Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पू० गणिनी श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ मांगीतुंगी के (ऋषभदेव पुरम्) में विराजमान हैं |

03.इन्द्रियमार्गणा अधिकार

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्द्रियमार्गणा अधिकार

अथ इन्द्रियमार्गणाधिकार:

अधुना इन्द्रियमार्गणायां स्वामित्वनिरूपणाय प्रश्नोत्तररूपेण सूत्रद्वयमवतार्यते—
इंदियाणुवादेण एइंदिओ बीइंदिओ तीइंदिओ चउिंरदिओ पंचिंदिओ णाम कधं भवदि ?।।१४।।
खओवसमियाए लद्धीए।।१५।।
सिद्धांतचिंतामणिटीका—अत्र नामादिनिक्षेपान् नैगमादिनयान् औदयिकादिकान् चाश्रित्य पूर्ववत् इंद्रियस्य चालना कर्तव्या। इन्द्रस्य लिंगं इन्द्रियं। इन्द्रो जीवः, तस्य लिंगं ज्ञापनार्थं सूचकं यत् तदिन्द्रियं इति कथितं भवति।
कथमेकेन्द्रियत्वं क्षायोपशमिकं ?
उच्यते, स्पर्शनेन्द्रियावरणस्य सर्वघातिस्पर्धकानां सत्त्वोपशमेन देशघातिस्पर्धकानामुदयेन चक्षुः- श्रोत्रघ्राणजिह्वा-इन्द्रियावरणकर्मणां देशघातिस्पर्धकानामुदयक्षयेण तेषां चैव सत्त्वोपशमेन तेषां सर्वघाति-स्पर्धकानामुदयेन यः उत्पन्नो जीवपरिणामः सः क्षायोपशमिकः उच्यते, पूर्वोक्तानां स्पर्धकानां क्षायोपशमिवै उत्पन्नत्वात्। तस्य जीवपरिणामस्य एकेन्द्रियमिति संज्ञा। एतेन एकेन इन्द्रियेण यो जानाति पश्यति सेवते जीवः स एकेन्द्रियो नाम।
सर्वघातित्वं देशघातित्वं च नाम किमिति चेत् ?
कर्मणी द्विविधे-घातिकर्म अघातिकर्म चैव। ज्ञानावरण-दर्शनावरण-मोहनीय-अन्तरायाणि घातिकर्माणि, वेदनीय-आयुः नाम-गोत्राणि अघातिकर्माणि।
ज्ञानावरणादीनां कथं घातिव्यपदेशः ?
न, केवलज्ञान-दर्शन-सम्यक्त्व-चारित्र-वीर्याणामनेकभेदभिन्नानां जीवगुणानां विरोधित्वेन तेषां घातिव्य-पदेशात्।
शेषकर्मणां घातिव्यपदेशः किन्न भवति ?
न, तेषां जीवगुणविनाशनशक्तेरभावात्।
कुतः ?
न आयुः जीवगुणविनाशकं, तस्य भवधारणे व्यापारात्। न गोत्रं जीवगुणविनाशकं, तस्य नीचोच्चकुल-समुत्पादने व्यापारात्। न क्षेत्रपुद्गलविपाकिनामकर्माण्यपि, तेषां क्षेत्रादिषु प्रतिबद्धानामन्यत्र व्यापारविरोधात्।,
जीवविपाकिनामकर्मवेदनीयकर्मणोः घातिकर्मव्यपदेशः किन्न भवति ?
न, अनात्मभूत-सुभग-दुर्भगादिपर्यायसमुत्पादने व्यापृतानां जीवगुणविनाशकविरोधात्।
जीवस्य सुखं विनाश्य दुःखोत्पादकं असातवेदनीयं घातिव्यपदेशं किन्न लभते ?
न, तस्य घातिकर्मसहायस्य घातिकर्मभिः विना स्वकार्यकरणे असमर्थस्य सतः तत्र प्रवृत्तिर्नास्तीति ज्ञापनार्थं तद्व्यपदेशाकरणात्।
तत्र घातिनामनुभागो द्विविधः-सर्वघातकः देशघातकश्च।
उक्तं च- सव्वावरणीयं पुण उक्कस्सं होदि दारुगसमाणे ।
हेट्ठा देसावरणं सव्वावरणं च उवरिल्लं।।
णाणावरणचदुक्कं दंसणतिगमंतराइगा पंच।
ता होंति देसघादी संजलणा णोकसाया य।।
