ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

02.अथ वास्तुबलिविधानम्

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
अथ वास्तुबलिविधानम्

(वास्तु विधान)

अथ पूर्ववद्वायुकुमारादिप्रयोगेण भूमिसंस्कारः। ततः संकल्पः। अथ पुण्याहवाचना विधेया- (पूर्व के समान वायुकुमार आदि की पूजा करके भूमिशोधन विधि करें पुनः संकल्प करके पुण्याहवाचन विधि करें। अनंतर ब्रह्मस्थाने पद्य पढ़कर दश दिशा में दर्भ स्थापना करें।)

ब्रह्मस्थाने मघोनः ककुभि हुतभुजो धर्मराजस्य रक्षो-राजस्याहींद्रपाणेरवनिर्हभृतः शंभुमित्रस्य शंभोः।।

नागेंद्रस्यामृतांशोरपि सदकलसद्गंधपुष्पादिदूर्वा। दर्भान्वेद्या दिशासु न्यसनमिह महे यज्ञनिर्विघ्नसिद्ध्यै।।1।।
ॐ ह्रीं दर्पमथनाय स्वाहा। दिग्दर्भस्थापनम्।।
(इस पद्य को बोलकर भूमिपूजा करें)

(ॐ) आभिः पुण्याभिर परिमलबहुलेनामुना चंदनेन। श्रीदृक्पेयैरमीभिः शुचिसदकचयैरुद्गमैरेभिरुद्धः।
हृद्यैरेभिर्निवेद्यैर्मखभवनमिमैर्दीपय प्रदीपैः।। धूपैः प्रायोभिरेभिः पृथुभिरपि फलैरेभिरर्चामि भूमिम्।।2।।

ॐ ह्रीं नीरजसे नमः। (शीलगंधाय नमः आदि पूरे मंत्रों से पूजा करें) भूम्यर्चनम्।
वेद्यां मंडलमालिखार्चितसितैश्चूर्णैः सिताकल्पभृत्। नागाधीशधनेशपीतवसना-लंकारपीतैश्च तैः।।
नीलैर्नीरजनीलवेष सुमनो, रक्ताभरक्तैस्ततो। रक्ताकल्पककृष्णमेघविलसन्-कृष्णैश्च कृष्णप्रभ।।3।।

पंचचूर्णस्थापनम्।। (पंचचूर्ण की स्थापना करें अर्थात् पंचवर्णी चूर्ण से मंडल बनावें)
सन्मंगलस्यास्य कृते कृतस्य, कोणेषु बाह्यक्षितिमंडलस्य।
वज्राणि चत्वारि च वज्रपाणिन्, वज्रस्य चूर्णेन लिखाद्य वेद्याम्।।4।।

इति वज्रस्थापनम्।। (मंडल के चारों कोनों पर हीरा स्थापित करें)
अथार्हदीशप्रतिमाप्रतिष्ठा-विधाननिर्विघ्नसमाप्तिसिद्ध्यै। ततोंऽकुरार्चादिवसाच्च पूर्व-दिने क्षपायां विदधीत नांदीम्।।5।।

तत्रापि पूर्वं विदधीत वास्तु-दिवौकमां भेकपदे स्थितानाम्।। तथा परे वा विदधत्सपर्यां, क्रमेण सामान्यविशेषसर्वाम्।।6।।

स्नात्वा समाचम्य समेत्य धाम, कृत्वा तथेर्यापथशोधनं च।। स्तुत्वा च सिद्धान्सकलीविधानं, कृत्वैकतानो विजनप्रदेशे।।7।।

कृत्वा समासाज्जिनराजपूजां, श्रुत्या समाराध्य तथा मुनींद्रान्। गुरोरनुज्ञां शिरसा गृहीत्वा, दत्वा नियोगं परिचारकाणाम्।।8।।

