ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

05.शरीर और आत्मा का लक्षण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
शरीर और आत्मा का लक्षण

67780.jpg
67780.jpg

प्रश्न-३१८ शरीर कितने प्रकार के होते हैं उनके नाम बताओ?

उत्तर-३१८ शरीर पाँच प्रकार के होते हैं-१. औदारिक २. वैक्रियक ३. आहारक ४. तैजस और ५. कार्माण ।

प्रश्न-३१९ आत्माऐं कितने प्रकार की होती हैं भेद-प्रभेद बताओ?

उत्तर-३१९ आत्मा तीन प्रकार की होती है बहिरात्मा, अंतआत्मा और परमात्मा। बहिरात्मा-जो भोगों में फंसा हुआ शरीर में ममत्त्व रखता हुआ जीव और शरीर को एक मान लेता है वह बहिरात्मा है। अंतरात्मा तीन प्रकार की है अव्रती, व्रती और महाव्रती तथा परमात्मा के सकल और निकल ऐसे दो भेद हैं।

प्रश्न-३२० अन्तरात्मा का लक्षण बताओ?

उत्तर-३२० जो आत्मा और शरीर को भिन्न-भिन्न समझकर आत्मा को ज्ञानरूपी, अविनाशी और शरीर को अचेतन, नाशवान समझता है तथा शरीर से आत्मा को पृथक् करने का उपाय करता है वह परमात्मा है।

प्रश्न-३२१ परमात्मा किसे कहते हैं?

उत्तर-३२१ जो चार घातिया कर्मों का नाशकर परमेष्ठी हो चुके हैं अथवा आठों कर्मों से रहित सिद्ध परमेष्ठी हो चुके हैं वे परमात्मा कहलाते हैं, उन्हें जिनेन्द्र भगवान आदि कहते हैं।