणकर्मक्षयोपशमस्य तदुभयकारण-स्योपयोगत्वविरोधात् ।
अत्र कश्चिदाशंकते-इयं विंशतिविधा प्ररूपणा किमु सूत्रेण कथिता उत न कथिता? यदि कथिता नेयं प्ररूपणा भवति, सूत्रानुक्तकथनात्। अथ कथिता चेत् तर्हि जीवसमासप्राणपर्याप्त्युपयोगसंज्ञानां मार्गणासु यथान्तर्भावो भवति तथा वक्तव्यमिति?
आचार्यदेवः समाधत्ते-न द्वितीयपक्षे कथितदोषोऽत्र भवति, अनभ्युपगमात्। प्रथमपक्षेऽन्तर्भावो वक्तव्यश्चेदुच्यते-
पर्याप्तिजीवसमासाः कायेन्द्रियमार्गणयोर्निलीनाः सन्ति, एकद्वित्रिचतुः पञ्चेन्द्रियसूक्ष्मबादरपर्याप्तापर्याप्तभेदानां तत्र प्रतिपादितत्वात्। उच्छ्वासभाषामनोबलप्राणाश्च तत्रैव निलीनाः, तेषां पर्याप्तिकार्यत्वात्। कायबलप्राणोऽपि योगमार्गणातो निर्गतः, बललक्षणत्वात् योगस्य। आयुः प्राणो गतौ निलीनः, द्वयोरन्योन्याविनाभावित्वात्। इन्द्रियप्राणा ज्ञानमार्गणायां निलीनाः,भावेन्द्रियस्य ज्ञानावरणक्षयोपशमरूपत्वात् ।
आहारे या तृष्णा कांक्षा साहारसंज्ञा। सा च रतिरूपत्वान्मोहपर्यायः। रतिरपि रागरूपत्वान्मायालोभयोरन्तर्भवति। ततः कषायमार्गणायामाहारसंज्ञा द्रष्टव्या। भयसंज्ञा भयात्मिका। भयञ्च क्रोधमानयोरन्तर्लीनम्, द्वेषरूपत्वात्। ततो भयसंज्ञापि कषायमार्गणाप्रभवा। मैथुनसंज्ञा वेदमार्गणाप्रभेदः, स्त्रीपुंनपुंसकवेदानां तीव्रोदयरूपत्वात्। परिग्रहमार्गणापि कषायमार्गणोद्भूता, बाह्यार्थालीढलोभरूपत्वात्।
साकारोपयोगो ज्ञानमार्गणायामनाकारोपयोगो दर्शनमार्गणायामन्तर्भवति, तयोेज्र्ञानदर्शनरूपत्वात्। न पौनरुक्त्यमपि, कथंचित्तेभ्यो भेदात् ।
प्ररूपणायां किं प्रयोजनमिति चेत् ?
उच्यते, सूत्रेण सूचितार्थानां स्पष्टीकरणार्थं विंशतिविधानेन प्ररूपणोच्यते।
तत्र ‘ओघेण अत्थि मिच्छाइट्ठी[४]।’ ‘सिद्धा चेदि[५]’। मिथ्यादृष्टेरस्तित्वसूचकसूत्रादहारभ्य सिद्धानामस्तित्वसूचनपराणि पंचदशसूत्राणि कथितानि। एतेषां सूत्राणामर्थो निरूपितोऽस्ति।
अधुना गुणस्थान जीवसमास-पर्याप्ति-प्राण-संज्ञा-चतुर्दश मार्गणा-उपयोगानां प्रत्येकं नामानि भेदाश्च प्ररूप्यन्ते

अब यहाँ सर्वप्रथम गुणस्थान महाधिकार में प्ररूपणा का कथन करते हैं-

गुणस्थान, जीवसमास, पर्याप्ति, प्राण, संज्ञा और उपयोग ये छह प्ररूपणा तथा चौदह मार्गणा मिलकर ६+१४·२० बीस प्ररूपणाएं होती हैं। पूर्वोक्त सत्प्ररूपणा के अन्तर्गत एक सौ सतत्तर सूत्रों में गुणस्थान, जीवसमास, पर्याप्ति एवं चौदह मार्गणाओं का अर्थ विस्तार से वर्णन किया गया है तथा अब प्राण, संज्ञा और उपयोग इन तीन प्ररूपणाओं का अर्थ कहते हैं-

जिनके द्वारा जीव जीता है उन्हें प्राण कहते हैं।

प्रश्न- वे प्राण कितने होते हैं?