प्रत्यग्रधौतोत्तमशुभ्रवाससा कृत्वांतरीयं च तथोत्तरीयम्। हैमोपवातांगदहारमुद्रिका-किरीटकर्णाभरणादिभूषितः।।9।।

तद्देवपूजासमये समुक्त-मंत्रात्परं वाक्यमभाषमाणः। चतुःपरीचारविधिज्ञयुक्तः, समाहितात्मा यजने प्रवीणः।।10।।

इंद्रः प्रतींद्रेण समं विधाय, पदं क्रियार्थे मखमंडपादौ। पदेत्र दद्यात्पददेवतानां, बलिं सुयोषागणकादिभिः क्रियात्।।11।।

बलिश्च सामान्यविशेषभेदात्-पुरोपदिष्टो द्विविधः पदेशाम्। एकस्तु सव्यंजनपूपभक्तं, शेषस्तु तत्तत्पृथगिष्टिवेद्यः।।12।।

ब्रह्माणमिंद्रादिदिशाधिनाथा-नार्यादिदेवांश्च सविंद्रपूर्वान्। पर्जन्यपर्जन्यदिवौकसाऽपि, विचारिकाद्यांश्च यजेत्क्रमेण।।13।।

दधातु पूजां सकलामराणां, उच्चारयन्मानस एव मंत्रम्। तत्र प्रयुक्तं वचनं च यद्यत्-तन्मंत्रतः प्राक्पठनीयमेव।।14।।
इति प्रारंभनिरूपणम्।।

[सम्पादन]
अथ पुष्पांजलिपुरःसरं ब्रह्मादिवास्तुदेवतानां पृथगिष्टिः।

(अब ब्रह्म आदि वास्तुदेवों की पुष्पांजलिपूर्वक पृथक्-पृथक् पूजा करें) (जिनपूजा में भव्यों को विघ्न नहीं आवें इसलिए वास्तुदेव पूजन के प्रारंभ में पुष्पांजलि क्षेपण करें)

श्रीमज्जैनमहामहोत्सवविधि-व्यापारसंसिद्धये। भव्यानामपि तं नियोगनिचय-श्रद्धापरीतात्मनाम्।

क्षेमार्थं क्रियमाणवस्तुदिविषत्-संघातसंपूजन-प्रस्तावे प्रविकीर्यते जयजया-रावेण पुष्पांजलिः।।1।।

ॐ ह्रीं श्रीं क्षीं भूः स्वाहा।। पुष्पांजलिः।

ॐ-ग्रामक्षेत्रगृहादिभेदविविधो-र्वाभागमध्याश्रय-स्तत्तगपरिच्छिदा बहुविध-स्वात्मप्रदेशो विभुः।
ब्रह्मा दिक्पतिपूर्वदेवनिकरै-रात्मोन्मुखैर्वेष्टितो, लाजाज्यान्वितदुग्धभक्तमधुना, गृण्हातु रक्तप्रभः।।1।।

ॐ ह्रीं ब्रह्मन्! इदं जलादि अघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ-ऐरावतस्कंधमधिश्रयन्तं, वज्रायुधं रुच्यशचीसमेतम्।
प्रत्यूहविध्वंसकमर्हदिष्टौ, कुष्टप्रसूनैः प्रयजामि शक्रम्।।2।।

ॐ ह्रीं इंद्र! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -ज्वालाकलापात्मकशक्तिहस्तो, बस्ताधिरूढः सुपरिष्कृतांगः।
स्वाहामहिष्या सममग्निदेवः, प्रीणातु दुग्धैस्तगरैस्तराज्यैः।।3।।

ॐ ह्रीं अग्ने! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -छायासमेतं महिषाधिरूढं, दंडायुधं दंडितवैरिवर्गम्।
वैवस्वतं विघ्नहरं तिलान्नैः, सिंबान्ययुक्तैः परितर्पयामि।।4।।