स्पर्शनेन्द्रियावरणस्य सर्वघातिस्पर्धकानामुदयक्षयेण तेषां चैव सत्त्वोपशमेन अनुदयोपशमेन वा देशघाति-स्पर्धकानामुदयेन जिह्वेन्द्रियावरणस्य सर्वघातिस्पर्धकानामुदयक्षयेण तेषां चैव सत्त्वोपशमेन अनुदयोपशमेन वा देशघातिस्पर्धकानामुदयेन चक्षुःश्रोत्रघ्राणेन्द्रियावरणानां देशघातिस्पर्धकानामुदयेन तेषां चैव सत्त्वोपशमेन अनुदयोपशमेन वा सर्वघातिस्पर्धकानामुदयेन क्षायोपशमिकं जिह्वेन्द्रियं समुत्पद्यते। स्पर्शनेन्द्रियाविनाभावेन तच्चैव जिह्वेन्द्रियं द्वीन्द्रियं इति भण्यते, द्वीन्द्रियजातिनामकर्मोदयाविनाभावाद् वा। तेन द्वीन्द्रियेण द्वाभ्यामिन्द्रियाभ्यां वा युक्तो जीवो द्वीन्द्रियो नाम तेन क्षायोपशमिकायाः लब्ध्याः द्वीन्द्रियः इति सूत्रे भणितम् ।
एवमेव त्रीन्द्रियाणां चतुरिन्द्रियाणां पंचेन्द्रियाणां च जीवानां लक्षणं वक्तव्यमत्र।
स्पर्शनरसनाघ्राणचक्षुःश्रोेत्रेन्द्रियावरणानि प्रकृतिसमुत्कीर्तनायां नोपदिष्टानि, कथं तेषामिह निर्देशः ?
न, स्पर्शनेन्द्रियावरणादीनां मति-आवरणे अन्तर्भावात्। न च पंचेन्द्रियक्षयोपशमं तत्तः समुत्पन्नज्ञानं वा मुक्त्वा अन्यं मतिज्ञानं अस्ति येनेन्द्रियावरणेभ्यो मतिज्ञानावरणं पृथग्भूतं भवेत्। न चैतेभ्यः पृथग्भूतं नोइन्द्रियं अस्ति येन नोइन्द्रियज्ञानस्य मतिज्ञानत्वं भवेत्।
नोइन्द्रियावरणक्षयोपशमजनितं नोइन्द्रियमिति, ततः उक्तपंचेन्द्रियेभ्यः पृथग्भूतं इति चेत् ?
यद्येवं तर्हि न ततः समुत्पन्नज्ञानं मतिज्ञानं, मतिज्ञानावरणक्षयोपशमेन अनुत्पन्नत्वात्। ततो मतिज्ञानाभावेन मतिज्ञानावरणस्यापि अभावो भवेत्। तस्मात् षण्णामिन्द्रियाणां क्षयोपशमः तत्तः समुत्पन्नज्ञानं वा मतिज्ञानं, तस्यावरणं मतिज्ञानावरणं इति एषितव्यं अन्यथा मत्यावरणस्याभावप्रसंगात्।
कश्चिदाह-एकेन्द्रियादीनामौदयिकःभावो वक्तव्यः, एकेन्द्रियजात्यादिनामकर्मोदयेन एकेन्द्रियादि-भावोपलंभात्। यद्येवं न मन्येत तर्हि सयोगि-अयोगिजिनयोः पंचेन्द्रियत्वं न लभ्यते, क्षीणावरणे पंचानामिन्द्रियाणां क्षयोपशमाभावात्। न च तेषां पंचेन्द्रियत्वाभावः, ‘‘पंचिंदिएसु समुग्घादपदेण असंखेज्जेसु भागेसु सव्वलोगे वा’’ इति सूत्रविरोधात् ?
अत्र परिहारः उच्यते-एकेन्द्रियादीनां भावः औदयिको भवत्येव, एकेन्द्रियजात्यादिनामकर्मोदयेन तेषामुत्पत्तिदर्शनात्। एतस्मात् चैव सयोगि-अयोगिजिनयोः पंचेन्द्रियत्वं युज्यते इति जीवस्थानमपि उपपन्नं। किंतु क्षुद्रकबंधे सयोगि-अयोगिजिनयोः शुद्धनयेन अनिन्द्रिययोः पंचेन्द्रियत्वं यदि इष्यते तर्हि व्यवहारनयेन वक्तव्यं।
तद्यथा-पंचसु जातिषु यानि प्रतिबद्धानि पंचे्िरन्द्रयाणि तानि क्षायोपशमिकानि इति कृत्वा उपचारेण पंचापि जातयः क्षायोपशमिकाः इति कृत्वा सयोगि-अयोगिजिनानां क्षायोपशमिकं पंचेन्द्रियत्वं युज्यते। अथवा क्षीणावरणे-नष्टेऽपि पंचेन्द्रियक्षयोपशमे क्षयोपशमजनितानां पंचानां बाह्येन्द्रियाणामुपचारेण लब्धक्षयोपशमसंज्ञानां अस्तित्वदर्शनात् सयोगि-अयोगिजिनानां पंचेन्द्रियत्वं साधयितव्यं।