उत्तर- पाँच इन्द्रियाँ, मनोबल, वचनबल, कायबल, श्वासोच्छ्वास और आयु ये कुल दश प्राण होते हैं।

भावार्थ- एकेन्द्रिय से लेकर पञ्चेन्द्रिय पर्यन्त समस्त संसारी प्राणी अपनी-अपनी योग्यतानुसार उपर्युक्त प्राणों के आधार पर ही अपना जीवन यापन करते हैं। मुक्त जीवों के इनमें से कोई भी प्राण नहीं होता है, वे तो मात्र एक चेतना प्राण के बल पर अनन्तानन्त काल तक मोक्षधाम में अविनश्वर सुख का अनुभव करते हैंं।

शंका- इन पाँचों इन्द्रियों का इन्द्रियमार्गणा में अन्तर्भाव कर दिया जावे तो क्या बाधा है?

समाधान- इन्द्रियमार्गणा में उनको अन्तर्गर्भित नहीं करना चाहिए क्योंकि चक्षुरिन्द्रियावरण आदि कर्मों के क्षयोपशम के निमित्त से उत्पन्न हुई इन्द्रियों की एकेन्द्रिय जाति आदि जातियों के साथ समानता नहीं पाई जाती है।

शंका- तो इन्द्रियपर्याप्ति में उन इन्द्रियों को अन्तर्भूत कर देना चाहिए?

समाधान-यह भी शक्य नहीं है क्योंकि चक्षु इन्द्रिय आदि को आवरण करने वाले कर्मों के क्षयोपशमस्वरूप इन्द्रियों को और क्षयोपशम की अपेक्षा बाह्य पदार्थों को ग्रहण करने की शक्ति के उत्पन्न करने में निमित्तभूत पुद्गलों के प्रचय को एक मान लेने में विरोध आता है।

शंका-मनोबल को मनःपर्याप्ति में अन्तर्भूत किया जा सकता है?

समाधान-नहीं, क्योंकि मनोवर्गणा के स्कन्धोें से उत्पन्न होने वाले पुद्गलप्रचय को और उससे उत्पन्न होने वाले आत्मबल (मनोबल) को एक मानने में विरोध आ जायेगा। इसी प्रकार वचनबल को भी भाषा पर्याप्ति में अन्तर्भूत करना शक्य नहीं हो सकता है क्योंकि आहारवर्गणा के स्कन्धों से उत्पन्न होने वाले पुद्गल परमाणुओं के समूह का और उससे उत्पन्न हुई भाषावर्गणा के स्कन्धों का श्रोत्रेन्द्रिय के द्वारा ग्रहण करने योग्य पर्याय से परिणमन करने रूप शक्ति में आपसी समानता का अभाव है। इसी प्रकार से कायबल भी शरीर पर्याप्ति में अन्तर्भूत नहीं हो सकता है क्योंकि वीर्यान्तराय कर्म के उदय का अभाव और उपशम से उत्पन्न होने वाले क्षयोपशम की और खल-रस भाग की निमित्तभूत शक्ति के कारण पुद्गलप्रचय की एकता नहीं पाई जाती है।

श्वासोच्छ्वास प्राण और श्वासोच्छ्वासपर्याप्ति ये दो हैं, इसमें से प्राण तो कार्य है और पर्याप्ति कारण हैं। प्राणों का उपादान कारण आत्मा है तथा पर्याप्ति के लिए उपादान कारण पुद्गल है। इसलिए इन दोनों में भेद माना गया है।

संज्ञा के चार भेद हैं-आहार, भय, मैथुन और परिग्रहसंज्ञा।

शंका- इनमें से मैथुन संज्ञा का वेद में अन्तर्भाव हो सकता है?

समाधान-नहीं, क्योंकि तीनों वेदों के सामान्यतया उदय के निमित्त से उत्पन्न हुई मैथुनसंज्ञा और वेदोें के विशेषरूप से उदय होने वाले वेद इन दोनों में एकत्व नहीं बन सकता है। अतः मैथुनसंज्ञा और वेदमार्गणा का पृथक्-पृथक् अस्तित्व ही स्वीकार करना पड़ेगा।

शंका-परिग्रहसंज्ञा को भी यदि लोभकषाय में अन्तर्भूत कर दिया जावे तो क्या बाधा है?

समाधान-ऐसा भी नहीं हो सकता है क्योंकि बाह्य पदार्थों को विषय करने वाला होने के कारण परिग्रह संज्ञा को धारण करने वाले लोभ से लोभकषाय के उदयरूप सामान्य लोेभ का भेद है अर्थात् बाह्य पदार्थों के निमित्त से जो लोभ होता है उसे परिग्रह संज्ञा कहते हैं और लोभकषाय के उदय से उत्पन्न हुए परिणामों को लोभ कहते हैं । इस प्रकार का दोनों मेें सूक्ष्मभेद होने से एक-दूसरे में अन्तर्भाव संभव नहीं है।

शंका-यदि ये चोरोें ही संज्ञाएं बाह्य पदार्थों के संसर्ग से उत्पन्न होती हैं तो अप्रमत्त नामक सप्तमगुणस्थानवर्ती मुनियों के तो इन संज्ञाओं का अभाव हो जाना चाहिए?

