Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०५४.२४ तीर्थंकरों के केवलज्ञान उत्पत्ति के स्थान

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


२४ तीर्थंकरों के केवलज्ञान उत्पत्ति के स्थान

ज्ञानाप्तिःपूर्वतालेन्त्या वृषस्य सकटामुखे।

ऊर्जयन्ते गिरौ नेमेः पार्श्र्वस्याप्याश्रमान्तिके।।२५४।।
वीरस्य केवलोत्पाद ऋजुकुलासरित्तटे।
अन्येषां तु जिनेन्द्राणां स्वोद्यानेषु यथायथम्।।२५५।।

वृषभनाथ भगवान् को पूर्वताल नगर के शकटामुख वन में, नेमिनाथ को गिरिनार पर्वत पर, पार्श्र्वनाथ भगवान को आश्रम के समीप,महावीर भगवान को ऋजुकूला नदी के तट पर और शेष तीर्थंकरों को अपने-अपने नगर के उद्यान में ही केवलज्ञान उत्पन्न हुआ था। (हरिवंशपुराण, सर्ग—६०, पृ. ७२४, ४२५)