ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

04.चौबीस तीर्थंकर सुप्रभात स्तोत्र

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
चौबीस तीर्थंकर सुप्रभात स्तोत्र

श्री नाभिनन्दन! जिनाजित! संभवेश!,

देवाभिनंदनमुने! सुमते जिनेन्द्र!।
पद्मप्रभ! प्रणुतदेव सुपाश्र्वनाथ!,
चन्द्रप्रभास्तु सततं मम सुप्रभातम्।।१।।

श्री पुष्पदंत! परमेश्वर शीतलेश!,
श्रेयान् जिनो विगतमान! सुवासुपूज्य!।
निर्दोषवाग्विमल! विश्वजनीनवृत्ति:,
श्रीमन्ननन्त! भवतान्मम सुप्रभातम्।।२।।

श्रीधर्मनाथ! गणभृन्नतशांतिनाथ!,
कुन्थो महेश परमार विभार मल्लि:।
सत्यव्रतेश! मुनिसुव्रत! सन्निमीश!
नेमि: पवित्र! सततं मम सुप्रभातम्।।३।।

श्रीपाश्र्वनाथ! परमार्थ विदां वरेण्य!,
श्रीवर्धमान! हतमान! विमानबोध!।
युष्मत्पदद्वयमिदं स्मरतो ममास्तु,
केवल्यमस्तु विशदं मम सुप्रभातम्।।४।।'