ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

01.उत्तमक्षमा धर्म की प्रश्नोत्तरी

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


विषय सूची

[सम्पादन]
दशधर्म प्रश्नोत्तरी

उत्तमक्षमा धर्म की प्रश्नोत्तरी
Kalish Parvat.jpg

[सम्पादन] प्रश्न -१- क्षमा किसे कहते हैं ?

उत्तर - किसी भी विपरीत परिस्थिति में अपने परिणामों में क्रोध उत्पन्न न होना क्षमा है।

[सम्पादन] प्रश्न -२- क्षमा को किसकी उपमा दी है ?

उत्तर- क्षमा को शीतल जल की उपमा दी गई है ।

[सम्पादन] प्रश्न -३- क्षमा को शीतल जल की उपमा क्यों दी गई है ?

उत्तर - क्रोधरूपी अग्नि से सहित मनुष्य को क्षमाशील व्यक्ति क्षण भर में शांत कर देता है इसलिए क्षमा को शीतल जल की उपमा दी गई है।

[सम्पादन] प्रश्न -४- क्षमा धारण करने में सबसे अधिक कौन प्रसिद्ध हुए हैं ?

उत्तर - तेइसवें तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ ।

[सम्पादन] प्रश्न -५- क्षमाशीलता के कोई तीन उदाहरण बताइए ?

  1. कमठ और मरूभूति दो सगे भाई थे । किसी समय कमठ ने मरूभूति की पत्नी से व्यभिचार किया तब राजा ने उसे दण्डित कर देश से निकाल दिया । इस क्रोध के वशीभूत होकर उसने दश भव तक अकारण ही मरूभूति पर घोर उपसर्ग किया परन्तु मरूभूति क्षमाभाव से सब कुछ सहन करके भगवान पार्श्वनाथ बन गए ।
  2. श्री रामचन्द्र वनवास के समय एक बार अरुण ग्राम में कपिल ब्राह्मण के घर पहुंचे। उस समय प्यास से व्याकुल सीता को कपिल की पत्नी ने पानी पिला दिया, तभी वहाँ कपिल ब्राह्मण आकर गाली बकने लगे । लक्ष्मण ने उसे उठाकर गुस्से में आकर जमीन में पटकना चाहा परन्तु रामचन्द्र ने उसे क्षमा प्रदान कर दी । पुनः कालान्तर में उसे धन-सम्मान आदि देकर मालामाल कर दिया ।
  3. ध्यानलीन श्री गजकुमार मुनिराज के सिर पर अंगीठी जला देने पर भी वे विचलित नहीं हुए और क्षमाभाव से इस उपसर्ग को सहन करते-करते परमात्म पद को प्राप्त हो गए ।