समाधान-नहीं, क्योंकि उन अप्रमत्त मुनियों में इन संज्ञाओं का सद्भाव उपचार से स्वीकार किया गया है।

प्रश्न-उपयोग का क्या लक्षण है?

उत्तर-स्व और पर को ग्रहण करने वाले परिणामविशेष को ‘‘उपयोग’’ कहते हैं। वह उपयोग ज्ञान और दर्शन मार्गणाओं में अन्तर्भूत नहीं होता है, क्योंकि ज्ञान और दर्शन इन दोनों के कारणरूप ज्ञानावरण और दर्शनावरण के क्षयोपशम को उपयोग मानने में विरोध आता है।

यहाँ कोई शंका करता है कि-

ये बीसों प्ररूपणाएं सूत्रानुसार कही गई हैं अथवा नहीं? यदि सूत्रानुसार ये प्ररूपणाएं नहीं कही गई हैं तो ये प्ररूपणा नहीं हो सकती हैं और यदि सूत्रानुसार कही गई हैं तो जीवसमास, प्राण, पर्याप्ति, उपयोग और संज्ञाप्ररूपणा का मार्गणाओं में जिस प्रकार अन्तर्भाव होता है उस प्रकार कथन करना चाहिए।

आचार्यदेव इसका समाधान करते हैं कि-

उपर्युक्त शंका में जो द्वितीय पक्ष में दूषण दिया गया है वह तो यहाँ पर लागू नहीं होता है, क्योंकि वैसा तो माना नहीं गया है तथा प्रथम पक्ष वाले दूषण में जो जीवसमास आदि के चौदह मार्गणाओं में अन्तर्भाव करने की बात कही है सो कहा जाता है-

पर्याप्ति और जीवसमास नामकी प्ररूपणा काय और इन्द्रियमार्गणा में अंतर्भूत हो जाती हैं क्योंकि एकेन्द्रिय, द्वीन्द्रिय, तीन इन्द्रिय, चतुरिन्द्रिय, पञ्चेन्द्रिय, सूक्ष्म, बादर, पर्याप्त और अपर्याप्तरूप भेदों का उक्त दोनों मार्गणाओं में प्रतिपादन किया गया है। श्वासोच्छ्वास, वचनबल और मनोबल इन तीन प्राणों का भी इन्हीं दो मार्गणाओं में अन्तर्भाव होता है क्योंकि ये तीनों ही प्राण पर्याप्ति के कार्य हैं। कायबल नामक प्राण भी योगमार्गणा से निकला है क्योंकि योग काय, वचन और मनोबलस्वरूप होता है। आयु नामका प्राण गतिमार्गणा में अन्तर्भूत है क्योंकि आयु और गति ये दोनों परस्पर में अविनाभावी हैं अर्थात् जिस गति के उदय होने पर जो जीव उस गति में रहता है उसके उसी गति से संबंधित आयु का ही उदय होता है और जिस समय जिस आयु का उदय रहता है उस समय उसी से संबंधित गति का उदय होता हैै, इसलिए गति और आयु को एक-दूसरे का अविनाभावी ही मानना चाहिए। पाँच इन्द्रियरूप जो इन्द्रियप्राण हैं उसे ज्ञानमार्गणा में विलीन किया जाता है क्योंकि भावेन्द्रियाँ ज्ञानावरणकर्म के क्षयोपशमरूप होती हैं।

