ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

04.उत्तम सत्य धर्म की प्रश्नोत्तरी

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विषय सूची

[सम्पादन]
दशधर्म प्रश्नोत्तरी

उत्तम सत्य धर्म
Kalish Parvat.jpg

[सम्पादन] प्रश्न.१ - सत्य धर्म का क्या स्वरूप है ?

उत्तर - सत् अर्थात् प्रशस्तजनों में अच्छे वचन बोलना सत्य है अथवा झूठ नहीं बोलना सत्यधर्म है।

[सम्पादन] प्रश्न.२ - झूठ बोलने में कौन प्रसिद्ध हुआ ? उसे इसका क्या फल मिला।

उत्तर - राजा वसु । झूठ बोलने के कारण उसे सातवें नरक में जाना पड़ा।

[सम्पादन] प्रश्न.३ - सत्य बोलने से क्या-क्या लाभ हैं ?

उत्तर - सत्य बोलने वाले सभी के विश्वासपात्र बन जाते हैं। सत्य बोलने वालों को वचनसिद्धि हो जाती है । सत्य बोलने वाले क्रमशः दिव्यध्वनि के स्वामी अर्थात् तीर्थंकर भगवान बन जाते हैं।

[सम्पादन] प्रश्न.४ - भारतीय मुद्रा पर कौन सी सूक्ति लिखी होती है ?

उत्तर - ‘‘सत्यमेव जयते’’ अर्थात् सत्य की ही सदा विजय होती है।

[सम्पादन] प्रश्न.५ - सत्य से सम्बन्धित कोई तीन सूक्तियाँ बताइए ?

उत्तर - १. साँच को आँच नहीं ।
२. साँच बराबर तप नहीं, झूठ बराबर पाप । जाके हिरदय साँच है, ताके हिरदय आप ।।
३. सत्यम् शिवम् सुन्दरम् ।