Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्य शक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गाणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकेटनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०५९.पुण्य के ४ भेद हैं

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पुण्य के ४ भेद हैं

पुण्यं जिनेन्द्रपरिपूजनसाध्यमाद्यं पुण्यं सुपात्रगतदानसमुत्थमन्यत्।

पुण्यं व्रतानुचरणदुपवासयोगात् पुण्र्यािथनामिति चतुष्टयमर्जनीयम्।।२१९।।

जिनेन्द्र भगवान् की पूजा करने से उत्पन्न होने वाला पहला पुण्य है, सुपात्र को दान देने से उत्पन्न हुआ दूसरा पुण्य है, व्रत पालन करने से उत्पन्न हुआ तीसरा पुण्य है और उपवास करने से उत्पन्न हुआ चौथा पुण्य है। इस प्रकार पुण्य की इच्छा करने वाले पुरुषों को ऊपर लिखे हुए चार प्रकार के पुण्यों का संचय करना चाहिए।।२१९।। (आदिपुराण भाग—२ पृ. ६०)