अधुना अनिन्द्रियाणां स्वामित्वकथनाय प्रश्नोत्तररूपेण सूत्रद्वयमवतार्यते—
अणिंदिओ णाम कधं भवदि ?।।१६।।
खइयाए लद्धीए ।।१७।।
सिद्धांतचिंतामणिटीका—अत्र पूर्ववत् नयनिक्षेपान् आश्रित्य चालना कर्तव्या।
अत्र कश्चिदाशंकते-इन्द्रियमये शरीरे विनष्टे इन्द्रियाणामपि नियमेन विनाशः, अन्यथा शरीरेन्द्रियाणां पृथग्भावप्रसंगात्। इन्द्रियेषु विनष्टेषु ज्ञानस्य विनाशः, कारणेन विना कार्योत्पत्तिविरोधात्। ज्ञानाभावे जीवविनाशः, ज्ञानाभावेन निश्चेतनत्वप्राप्तस्य जीवत्वविरोधात्। जीवाभावे न क्षायिका लब्धिः अपि, परिणामिना विना परिणामानामस्तित्वविरोधात् इति ?
अस्य परिहार उच्यते-नेदं कथनं युज्यते, जीवो नाम ज्ञानस्वभावः, अन्यथा जीवाभावप्रसंगात्।
भवतु चेत् ?
न, प्रमाणाभावे प्रमेयस्यापि अभावप्रसंगात्। न चैवं, तथानुपलंभात्। तस्मात् ज्ञानस्य जीवः उपादानकारणमिति गृहीतव्यं। तच्च ज्ञानं उपादेय यावद्द्रव्यभावि, अन्यथा द्रव्यनियमाभावात्। ततः इन्द्रियविनाशे न ज्ञानस्य विनाशः इति निश्चेतव्यः।
ज्ञानसहकारिकारणेन्द्रियाणामभावे कथं ज्ञानस्यास्तित्वं इति चेत् ?
न, ज्ञानस्वभावस्य पुद्गलद्रव्यानुत्पन्नत्वात्, तथा च उत्पाद-व्यय-ध्रुवत्वलक्षणलक्षितजीवद्रव्यस्य विनाशाभावात्। न चैकं कार्यं एकस्मादेव कारणात् सर्वत्र उत्पद्यते, खदिर-धव-गोमय-सूर्यकिरण-सूर्यकान्तमणिभ्यः समुत्पद्यमानैकाग्निकार्योपलंभात्। न च छद्मस्थावस्थायां ज्ञानकारणत्वेन प्रतिपन्नेन्द्रियाणि क्षीणावरणे भिन्नजातीयज्ञानोत्पत्तौ सहकारिकारणं भवन्तीति नियमः, अतिप्रसंगात्, अन्यथा मोक्षाभावप्रसंगात्। न च मोक्षाभावोऽस्ति, बंधकारणप्रतिपक्षत्रिरत्नानामुपलंभात्। कारणं स्वकार्यं सर्वत्र न करोतीति नियमोऽपि नास्ति, तथानुपलंभात्। तस्मात् अनिन्द्रियेषु जीवेषु करण-क्रम-व्यवधानातीतं ज्ञानमस्तीति गृहीतव्यं । न च तज्ज्ञानं निष्कारणं आत्मार्थसन्निधानेन तदुत्पत्तेः। सर्वकर्मणां क्षयेण उत्पन्नत्वात् क्षायिक्याः लब्धेः अनिन्द्रियत्वं भवतीति ज्ञातव्यं।
तात्पर्यमेतत्-ज्ञानं स्वयं पंगुवत् वर्तते, सम्यग्दर्शनं यदि भवेत् तर्हि तदेव ज्ञानं सम्यग्ज्ञानं भवति पुनश्च यदि सम्यक्चारित्रं उत्पद्येत तर्हि तदेव ज्ञानं अवधिमनःपर्ययकेवलज्ञानरूपेणापि परिणमते अतःकेवलज्ञानरूपमनिन्द्रियज्ञानं एवोपादेयं तस्मात् केवलज्ञानोपलब्धये रत्नत्रयाराधना कर्तव्यास्ति भवद्भि:, संततं पुरूषार्थं कृत्वा तदेव रत्नत्रयं गृहीतव्यं ।
एवं द्वितीयस्थले इन्द्रियमार्गणायां स्वामित्वनिरूपणत्वेन सूत्रचतुष्टयं गतम्।
इति श्री षट्खण्डागमग्रन्थे द्वितीयखण्डे प्रथमे महाधिकारे सिद्धांतचिंतामणिटीकायां इन्द्रियमार्गणानाम द्वितीयोऽधिकार: समाप्त:।

