ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

03.व्रत ग्रहण करने का संकल्प

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
व्रत ग्रहण करने का संकल्प

ॐ अद्य भगवतो महापुरुषस्य ब्रह्मणो मते मासानां मासोत्तममासे ..... मासे ..... पक्षे ..... तिथौ .....वासरे जम्बूद्वीपे भरतक्षेत्रे आर्यखण्डे भारतदेशे ..... प्रदेशे ..... नगरे एतत् अवसर्पिणीकालावसान चतुर्दश-प्राभृतमानित-सकललोकव्यवहारे श्री गौतमस्वामीश्रेणिकमहामंडलेश्वर-समाचरित-सन्मार्गावशेषे ..... वीरनिर्वाणसंवत्सरे अष्टमहाप्रातिहार्यादिशोभितश्रीमदर्हत्पर-मेश्वर प्रतिमासन्निधौ अहम् ..... व्रतस्य संकल्पं कारयामि।