ॐ ह्रीं यमदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -नैऋत्यदेशो निऋतिः सुरुक्ष-मृक्षांगवाहद्विषदास्यरक्षः।
आरूढवानु०तमु०रास्त्रः, पिण्याकमायच्छतु तैलमिश्रम्।।5।।

ॐ ह्रीं नैऋत्यदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ करघृतफणिपाशो मंडनोद्योतिताशः, करिमकरकमूर्तिर्लोकसंक्रांतकीर्तिः।
सुरुचिरवरुणानीप्राणनाथः सयूथो, वरुण इह समेतो लातु दुग्धान्नधान्यम्।।6।।

ॐ ह्रीं वरुणदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
 
ॐ -उर्वीरुहोर्वायुधशस्तहस्त-मर्वाधिरूढं परिमंडितांगम्।
तद्वायुवेगीमुखदत्तदृष्टिं, पिष्टैर्निशायाः पवनं यजामि।।7।।

ॐ ह्रीं पवनदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

सद्रत्नरुक्पुष्पितपुष्पकाभ्र-यानाधिरूढस्फुरितोग्रशक्तेः।
सजानियूथ्यव्रजयक्षराज, प्रत्तं मया स्वीकुरु पायसान्नम्।।8।।

ॐ ह्रीं कुबेरदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -उमासमेतो वृषभाधिरूढो, जटाकिरीटप्रणिभूषितांगः।
त्रिशूलहस्तः प्रमथाधिनाथो, गृण्हातु दुग्धान्नमिदं ससर्पिः।।9।।

ॐ ह्रीं ईशानदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -वेधःपुरोदेशमवंतमार्यं, ध्वस्तात्मदेशप्रतिरोधिवीर्यम्।
सत्पूरिकामोदकपूरिकादि-र्भक्ष्यैः प्रहृष्टं विदधे फलैश्च।।10।।

ॐ ह्रीं आर्यदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -ब्रह्मापसव्यं पदमावसानो, भाभासमानो मुकुटादिभाभिः।
स्थामिष्यसंवीतभुजिष्यवर्गो, दीव्येत माषान्नतिलैर्विवस्वान्।।11।।

ॐ ह्रीं विवस्वन्देव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -शत्रुशक्तिविनिवारणक्षमो, मित्ररक्षणविधानदक्षिणः।
प्रत्यगीश इह मित्रनिर्जरः, स्वीकारोतु दधिदूर्विकामपि।।12।।

ॐ ह्रीं मित्रदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -प्रजापतेः सव्यसुधाशिभागे, महीमवंतं महिमानमाप्तम्।
महीधरं मंडनमंडितांगं, महामहस्कं महयामि दुग्धैः।।13।।

ॐ ह्रीं भूधरदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -सविंद्रदेवाय सविक्रमाय, तनूनपात्पक्षमुपाश्रिताय।
वनामरानीकपुरःसराय, ददामि पुंजीकृतधान्यलाजम्।।14।।

ॐ ह्रीं सविंद्रदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -वैश्वानरादित्यमुपाश्रिताय, साविंद्रदेवाय सविक्रमाय।।
कर्पूरकाश्मीरलवंगकुष्टै-रुपस्कृतं पुण्यजलं ददामि।।15।।

ॐ ह्रीं साविंद्रदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
 
ॐ -इंद्रं वनामत्र्यकदंबकेंदंर, मंद्रारवं पुण्यजनस्य पक्षम्।
प्रत्यूहजालं विनिपातयंतं, मु०स्य चूर्णैः प्रयजे सपूपैः।।16।।

ॐ ह्रीं इंद्रदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -इंद्रराजगततंद्रनिर्जितारातिवर्ग जिनवर्गपोषक।
कासराधिपतिपक्षमाश्रिताऽऽदेहि पूपयुतमु०चूर्णकम्।।17।।