अथ इन्द्रियमार्गणा अधिकार

अब इन्द्रियमार्गणा में स्वामित्व का निरूपण करने हेतु प्रश्नोत्तररूप से दो सूत्र अवतरित होते हैं- सूत्रार्थ-

इन्द्रियमार्गणानुसार एकेन्द्रिय, द्वीन्द्रिय, त्रीन्द्रिय, चतुरिन्द्रिय व पंचेन्द्रिय जीव कैसे होता है ?।।१४।।

क्षायोपशमिक लब्धि से जीव एकेन्द्रिय, द्वीन्द्रिय, त्रीन्द्रिय, चतुरिद्रिय और पंचेन्द्रिय सिद्ध होता है।।१५।।

सिद्धान्तचिंतामणिटीका-यहाँ पर नामादि निक्षेपों, नैगमादि नयों और औदायिकादि भावों का आश्रय करके पहले के समान इन्द्रिय की चालन करना-कथन करना चाहिए। इन्द्र के चिन्ह को इन्द्रिय कहते हैं। इन्द्र-जीव, उसका जो चिन्ह अर्थात् ज्ञापक या सूचक है, वह इन्द्र है ऐसा कहा जाता है।

शंका-एकेन्द्रियपना क्षायोपशमिक किस कारण से होता है ?

'समाधान-'उसके बारे में कहते हैं, स्पर्शनेन्द्रियावरण कर्म के सर्वघाती स्पर्धकों के सत्वोपशम से उसी के देशघाती स्पर्धकों के उदय से चक्षु, श्रोत्र, घ्राण और जिव्हा इन्द्रियावरण कर्मों के देशघाती स्पर्धकों के उदय क्षय से, उन्हीं कर्मों के सत्त्वोपशम से तथा सर्वघाती स्पर्धकों के उदय से जो जीवपरिणाम उत्पन्न होता है। उस जीव के परिणाम की ‘एकेन्द्रिय’ संज्ञा है। इस एक अर्थात् प्रथम इन्द्रिय के द्वारा जो जानता है, देखता है, सेवन करता है, वह जीव एकेन्द्रिय होता है।

'शंका-'सर्वघातीपना और देशघातीपना किसे कहते हैं ?