आहार के विषय में जो तृष्णा या आकांक्षा होती है उसे आहारसंज्ञा कहते हैं, वह रतिस्वरूप होने से मोह की पर्याय मानी जाती है और रति भी रागरूप होने के कारण माया और लोभ में अन्तर्भूत हो जाती है इसलिए कषायमार्गणा में आहार संज्ञा समझना चाहिए। भयसंज्ञा भयरूप है अर्थात् उसके उदय होने पर प्राणी सात भयों से आक्रान्त हो जाता है और भय द्वेषरूप होने के कारण क्रोध एवं मान में अन्तर्भूत होता है इसलिए भयसंज्ञा भी कषायमार्गणा से उत्पन्न हुई समझना चाहिए। मैथुनसंज्ञा वेदमार्गणा का प्रभेद है क्योंकि वह मैथुनसंज्ञा स्त्रीवेद, पुरुषवेद और नपुंसकवेद के तीव्र उदयरूप है। अर्थात् स्त्री को पुरुष में अथवा पुरुष को स्त्री में रमण करने का भाव अपने वेदकर्म के उदय के कारण ही होता है इसलिए वेदमार्गणा से ही मैथुन संज्ञा की उत्पत्ति माननी चाहिए। परिग्रह संज्ञा भी कषायमार्गणा से उत्पन्न हुई है क्योंकि यह संज्ञा बाह्य पदार्थों में व्याप्त है। अर्थात् लोभ कषाय के उदय से ही बाह्य पदार्थों के प्रति आसक्तिरूप परिग्रह-संज्ञा प्रगट होती है अतः कषाय और परिग्रह को एक-दूसरे का अविनाभावी मानना चाहिए।

इसी प्रकार से उपयोग के कथन में साकारोपयोग का ज्ञानमार्गणा में और अनाकारोपयोग का दर्शनमार्गणा में अन्तर्भाव हो जाता है क्योंकि ये दोनों ही उपयोग ज्ञान-दर्शनरूप हैं। ऐसा होते हुए भी उपर्युक्त प्ररूपणाओं के स्वतंत्र कथन करने में पुनरुक्त दोष नहीं आता है क्योंकि मार्गणाओं से उक्त प्ररूपणाएं कथंचित् भिन्न हैं।

शंका- प्ररूपणाओं का कथन करने में क्या प्रयोजन है?

समाधान-इस विषय में बतलाया है कि सूत्र के द्वारा सूचित पदार्थों के स्पष्टीकरण करने के लिए बीस प्रकार से प्ररूपणाओं का कथन किया जाता है।

उसमें ‘‘सामान्य से गुणस्थान की अपेक्षा मिथ्यादृष्टि जीव हैं’’ तथा ‘‘सिद्ध जीव हैं।’’ इस प्रकार मिथ्यादृष्टि जीवों के अस्तित्व को सूचित करने वाले सूत्र से प्रारम्भ करके सिद्ध जीवों तक के अस्तित्व को सूचित करने की मुख्यता से पन्द्रह सूत्र कहे गये हैं। इन सूत्रों का अर्थ भी (प्रथम पुस्तक में) निरूपित किया गया है।

अब यहाँ गुणस्थान, जीवसमास, पर्याप्ति, प्राण, संज्ञा, चौदह मार्गणा और उपयोग इन प्रत्येक के नाम और भेदों का प्ररूपण करते हैं-

विंशतिप्ररूपणाप्ररूपणम्-

चतुर्दश गुणस्थानानि सन्ति, चतुर्दशगुणस्थानातीत-गुणस्थानं सिद्धानां परमस्थानमपि अस्ति।

