ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

06.तत्त्व का स्वरूप

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
तत्त्व का स्वरूप

प्रश्न-३२२ तत्त्व किसे कहते हैं?

उत्तर-३२२ वस्तु के यथार्थ स्वभाव को तत्त्व कहते हैं?

प्रश्न-३२३ उसके कितने भेद हैं?

उत्तर-३२३ उसके सात भेद हैं-जीव, अजीव, आस्रव, बंध, संवर, निर्जरा और मोक्ष।

प्रश्न-३२४ जीव किसे कहते हैं?

उत्तर-३२४ जिसमें ज्ञान दर्शन रूप भाव प्राण और इंद्रिय, बल, आयु, श्वासोच्छवास रूप द्रव्य प्राण पाये जाते हैं वह जीव है।

प्रश्न-३२५ अजीव का लक्षण बताओ?

उत्तर-३२५ इसके विपरीत लक्षण वाला अजीव तत्त्व है अर्थात् जीव से भिन्न पाँचों द्रव्य अजीव हैं।

प्रश्न-३२६ आस्रव की परिभाषा भेद सहित बताओ?

उत्तर-३२६ रागदेषादि भावों के कारण आत्म प्रदेशों में आना आस्रव है। इसके दो भेद हैं-१. भाव आस्रव २. द्रव्य आस्रव।

प्रश्न-३२७ द्रव्यास्रव और भावास्रव की परिभाषा लिखो?

उत्तर-३२७ आत्मा के जिन भावों से कर्म आते हैं उन भावों को भावास्रव और पुद्गलमय कर्मपरमाणुओं के आने को द्रव्यास्रव कहते हैं।

प्रश्न-३२८ बंध का लक्षण और भेद बताओ?

उत्तर-३२८ आये हुए कर्मों का आत्मा के साथ एकमेक हो जाना बंध है उसके भी दो भेद हैं-१. भाव बंध २. द्रव्य बंध।

प्रश्न-३२९ भावबंध और द्रव्यबंध किसे कहते हैं उदाहारण सहित बताओ?

उत्तर-३२९ आत्मा के जिन परिणामों से कर्मबंध होता है वह भावबंध है और कर्म परमाणुओं का आत्मा के प्रदेशों में दूध-पानी के सदृश एकमेक हो जाना द्रव्य बंध है।

प्रश्न-३३० संवर क्या है? इसके भेद बताओ?

उत्तर-३३० आते हुए कर्मों का रुक जाना संवर है उसके दो भेद हैं-भावसंवर और द्रव्यसंवर।

प्रश्न-३३१ द्रव्यसंवर और भावसंवर का लक्षण बताओ?

उत्तर-३३१ जिन समिति, गुप्ति आदि भावों से कर्म रुक जाते हैं वह भाव संवर है और पुद्गलमय कर्मों का आगमन रुक जाना द्रव्य संवर है।

प्रश्न-३३२ मोक्ष क्या है? क्या इसके भी भेद हैं, अगर हैं तो कौन-कौन से हैं परिभाषा सहित लिखो?

उत्तर-३३२ सम्पूर्ण कर्मों का आत्मा से छूट जाना मोक्ष है इसके दो भेद हैं भाव मोक्ष व द्रव्य मोक्ष। आत्मा के जिन भावों से सम्पूर्ण कर्म अलग होते हैं वह भाव मोक्ष है और सम्पूर्ण कर्मों का आत्मा से छूट जाना द्रव्य मोक्ष है।

प्रश्न-३३३ नव पदार्थ कौन-कौन से हैं?

उत्तर-३३३ इन्हीं सात पदार्थों में पुण्य और पाप को मिला देने से नव पदार्थ कहलाते हैं।

प्रश्न-३३४ पुण्य किसे कहते हैं?

उत्तर-३३४ जो आत्मा को पवित्र करे या सुखी करे उसे पुण्य कहते हैं।

प्रश्न-३३५ पाप किसे कहते हैं?

उत्तर-३३५ जिसके उदय से जीव को दु:खदायक सामग्री मिले वह पाप है।

प्रश्न-३३६ संसार परिभ्रमण के कारण तत्त्व कौन-कौन से हैं।

उत्तर-३३६ आस्रव और बंध संसार के कारण हैं।

प्रश्न-३३७ मोक्ष के लिए कारण तत्त्व कौन से हैं?

उत्तर-३३७ संवर और निर्जरा मोक्ष के लिए कारण तत्त्व हैं।