समाधान-कर्म दो प्रकार के हैं-घातिया कर्म और अघातिया कर्म। ज्ञानावरण, दर्शनावरण, मोहनीय और अन्तराय ये चार घातिया कर्म हैं तथा वेदनीय, आयु, नाम और गोत्र ये चार अघातिया कर्म हैं।

शंका-ज्ञानावरण आदि की घाति संज्ञा किस कारण से है ?

समाधान-नहीं, क्योंकि केवलज्ञान, केवलदर्शन, सम्यक्त्व, चारित्र और वीयरूप जो अनेक भेदों से भिन्न जीवगुण हैं, उनके उक्त धर्म विरोधी अर्थात् घातक होते हैं और इसीलिए वे घातिकर्म कहलाते हैं।

शंका-शेष कर्मों की भी घातिकर्म संज्ञा क्यों नहीं है ?

समाधान-नहीं, क्योंकि उनमें जीव के गुणों का विनाश करने की शक्ति नहीं पाई जाती।

शंका-किस कारण से उनमें जीव के गुणों के विनाश की शक्ति नहीं पाई जाती है ?

समाधान-क्योंकि, आयुकर्म जीवों के गुणों का विनाशक नहीं है, कारण कि उसका काम तो भव धारण कराने का है। गोत्र कर्म भी जीवगुण विनाशक नहीं है, उसका काम नीच और उच्च कुल में उत्पन्न कराना है। क्षेत्रविपाकी और पुद्गलविपाकी नामकर्म भी जीवगुण विनाशक नहीं हैं, क्योंकि क्षेत्रादिकों में प्रतिबद्ध होने से अन्यत्र उनका व्यापार मानने में विरोध आता है।

शंका-जीवविपाकी नामकर्म एवं वेदनीय कर्मों को घाति कर्म संज्ञा क्यों नहीं होती है ?

समाधान-नहीं, उनका काम जीव की अनात्मभूत सुभग, दुर्भग आदि पर्यायें उत्पन्न कराने में व्यापार करना है, इसलिए उन्हें जीवगुणविनाशक मानने में विरोध आता है।

शंका-जीव के सुख को नष्ट करके दु:ख उत्पन्न करने वाला असाता वेदनीय घातिकर्म संज्ञा को क्यों नहीं प्राप्त करता है ?

समाधान-नहीं, क्योंकि घातिया कर्मों की सहायता से होने वाला वह घातिया कर्मों के बिना अपना कार्य करने में असमर्थ है तथा होकर के भी उसकी दु:ख उत्पन्न करने में प्रवृत्ति नहीं होती, इसी घात को बतलाने के लिए असातावेदनीय कर्म को घाति संज्ञा नहीं प्राप्त है।

इन कर्मों में घातिया कर्मों का अनुभाग दो प्रकार का है-सर्वघातक और देशघातक। कहा भी है-

गाथार्थ-घातिया कर्मों की जो अनुभाग शक्ति लता, दारू, अस्थि और शैल समान कही गई है, उसमें दारू तुल्य से ऊपर अस्थि और शैल तुल्य भागों में तो उत्कृष्ट सर्वावरणीय शक्ति पाई जाती है, किन्तु दारूसम भाग के निचले अनन्तिम भाग में व उससे नीचे सब लतातुल्य भाग में देशावरण शक्ति है तथा ऊपर के अनन्त बहुभागों में सर्वावरण शक्ति है।।१।।