चतुर्दश जीवसमासाः सन्ति। एकेन्द्रिया द्विविधा-बादराः सूक्ष्माः। एतेऽपि पर्याप्तापर्याप्तभेदात् द्विविधा इति एकेन्द्रियाश्चतुर्विधा भवन्ति। द्वीन्द्रियत्रीन्द्रिय-चतुरिन्द्रियास्त्रिविधा अपि पर्याप्तापर्याप्तभेदात् षोढा भवन्ति। पंचेन्द्रिया द्विविधाः संज्ञिनोऽसंज्ञिनश्च। तेऽपि पर्याप्तापर्याप्तभेदात् चतुर्विधाः सन्ति। एते चतुर्दश जीवसमासा अतीतजीवसमासा अपि सन्ति ते सिद्धा एव।
षट् पर्याप्तयः षडपर्याप्तयः, पंच पर्याप्तयः पञ्चापर्याप्तयः, चतस्त्र पर्याप्तयः चतस्त्रोऽपर्याप्तयश्च। अतीतपर्याप्तकाः सिद्धा अपि सन्ति। एतासां नामानि-आहार-शरीर-इन्द्रिय-आनापान-भाषा-मनःपर्याप्तयः। एताः षट् पर्याप्तयः संज्ञिपर्याप्तानां। एतासां चैवापर्याप्तकाले एता एव असमाप्ताः षडपर्याप्तयो भवन्ति। मनःपर्याप्त्या विना एता एव पंच पर्याप्तयोऽसंज्ञिपंचेन्द्रियपर्याप्तप्रभृति यावद्द्वीन्द्रियपर्याप्तानां भवन्ति। तेषामेवापर्याप्तानां एता एवानिष्यन्नाः पंचापर्याप्तयो जायन्ते। एता एव भाषामनःपर्याप्तिभ्यां विना चतस्त्रः पर्याप्तयः एकेन्द्रियपर्याप्तानां भवन्ति। एतेषां चैवापर्याप्तकाले एता एवासंपूर्णाश्चतस्रोऽपर्याप्तयः उच्यन्ते। एतासां षण्णामभावात् अतीतपर्याप्तयः सिद्धाः उच्यन्ते।
पर्याप्त्यपर्याप्तीनां उदाहरणं कथ्यते।
उक्तं च- जह पुण्णापुण्णाइं गिह-घड-वत्थाइयाह दव्वाइं।
तह पुण्णापुण्णाओ पज्जत्तियरा मुणेयव्वा[६]।।
प्राणिति जीवति एभिरिति प्राणास्ते दश भवन्ति।
उक्तं च- पंचवि इंदियपाणा मणवचिकाएण तिण्णि बलपाणा।
आणप्पाणप्पाणा आउगपाणेण होंति दस पाणा[७]।।
एते दश प्राणाः पञ्चेन्द्रियसंज्ञिपर्याप्तानां। श्वासोच्छ्वासभाषामनोभिर्विना पंचेन्द्रियसंज्ञ्यपर्याप्तानां सप्त प्राणा भवन्ति। दशप्राणानां मध्ये मनसा विना नवय प्राणाः असंज्ञिपंचेन्द्रियपर्याप्तानां भवन्ति। एतेषामेवापर्याप्तानां भाषोच्छ्वासाभ्यां विना सप्त भवन्ति।
श्रोत्रेन्द्रियमनोबलप्राणाभ्यां विना चतुरिन्द्रियपर्याप्तस्याष्टौ प्राणाः सन्ति, एतेषामेवा-पर्याप्तानां श्वासोच्छ्वासभाषाभ्यां विना षट्प्राणा भवन्ति। पूर्वोक्ताष्टप्राणानां मध्ये चक्षुरिन्द्रियेऽपनीते त्रीन्द्रियपर्याप्तकस्य सप्त प्राणाः, तेषु सप्तसु श्वासोेच्छ्वास- भाषाभ्यां विना त्रीन्द्रियापर्याप्तकस्य पंच प्राणाः सन्ति। उक्तप्राणानां मध्ये घ्राणेन्द्रियेऽपनीते द्वीन्द्रियस्य पर्याप्तकस्य षट्प्राणास्तेषु षट्सु श्वासोच्छ्वासभाषारहिताः द्वीन्द्रियापर्याप्तकस्य चत्वारः प्राणाः भवन्ति। उत्तेâषु षट्सु रसनेंद्रियवचनबलयोरपनीतयोः-एकेन्द्रियस्य चत्वारः प्राणा भवन्ति। तेषु श्वासोच्छ्वासेऽपनीते एकेन्द्रियापर्याप्तस्य त्रयः प्राणा भवन्ति।
दशानां प्राणानामभावादतीतप्राणाः सिद्धाः सन्ति।
संज्ञाः कथ्यन्ते-
चतस्रः संज्ञाः सन्ति-आहारसंज्ञा, भयसंज्ञा, मैथुनसंज्ञा, परिग्रहसंज्ञा चेति। एतासां चतसृणां संज्ञानामभावात् क्षीणसंज्ञा नाम।

बीस प्ररूपणाओं का वर्णन-

चौदह गुणस्थान हैं, चौदह गुणस्थानों से परे अतीत गुणस्थान भी है और वही सिद्धों का परमस्थान है।

जीवसमास चौदह होते हैं। एकेन्द्रिय जीव के दो भेद हैं-बादर और सूक्ष्म। ये भी पर्याप्त-अपर्याप्त के भेद से दो-दो प्रकार के होते हैं अतः एकेन्द्रिय के चार भेद हो जाते हैं। दो इन्द्रिय, तीन इन्द्रिय और चतुरिन्द्रिय इन विकलत्रय जीवों के भी पर्याप्त और अपर्याप्त ये दो भेद होने से कुल छह भेद होते हैं। पञ्चेन्द्रिय जीव संज्ञी और असंज्ञी के भेद से दो प्रकार के होते हैं, वे भी पर्याप्त-अपर्याप्त के भेद से चार प्रकार के हो जाते हैं। इस प्रकार एकेन्द्रिय के ४, विकलत्रय के ६ और पञ्चेन्द्रिय के ४ ये सब मिलकर ४+६+४·कुल चौदह (१४) जीव समास होते हैं तथा अतीतजीवसमास भी होते हैं वे ही सिद्ध कहलाते हैं।