ॐ ह्रीं इंद्रराज! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।

ॐ -समीराग्रभूमौ समुसमानं, निजं देशभागं सदा पालयन्तम्।

यजे रुद्रमक्षुद्रवन्यामरेंद्र, गुडापूपवर्गैरुपस्कारयुक्तैः।।18।।
ॐ ह्रीं रुद्रदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -रुद्रजयाख्यं परिमितरौद्र-क्षुद्रनिकायं वनसुरमुख्यम्।

मारुतनिघ्नं गुडपरिपुष्टैः, पिष्टकवर्गैरिह महयामि।।19।।
ॐ ह्रीं रुद्रजयदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -आमोदमाप्नोति गुणाधिकेषु, विद्वेषमुद्वृत्तजनेषु यश्च।

आपः सदेवो गुडपिष्टयुक्तं, सकैरवं शंखमुपैतु शैव।।20।।
ॐ ह्रीं आपदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -धर्मानुरक्ताननुमोदमानं, पापानुषक्तानपसारयन्तम्।

महेश्वरायत्तमिहापवत्सं, संपूजयेयं बलिना तथैव।।21।।
ॐ ह्रीं आपवत्सदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -पर्जन्य पर्जन्यनिनादतुल्य-नादेन दूरीकृतवैरिलोक।

स्वतर्जनीचालनतर्जितात्म-वाचाटभृत्याज्यमुपैहि रौद्र।।22।।
ॐ ह्रीं पर्जन्यदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -जयं तनोति प्रतिरोधिरोधा-न्नयं तनोति स्वजनानुवृत्तेः।

योऽसौ जयंतो हरिदक्षिणस्थो, गृण्हातु पूतं नवनीतमेतत्।।23।।
ॐ ह्रीं जयंतदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -संक्रंदनापष्टुपदेशितारं, तापप्रकाशप्रतिभासमानम्।

तमोपहं भास्करदेवमेतं, कुर्वे प्रहृष्टं मधुकंददानात्।।24।।
ॐ ह्रीं भास्करदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -सत्यामरं नित्यमसत्यदूरं, गोत्रद्विषद्वामपदे वसंतम्।

सद्धर्भनिध्यानकृतप्रमोदं, संपूजये पूर्वसपर्ययैव।।25।।
ॐ ह्रीं सत्यकदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -भृशं विवक्षुर्गुणशास्त्रसंघं, भृशं दिदृक्षुर्मुनिमुख्यसंगम्।

भृशामरः संश्रुतवृत्तशत्रू-रातु प्रमोदान्नवनीतपिंडम्।।26।।
ॐ ह्रीं भृशदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -अथांतरिक्षो विहरन्विनोदं, वनेषु पश्यन्सुजनोपसर्गम्।

नुदन्बृहनुसखोंतरिक्षश्चूर्णं निशामाषजमाददातु।।27।।
ॐ ह्रीं अंतरिक्षदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -पुष्णाति यः सज्जनतोपकारं, मुष्णातु चासज्जनदुर्विलासम्।

कृपीटयोनेः सुहृदेष पूषा, शिंबान्नमेतत्सपर्र्यः (त्सपर्यया) प्रतीच्छेत्।।28।।
ॐ ह्रीं पूषन्देव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -वितथाख्यं वितथीकृतारि-शक्तिप्रदनं साधुजनोपकारदक्षम्।

प्रथितं दंडधराख्यं वरकटावन्नसमर्चितं करोमि।।29।।
ॐ ह्रीं वितथदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -रक्षःपरीवारकसत्वरक्षा-दक्षे सुमार्गे विहितप्रमोदम्।

कलापसव्याश्रयराक्षसेंद्रं, मधुप्रदानात्सुखितो भव त्वम्।।30।।
ॐ ह्रीं राक्षसदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ - सगंधगंधर्वसुपर्वहस्त - प्रशस्तवीणानुगगानगीतं।

गंधर्वदेवं घनसारपूर्व - गंधैः समर्चे यममाश्रयन्तम्।।31।।
ॐ ह्रीं गंधर्वदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -यो विक्रमाक्रांतजनप्रसंगस्तपोधनाधीशपदाब्जभृंगः।