मति, श्रुत, अवधि और मन:पर्यय ये चार ज्ञानावरण, चक्षु, अचक्षु और अवधि ये तीन दर्शनावरण, दान, लाभ, भोग, उपभोग और वीर्य, ये पाँचों अन्तराय तथा संज्वलन चतुष्क और नवनोकषाय, ये तेरह मोहनीय कर्म देशघाती होते हैं।।२।।

स्पर्शेन्द्रियावरण के सर्वघाती स्पधकों के उदयक्षय से, उन्हीं के सत्वोपशम से अथवा अनुदयोपशम से, देशघाती स्पर्धकों के उदय से जिव्हेन्द्रियावरण के सर्वघाती स्पर्धकों के उदयक्षय से, उन्हीं के सत्त्वोपशम से अथवा अनुदयोपशम से और देशघाती स्पर्धकों के उदय से एवं चक्षु, श्रोत्र व घ्राणेन्द्रियावरणों के देशघाती स्पर्धकों के उदय से क्षायोपशमिक जिव्हेन्द्रिय उत्पन्न होती है। स्पर्शेन्द्रिय का अग्निभाव होने से अथवा द्वीन्द्रिय जाति नामकर्मोदय का अविनाभाव होेने से जिव्हेन्द्रिय को द्वितीय इन्द्रिय कहते हैं, चूँकि उक्त द्वितीय इन्द्रिय से अथवा दो इन्द्रियों से युक्त होने के कारण जीव द्वीन्द्रिय होता है, इसलिए ‘क्षयोपशमिक लब्धि से जीव द्वीन्द्रिय होता है’ ऐसा सूत्र में कहा गया है।

इसी प्रकार यहाँ तीन इन्द्रिय, चार इन्द्रिय और पंचेन्द्रिय जीवों का लक्षण जानना चाहिए।

शंका-स्पर्शन, जिव्हा, घ्राण, चक्षु और श्रोत्र इन्द्रियावरणों का प्रकृति समुत्कीर्तन अधिकार में तो उपदेश नहीं दिया गया, फिर यहाँ उनका निर्देश कैसे किया जाता है ?

समाधान-नहीं, क्योंकि उन स्पर्शनेन्द्रियादिक आवरणों का मति आवरण में ही अन्तर्भाव होने से वहाँ उनके पृथक् उपदेश की आवश्यकता नहीं समझी गई। पंचेन्द्रियों के क्षयोपशम को वा उससे उत्पन्न हुए ज्ञानों को छोड़कर अन्य कोई मतिज्ञान है ही नहीं, जिससे इन्द्रियावरणों से मतिज्ञानावरण पृथग्भूत होवे और न इन पाँचों इन्द्रियों से पृथग्भूत नोइन्द्रिय है, जिससे नोइन्द्रियज्ञान को मतिज्ञानपना प्राप्त होवे।

शंका-नोइन्द्रियावरण के क्षयोपशम से उत्पन्न होने वाली नोइन्द्रिय उक्त पाँच इन्द्रियों से पृथग्भूत ही है ?

समाधान-यदि ऐसा है, तो वे इन्द्रियज्ञान भी नहीं है और उनसे उत्पन्न होने वाला ज्ञान मतिज्ञान नहीं है, क्योंकि वह मतिज्ञानावरण के क्षयोपशम से नहीं उत्पन्न हुआ है। इस प्रकार मतिज्ञान के अभाव से मतिज्ञानावरण का भी अभाव हो जायेगा। इसलिए छहों इन्द्रियों का क्षयोपशम अथवा उस क्षयोपशम से उत्पन्न हुआ ज्ञान मतिज्ञान है और उसका आवरण मतिज्ञानावरण है, ऐसा मानना चाहिए। अन्यथा मतिज्ञानावरण के अभाव का प्रसंग आ जायेगा।

