Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्यशक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकैतनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०५६.तीर्थंकरों के चैत्यवृक्ष की ऊँचाई का प्रमाण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तीर्थंकरों के चैत्यवृक्ष की ऊँचाई का प्रमाण

चैत्यवृक्षस्तु वीरस्य द्वात्रिंशद्धनुरुच्छ्र्रितः।

देहोत्सेधाच्च शेषाणां स द्वादशगुणो मतः।।२०६।।


भगवान महावीर का चैत्यवृक्ष बत्तीस धनुष उँचा होगा और शेष तीर्थंकरों के चैत्यवृक्षों की ऊँचाई उनके शरीर की ऊँचाई से बारहगुनी मानी गयाी है ।।२०६।।(हरिवंशपुराण पृ. ७२१)