स भृंगराजः श्रितधर्मराजः, पवित्रदुग्धान्नमिदं ससर्पिः।।32।।
ॐ ह्रीं भृंगराजदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -मृषीकृताधर्मपरप्रभावं, मृषोक्तिदूरं मृषनामधेयम्।

रक्षोधिपायात्तमुदारशक्तिं, माषान्नसंतर्पितमातनोतु।।33।।
ॐ ह्रीं मृषदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -तपोधनाजन्यनिवारणार्थं, वनाश्रमद्वारि सदा निषण्णम्।

दौवारिकं सेवितयातुधानं, संतर्पयेऽहं वरशालिपिष्टैः।।34।।
ॐ ह्रीं दौवारिकदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -सुग्रीव यातानुतवीणया वै-गायन्नितांतं गुणिनां गुणौघम्।

सुग्रीवदेवः श्रितपाशहस्तः, प्रमोदवान्मोदकदानतोऽस्तु।।35।।
ॐ ह्रीं सुग्रीवदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -विभांति पुंसां गुणसंकथायां, पुष्पावदाताः खलु यस्य दंताः।

स पुष्पदंतो वरुणान्तिकस्थः, पुष्पाणि गृण्हातु जलान्वितानि।।36।।
ॐ ह्रीं पुष्पदंतदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -असुरः कल्पसुराभविक्रियो, गिरिनद्यादिविहारलोलुपः।

वरुणोपांतमहीमुपाश्रितो, भजतां लोहितमन्नमुत्तमम्।।37।।
ॐ ह्रीं असुरदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -संशुद्धमार्गप्रतिरोधिवाहिनी-शोषं सदा यः कुरुते प्रतापतः।

शोषः सपक्षीकृतयादसांपति-र्लातु प्रघौतं तिलमक्षतांश्च।।38।।
ॐ ह्रीं शोषदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -रोगोपघातांगतपोधनानां, दृष्ट्वा स्थितिं तामनुकंप्यमानाम्।

रोगं मरुत्पक्षकृतानुरागं, सुखाकरोम्युत्तमकारिकाभिः।।39।।
ॐ ह्रीं रोगदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -नागं समाराधितयोगिनागं, नागारिनादेन पलायितारम्।

वातापसव्याश्रयमाश्रयन्तं, मधुप्रदिग्धैर्महयामि लाजैः।।40।।
ॐ ह्रीं नागदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -मुख्यं यजे व्यंतरदेवमुख्यं, यक्षेण सत्रा कृतचारुमुख्यम्।

विख्यातकांतारविहारसक्तं, संतु प्रवेकैर्वरवस्तुयुक्तैः।।42।।
ॐ ह्रीं मुख्यदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -भल्लाटदेवं प्रतिमल्लघट्ट-संघट्टनाविष्कृतसर्वशक्तिम्।

बीरं कुबेरं प्रबलं प्रतीतं, गुडान्नदानेन सुखाकरोमि।।42।।
ॐ ह्रीं भल्लाटदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -मृगगणैस्तपसा वशीकृतै, मृगयते मुनिपन्नमनाय यः।

तमहमत्र मृगं धनदाश्रयं, परिचरामि गुडान्वितपूपकैः।।43।।
ॐ ह्रीं मृगदेव! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -धनदवामधरातलभागभागदितिनंदनमुख्यसुरादृतः।

अदितिरवनामरपूजितो मुदितवान्भवतादिह मोदकैः।।44।।
ॐ ह्रीं अदिते! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -मोचाफला यद्युदितिर्यदास्या-दधेति वाचा विनिवारणार्थम्।

मुमुक्षुसाक्षादुदितिः सुभुंजां, भक्षं तिरोपेतमुमापतीश।।45।।
ॐ ह्रीं उदिते! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -विचारि सत्कृत्यविनोदशक्ते, विचारियुक्ते सुजनानुरक्ते।