यहाँ कोई शंका करता है कि-एकेन्द्रियादिकों में औदयिक भाव कहना चाहिए, क्योंकि एकेन्द्रियजाति आदिक नामकर्म के उदय से एकेन्द्रियादिक भाव पाये जाते हैं। यदि ऐसा न माना जायेगा, तो सयोगी और अयोगी जिनों के पंचेन्द्रियपना नहीं बनेगा, क्योंकि उनके आवरण के क्षीण हो जाने पर पाँचों इन्द्रियों के क्षयोपशम का भी अभाव हो गया है और सयोगि-अयोगी जिनों के पंचेन्द्रियपने का अभाव होता नहीं है, क्योंकि वैसा मानने पर ‘‘पंचेन्द्रिय जीवों की अपेक्षा समुद्घात पद के द्वारा लोक के असंख्यात बहुभागों में और सर्वलोक में जीव रहते हैं’’ इस सूत्र से विरोध आ जायेगा। उसी का समाधान करते हैं कि-एकेन्द्रियादि जीवों का भाव औदयिक तो होता ही है, क्योंकि एकेन्द्रियादि आदि नामकर्मों के उदय से उनकी उत्पत्ति देखी जाती है और इसी से सयोगी व अयोगी जिनों का पंचेन्द्रियपना बन जाता है और इस प्रकार वह जीवस्थान भी बन जाता है। किन्तु इस क्षुद्रकबंध खंड में शुद्ध- नय से अनिन्द्रिय कहे जाने वाले सयोगी और अयोगी जिनों के यदि पंचेन्द्रियपना कहना है, तो वह केवल व्यवहार नय से ही कहना चाहिए।

वह इस प्रकार है-पाँच जातियों में जो क्रमश: पाँच इन्द्रियों का संबंध हैं वे क्षायोपशमिक हैं ऐसा मानकर उपचार से पाँचों जातियों को भी क्षयोपशमिक स्वीकार करके सयोगी और अयोगी जिनों के क्षयोपशमिक पंचेन्द्रियपना सिद्ध हो जाता है। अथवा आवरण के क्षीण होने पर-नष्ट होने पर भी पंचेन्द्रियों के क्षायोपशमरूप होने पर क्षयोपशम से उत्पन्न और उपचार से क्षायोपशमिक संज्ञा को प्राप्त पाँचों बाह्येन्द्रियों का अस्तित्व पाये जाने से सयोगी और अयोगी जिनों के पंचेन्द्रियपना सिद्ध कर लेना चाहिए।

अब अनिन्द्रिय जीवों का स्वामित्व बतलाने हेतु प्रश्नोत्तररूप में दो सूत्र अवतरित होते हैं-

सूत्रार्थ-

जीव अनिन्द्रिय किस कारण से होता है ?।।१६।।

क्षायिक लब्धि से जीव अनिन्द्रिय होता है।।१७।।

सिद्धान्तचिंतामणिटीका-यहाँ पहले के समान नयों और निक्षेपों का आश्रय लेकर चालना करना-कथन करना चाहिए।

यहाँ कोई शंकाकार कहता है कि-इंद्रियमय शरीर के विनष्ट हो जाने पर इन्द्रियों का भी नियम से विनाश होता है, अन्यथा शरीर और शरीर के पृथग्भाव का प्रसंग प्राप्त हो जाएगा। इन्द्रियों के विनष्ट हो जाने पर ज्ञान का विनाश हो जाता है। क्योंकि कारण के बिना कार्य की उत्पत्ति मानने में विरोध आता है और ज्ञान के अभाव में जीव का विनाश हो जायेगा, ज्ञान का अभाव होने से निश्चेतनपने को प्राप्त हुए पदार्थ के जीवत्व मानने में विरोध आता है। जीव का अभाव हो जाने पर क्षायिक लब्धि भी नहीं हो सकती, क्योंकि परिणामी के बिना परिणामों का अस्तित्व मानने में विरोध आता है ?

इसका समाधान करते हैं कि-यहाँ यह शंका उपयुक्त नहीं है, क्योंकि जीव ज्ञानस्वभावी है, अन्यथा जीव के अभाव का प्रसंग प्राप्त हो जाएगा। शंका-प्रसंग प्राप्त हो तो होता रहे ?