छह पर्याप्तियाँ, छह अपर्याप्तियाँ और पाँच पर्याप्ति, पाँच अपर्याप्ति एवं चार पर्याप्ति, चार अपर्याप्तियाँ होती हैं। अतीतपर्याप्तक-सिद्ध जीव भी होते हैं। इन पर्याप्तियों के नाम इस प्रकार हैं-आहार, शरीर, इन्द्रिय, श्वासोच्छ्वास, भाषा और मन पर्याप्ति। ये छहों पर्याप्तियाँ संज्ञी पञ्चेन्द्रिय पर्याप्तक जीवों के होती हैं। अपर्याप्त काल में ये छहों पर्याप्तियाँ पूर्ण न होने के कारण छह अपर्याप्तिरूप हो जाती हैं। मनःपर्याप्ति के बिना ये पांचों ही पर्याप्तियाँ असंज्ञी पञ्चेन्द्रिय पर्याप्तकों से लेकर द्वीन्द्रिय पर्याप्तक जीवोें तक होती हैं। अपर्याप्तक अवस्था को प्राप्त उन्हीं जीवों के अपूर्णता को प्राप्त वे ही पाँच अपर्याप्तियाँ होती है। भाषा-पर्याप्ति और मनःपर्याप्ति के बिना ये ही चार पर्याप्तियाँ एकेन्द्रियपर्याप्तक जीवों के होती हैं। इन्हीं एकेन्द्रिय जीवों के अपर्याप्त काल में अपूर्ण अवस्था तक ये ही चार अपर्याप्तियाँ होती हैं तथा इन छह पर्याप्तियों के अभाव को अतीतपर्याप्ति वाले सिद्धपरमात्मा जीव कहते हैं।

इसी सन्दर्भ में पर्याप्ति और अपर्याप्ति का उदाहरण कहते हैं-

गाथार्थ- जिस प्रकार गृह, घट और वस्त्र आदि द्रव्य पूर्ण और अपूर्ण दोनों प्रकार के होते हैं उसी प्रकार जीव भी पूर्ण और अपूर्ण दो प्रकार के होते हैं। उनमें से पूर्ण जीव पर्याप्तक और अपूर्ण जीव अपर्याप्तक कहलाते हैं।

जिनके द्वारा प्राणी जीवन को जीता है उन्हें प्राण कहते हैं, वे प्राण दश प्रकार के हैं। कहा भी है-

गाथार्थ - पाँचों इन्द्रियाँ, मनोबल, वचनबल और कायबल, श्वासोच्छ्वास और आयु ये दश प्राण हैं।

ये दशों प्राण पञ्चेन्द्रियसंज्ञीपर्याप्तक जीवों के होते हैं। श्वासोच्छ्वास, भाषा और मन के बिना सात प्राण पञ्चेन्द्रियसंज्ञीअपर्याप्तक जीवों के होते हैं। दश प्राणों के मध्य मन के बिना नव प्राण असंज्ञीपञ्चेन्द्रियपर्याप्तक जीवों के होते हैं। अपर्याप्तक अवस्था को प्राप्त इन्हीं जीवों के वचनबल और श्वासोच्छ्वास के बिना सात प्राण होते हैंं।

चतुरिन्द्रिय पर्याप्त जीवों के श्रोत्रेन्द्रिय और मनोबल प्राणों के बिना आठ प्राण होते हैं इनमें से ही अपर्याप्त चतुरिन्द्रिय जीवों के श्वासोच्छ्वास और भाषा के बिना छह प्राण होते हैं। पूर्वोक्त आठ प्राणों में से चक्षु इन्द्रिय के कम कर देने पर शेष सात प्राण त्रीन्द्रिय पर्याप्त जीवों के होते हैं। उन सात प्राणों में से श्वासोच्छ्वास और वचनबल प्राण के कम कर देने पर शेष पाँच प्राण त्रीन्द्रियअपर्याप्तकों के होते हैं। त्रीन्द्रियपर्याप्तकों में कहे गये सात प्राणों में से घ्राणेन्द्रिय के कम कर देने पर शेष छह प्राण द्वीन्द्रिय पर्याप्तक जीवों के होते हैं। द्वीन्द्रिय पर्याप्तक जीवों में कहे गये छह प्राणोें में से श्वासोच्छ्वास और भाषा के कम कर देने पर शेष चार प्राण द्वीन्द्रिय अपर्याप्तक जीवों के होते हैं। उक्त द्वीन्द्रिय पर्याप्तक के छह प्राणों में से रसना इन्द्रिय और वचनबल इन दो प्राणों के कम कर देने पर एकेन्द्रिय जीवों के चार प्राण होते हैं। इन चारों प्राणों में से श्वासोच्छ्वास प्राण कम कर देने पर एकेन्द्रिय अपर्याप्तक जीव के तीन प्राण होते हैं।

