ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

03.उत्तम आर्जव धर्म की प्रश्नोत्तरी

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विषय सूची

[सम्पादन]
दशधर्म प्रश्नोत्तरी

उत्तम आर्जव धर्म की प्रश्नोत्तरी
Kalish Parvat.jpg

[सम्पादन] प्रश्न.१ - आर्जव शब्द की क्या परिभाषा है ?

उत्तर - मन-वचन- काय की सरलता का नाम आर्जव है अथवा मायाचारी का नहीं होना आर्जव है।

[सम्पादन] प्रश्न.२ - मायाचारी करने से कौन सी गति मिलती है ?

उत्तर - तिर्यंच गति।

[सम्पादन] प्रश्न.३ - मायाचारी करने में कौन प्रसिद्ध हुए हैं ?

उत्तर - मृदुमति नाम के मुनिराज ।

[सम्पादन] प्रश्न.४ - मृदुमति मुनि ने क्या मायाचारी की थी ? इसका उन्हें क्या फल मिला ?

उत्तर - गुणनिधि नामक चारणऋद्धिधारी मुनिराज के दुर्गगिरी पर्वत पर चार माह तक योगलीन रहने पर सुर-असुरों ने खूब भक्ति की पुनः उनके चले जाने के बाद मृदुमति मुनि गांव में आहारार्थ गए। तब लोगों ने उन्हें गुणनिधि मुनिराज जानकर उनकी खूब भक्ति की परन्तु मृदुमति मुनि ने उन्हें मायाचारी के कारण सच्चाई नहीं बताई जिसके परिणामस्वरूप कालान्तर में वे त्रिलोकमण्डन नाम के हाथी हो गए।

[सम्पादन] प्रश्न.५ - दुर्योधन ने पांडवों के साथ क्या मायाचारी की थी ?

उत्तर - दुर्योधन ने पाँडवों को मायाचारी से लाख के महल में भेज दिया पुनः एक लोभी ब्राह्मण को धन देकर उस महल में आग लगवा दी जिसके कारण दुर्योधन आज भी नरक में दुःख भोग रहे हैं।