कृशानुबाह्यावनिभागभुक्त्यै, गृहाण भक्ष्यं लवणोपयुक्तम्।।46।।
ॐ ह्रीं विचारि! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -कायेन वाचा मनसा पवित्र-मावर्जयंती तपसामधीशं।

रक्षोबहिःस्था तिलपिष्टभुक्त्या, संतुष्यतां संप्रति पूतनाख्या।।47।।
ॐ ह्रीं पूतने! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -पापान्महापूरुषकारिणो या, या राक्षसीरूपधरा ह्यतर्जत्।

सा मारुताशावनिबाह्यसंश्रिता, कुल्माषमायच्छतु पापराक्षसी।।48।।
ॐ ह्रीं पापराक्षसि! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -यत्र यत्र मुनयो वसंति ते, तत्र तत्र तदजन्यवारणे।

या चरत्यनिशमीशबाह्यतः, सा ददातु चरकी घृतं मधु।।49।।
ॐ ह्रीं चरकि! इदं जलाद्यघ्र्यं गृहाण गृहाण स्वाहा।
ॐ -एते वास्तुसुराः समस्तधरणी-संवासिनोऽबाधिता-प्रत्यूहस्य विधायिनस्तपचिताः प्रत्यूहसंहारकाः।।

अद्य प्रापितपूजनेन मुदिताः, सर्वप्रभावान्विताः। यष्टुर्याजकभूपमंत्रिशुभवर्णानां च संतु श्रियै।।50।।
ॐ पूर्णाघ्र्यः। (ॐ सर्ववास्तुदेवाः पूर्णाघ्र्यं गृण्हीध्वं गृण्हीध्वं स्वाहा।)
इत्थं प्रार्थनया प्रगृह्य विदितं सामान्यमन्यं बलिम्। सर्वे वास्तुसुराः प्रसीदत भवव्यांतरायास्तु ये।।

गेहे धाम्नि विधित्सिते च विविधोत्साहेऽथवा विष्टपे। सन्त्येतान्सकलान्निवारयत तत्सर्वं सदा रक्षत।।51।।
एवं जिनाधीश्वरयज्ञकाले, संतर्पिताः स्वस्वविभूतियुक्ताः।

वन्यामराः किन्नरदेवमुख्या, कुर्वन्तु शांतिं जिनभाक्तिकानाम्।।52।।
ॐ -संपूजिता इत्यसुरेंद्रमुख्याः, महामहिम्नि प्रतिभासमानाः।

दशप्रकारोदितभावनेंद्राः, कुर्वंतु शांतिं जिनभाक्तिकानाम्।।53।।
ॐ -मुख्याविभौ चंद्रदिवाकरौ च, शेषग्रहा अश्वयुगादिताराः।

प्रकीर्णका ज्योतिरमत्र्यवर्गाः, कुर्वन्तु शांतिं जिनभाक्तिकानाम्।।54।।
जिनेंद्रचंद्रस्य महामहेऽस्मिन्, संपूजिताः कल्पनिकायवासाः।

सौधर्ममुख्यास्त्रिदशाधिनाथाः, कुर्वन्तु शांतिं जिनभाक्तिकानाम्।।55।।
ॐ -पृथ्वीविकारात्सलिलप्रवेशा-दग्नेश्च दाहात्पवनप्रकोपात्।

चैरप्रयोगादपि वास्तुदेवश्-चैत्यालयं रक्षतु सर्वकालम्।।56।।
तिर्यक्प्रचारादशनिप्रघाताद्-बीजप्ररोहाद् दु्रमखंडपातात्।
कीटप्रवेशादपि वास्तुदेवश्-चैत्यालयं रक्षतु सर्वकालम्।।
इष्टप्रार्थनाय पुष्पांजलिः।।
।। इति वास्तुबलिविधानम्।।