समाधान-यह कहना ठीक नहीं है, क्योंकि प्रमाण के अभाव में प्रमेय के भी अभाव का प्रसंग प्राप्त होता है और प्रमेय का अभाव है नहीं, क्योंकि वैसा पाया नहीं जाता है। इससे यही ग्रहण करना चाहिए कि ज्ञान का जीव उपादान कारण है और वह ज्ञान उपादेय है जो कि यावत् द्रव्यात्मकी अर्थात् पूरे जीवद्रव्य में व्याप्त होकर रहता है। अन्यथा द्रव्य के नियम का अभाव होता है। इसलिए इन्द्रियों का विनाश हो जाने पर ज्ञान का विनाश नहीं होता है, ऐसा निश्चय करना चाहिए।

शंका-ज्ञान के सहकारी कारणभूत इन्द्रियों के अभाव में ज्ञान का अस्तित्व किस प्रकार हो सकता है ?

समाधान-नहीं, क्योंकि ज्ञानस्वभाव पुद्गलद्रव्य से उत्पन्न नहीं होता तथा उत्पाद, व्यय एवं ध्रौव्य से उपलक्षित जीवद्रव्य का विनाश नहीं होता है अत: इन्द्रियों के अभाव में भी ज्ञान का अस्तित्व ही बना रहता है। एक कार्य सर्वत्र एक ही कारण से उत्पन्न नहीं होता, क्योंकि खदिर, शीशम, धव, गोबर, सूर्यकिरण व सूर्यकान्त मणि इन अनेक कारणों से एक अग्निरूप कार्य उत्पन्न होता देखा जाता है तथा छद्मस्थावस्था में ज्ञान के कारणरूप से स्वीकार की गई इन्द्रियाँ क्षीणावरण जीव के भिन्न जातीय ज्ञान की उत्पत्ति में सहकारी कारण हों, ऐसा नियम नहीं है, क्योंकि ऐसा मानने पर अतिप्रसंग दोष प्राप्त होता है अन्यथा मोक्ष के अभाव का प्रसंग प्राप्त होता है और मोक्ष का अभाव है नहीं। क्योंकि, बंधकारणों के प्रतिपक्षी रत्नत्रय की उपलब्धि हो रही है और कारण सर्वत्र अपना कार्य नहीं करता है ऐसा नियम भी नहीं है, क्योंकि वैसा पाया नहीं जाता। इस कारण अनिन्द्रिय जीवों में करण, क्रम और व्यवधान से अतीत ज्ञान होता है, ऐसा ग्रहण करना चाहिए। यह ज्ञान निष्कारण भी नहीं है, क्योंकि आत्मा और पदार्थ के सन्निधान से वह उत्पन्न होता है। इस प्रकार समस्त कर्मों के क्षय से उत्पन्न होने के कारण क्षायिक लब्धि के द्वारा ही जीव अनिन्द्रिय होता है, ऐसा जानना चाहिए।

तात्पर्य यह है कि-ज्ञान स्वयं में पंगु-लंग़ड़े के समान होता है, यदि उसके साथ सम्यग्दर्शन हो जाता है तब वही ज्ञान सम्यग्ज्ञान हो जाता है और यदि सम्यक् चारित्र उत्पन्न हो जाता है। तभी वह ज्ञान अवधिज्ञान-मन:पर्यय ज्ञान और केवलज्ञानरूप से भी परिणमित हो जाता है अत: केवलज्ञानरूप अनिन्द्रियज्ञान ही उपादेय है, इसलिए केवलज्ञान की प्राप्ति करने हेतु रत्नत्रय की आराधना करने योग्य है अत: आप सभी को सतत पुरुषार्थ करके उसी रत्नत्रय को ग्रहण करना चाहिए।

इस प्रकार द्वितीय स्थल में इन्द्रियमार्गणा में स्वामित्व का निरूपण करनेवाले चार सूत्र पूर्ण हुए।

इस प्रकार श्री षट्खण्डागम ग्रंथ के द्वितीय खण्ड में प्रथम महाधिकार की सिद्धान्तचिंतामणिटीका में इन्द्रियमार्गणा नाम का द्वितीय अधिकार समाप्त हुआ।