दश प्राणों के अभाव में अतीतप्राण सिद्ध जीव होते हैं।

इस प्रकार चौदह जीवसमासों में पृथक्-पृथक् रूप से प्राणों का निरूपण किया है। इसका सारांश यह है कि एकेन्द्रिय जीव के कम से कम तीन प्राण और अधिक से अधिक चार प्राण होते हैं, दो इन्द्रिय जीव के कम से कम चार प्राण एवं अधिक से अधिक छह प्राण होते हैं, तीन इन्द्रिय जीव के कम से कम पाँच प्राण एवं अधिक से अधिक सात प्राण होते हैं, चार इन्द्रिय जीव के कम से कम छह एवं अधिक से अधिक आठ प्राण होते हैं तथा पञ्चेन्द्रिय जीव के कम से कम सात प्राण एवं अधिक से अधिक दश प्राण होते हैं। सिद्ध जीवों में प्राण रहित अवस्था होती है। अब संज्ञा का वर्णन करते हैं-

संज्ञाएं चार होती हैं-आहारसंज्ञा, भयसंज्ञा, मैथुन संज्ञा और परिग्रहसंज्ञा। इन चार संज्ञाओं के अभावरूप अवस्था का नाम क्षीणसंज्ञा है।

चतुर्दशमार्गणाः कथ्यन्ते-

चतस्रो गतयः, सिद्धगतिरप्यस्ति। एकेन्द्रियादयः पञ्च जातयः, अतीतजातिरप्यस्ति। पृथिवीकायादयः षट्काया, अतीतकायोऽप्यस्ति। पञ्चदश योगाः अयोगोऽप्यस्ति। त्रयो वेदाः, अपगतवेदोऽप्यस्ति। चत्वारः कषायाः, अकषायो-ऽप्यस्ति। अष्ट ज्ञानानि एषु पंचज्ञानानि त्रीण्यज्ञानानि च। सप्त संयमाः नैव संयमो नैव संयमासंयमो नैवासंयमोऽप्यस्ति। दर्शनानि चत्वारि सन्ति। द्रव्यभावाभ्यां षड्लेश्याः, अलेश्योऽप्यस्ति। भव्यसिद्धिका अपि सन्ति, अभव्यसिद्धिका अपि सन्ति नैव भव्यसिद्धिका नैवाभव्यसिद्धिका अपि सन्ति। षट् सम्यक्त्वानि। संज्ञिनोऽपि सन्ति, असंज्ञिनोऽपि सन्ति, नैव संज्ञिनो नैवासंज्ञिनोऽपि सन्ति। आहारिणोऽपि सन्ति, अनाहारिणोऽपि सन्ति। साकारोपयुक्ता अपि सन्ति, अनाकारोपयुक्ता अपि सन्ति, साकारानाकाराभ्यां युगपदुपयुक्ता अपि भवन्ति।

इत्थं विंशतिप्ररूपणानां उत्तरभेदाः-चतुर्दशगुणस्थानानि, चतुर्दश जीवसमासाः, षट्पर्याप्तयः, दश प्राणाः चतस्रः संज्ञाः, चतुःसप्ततिः मार्गणाः द्वावुपयोगौ चेति सर्वे मिलित्वा चतुर्विंशत्यधिकशतानि भवन्ति।

इंदौरमहानगरे गोम्मटगिरेरुपरि दशाब्दीमहोत्सवान्तर्गते वीराब्दे द्वाविंशत्यधिक-पञ्चविंशतिशततमे चैत्रकृष्णात्रयोदश्यां तिथौ श्रीबाहुबलिस्वामिनः प्रतिमायाः अष्टोत्तरसहस्रकलशैर्महाभिषेककाले पंचपरमेष्ठिसमन्वित निर्माणार्थं मया प्रेरणा दत्ता[८]

