Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी के फॉर्म भरने की अंतिम तारीख ३१ जनवरी २०१८ है |

04.झण्डारोहण गीत-2

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


झण्डारोहण गीत

तर्ज-जनगणमन..........

जन-जन के हितकारी हो प्रभु, युग के आदि विधाता।
ब्रह्मा, विष्णु, महेश्वर तुम ही, वृषभेश्वर जग त्राता।।
तुमने जन्म लिया जब,
कण-कण धन्य हुआ तब।
इन्द्र सिंहासन डोला,
मेरु सुदर्शन पांडु शिला पर, सबने जय जय बोला।
जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय जय हे।।1।।
नाभिराय मरुदेवी के नन्दन, हुए प्रथम अवतारी।
पंचकल्याणक के हो स्वामी, सब जन मंगलकारी।।
सब मिल जय प्रभु बोलो,
जग के बंधन खोलो।
गूज उठे जग सारा,
मुक्तिमार्ग बतलाते तुमको, नमन ‘‘चन्दनामति’’ का।
जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय जय हे।।2।।