चौदहमार्गणाओं का कथन करते हैं-

चार गतियाँ होती हैं और एक सिद्धगति भी है। एकेन्द्रिय आदि पाँच जातियाँ होती हैं और अतीतजाति एक सिद्धजाति भी है। पृथिवीकाय आदि छह काय हैं एवंं कायातीत भी सिद्ध जीव हैं। पन्द्रह योग हैं और अयोगस्थान भी है। वेद तीन होते हैं और अपगतवेदस्थान भी होते हैं। चार कषायें होती हैं और अकषायस्थान भी है। आठ ज्ञान होते हैं, इनमें पाँच ज्ञान (सम्यग्ज्ञान) एवं तीन अज्ञान (मिथ्याज्ञान) होते हैं। सात संयम होते हैं और संयम, संयमासंयम तथा असंयम रहित भी स्थान है। दर्शन चार होते हैं। द्रव्य और भाव के भेद से छह लेश्यायें होती हैं और अलेश्यास्थान भी है। भव्यमार्गणा में भव्यसिद्धिक जीव भी होते हैं और अभव्यसिद्धिक भी होते हैं एव भव्यसिद्धिक-अभव्य सिद्धिक इन दोनों विकल्पों से रहित भी स्थान होता है। सम्यक्त्वमार्गणा में छह सम्यक्त्व होते हैं। संज्ञीमार्गणा में संज्ञी जीव भी हैं और असंज्ञी जीव भी हैं तथा संज्ञी-असंज्ञी के विकल्प से रहित स्थान भी हैं। आहारकमार्गणा में आहारी जीव भी हैं एवं अनाहारी जीव भी हैं। उपयोग मार्गणा में साकारोपयोगी जीव भी हैं और अनाकारोपयोगी जीव भी हैं तथा साकार-अनाकार इन दोनों उपयोगों से युपगत् युक्त जीव भी हैं।

इस प्रकार बीस प्ररूपणाओं के उत्तर भेद समूहरूप से कहते हैं-चौदह गुणस्थान, चौदह जीवसमास, छह पर्याप्तियाँ, दश प्राण, चार संज्ञाएं, चौहत्तर मार्गणा और दो उपयोग ये सभी मिलकर कुल एक सौ चौबीस प्ररूपणाएं होती हैं।

मध्यप्रदेश के इंदौर महानगर में गोम्मटगिरि पर्वत पर दशाब्दि महोत्सव के अन्तर्गत वीरनिर्वाणसंवत् पचीस सौ बाईस (२५२२) की चैत्रकृष्णा त्रयोदशी तिथि को भगवान बाहुबली स्वामी की प्रतिमा के एक हजार आठ कलशों से महामस्तकाभिषेक समारोह के समय मैंने वहाँ पंचपरमेष्ठी से संयुक्त ॐकार मंत्र की प्रतिमा विराजमान करने की घोषणा की।

टिप्पणी

  1. उज्जैन शहर में चैत्र कृ. १ दि. ६-३-१९९६ को मेरा क्षुल्लिका दीक्षा दिवस भी था इसी दिन मैंने इस द्वितीय पुस्तक विंशतिप्ररूपणा की टीका करना प्रारंभ किया। इसी दिन जयसिंहपुरा मंदिर के बाहर सभा में यह निर्णय हुआ कि यहाँ उज्जैन में भगवान महावीर स्वामी ने उपसर्ग जीता था। तभी उपसर्ग करने वाले रुद्र ने भगवान को ध्यान में अविचल देखकर ‘महतिमहावीर’ यह नाम घोषित कर भगवान की स्तुति की थी। इसी स्मृति में यहाँ ‘भगवान महावीर तपोभूमि’ नाम से तीर्थ बनाया जावे। भगवान महावीर स्वामी की सात हाथ की खड्गासन मूर्ति विराजमान की जावें तथा यहाँ से संबंधित श्री अकंपनाचार्य और श्री श्रुतसागरमुनि के चरण, हस्तिनापुर में श्री अकंपनाचार्य के संघ पर बलि द्वारा उपसर्ग किये जाने पर उज्जैन से जाकर उपसर्ग दूर करने वाले श्री विष्णुकुमार मुनिराज के चरण भी विराजमान किये जावें। इसी प्रकार सुकुमालमुनि ने यहीं पर उद्यान में स्यालनी के द्वारा किये गये उपसर्ग को सहन कर देवगति प्राप्त की थी। उनके चरण आदि स्थापित किये जावें एवं इन सभी दृश्यों को दिखाने वाली प्रदर्शिनी भी बनायी जावें।

    इसी दिवस यहाँ पर विशाल समारोह के साथ इस ‘महातीर्थ’ हेतु शिलान्यास संपन्न हुआ।
  2. धवलाटीका समन्वित षट्खंडागम पु. २, पृ. ४११।
  3. धवलाटीका समन्वित षट्खंडागम पु. २, पृ. ४११।
  4. षट्खंडागम (धवलाटीका समन्वित)पु. १, सूत्र ९।
  5. षट्खंडागम (धवलाटीका समन्वित)भाग १, सू. २३।
  6. षट्खंडागम, धवलाटीका समन्वित, पु. २, पृ. ४२१।
  7. षट्खंडागम, धवलाटीका समन्वित, पु. २, पृ. ४२१।
  8. १७-३-१९९६ को मेरे सानिध्य में इंदौर-गोम्मटगिरि पर ॐकार प्रतिमा विराजमान करने की घोषणा की गई।