ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

06. उत्तम संयम धर्म

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विषय सूची

[सम्पादन]
उत्तम संयम धर्म

Bahubali.JPG

[सम्पादन] श्री रइधू कवि ने अपभृंश भाषा में संयम धर्म के विषय में कहा है

संजमु जणि दुल्लहु तं पाविल्लहु जो छंडइ पुणु मूढमइ।

सो भमइ भवावलि जर—मरणावलि किं पावेसइ पुणु सुगइ।।
संजमु पंचदिय—दंडणेण, संजमु जि कसाय—विहंडणेण।
संजमु दुद्धर—तव धारणेण, संजमु रस—चाय—वियारणेण।।
संजमु उपवास—वजंभणेण, संजमु मण—पसरहं थंभणेण।
संजमु गुरुकाय—किलेसणेण, संजमु परिगह—गह चायणेण।।
संजमु तस थावर—रक्खणेण, संजमु सत्तत्थ—परिक्खणेण।
संजमु तणु—जोय णियंतणेण, संजमु बहु—गमणु चयंतएण।
संजमु अणुवंप कुणंतएण, संजमु परमत्थ—विचारणेण।
संजमु पोसइ दंसणहं पंथु, संजमु णिच्छय णिरु मोक्ख—पंथु।।
संजमु विणु णर—भव सयलु सुण्णु, संजमु विणु दुग्गइ जि उववण्णु।
संजमु विणु घडिय म इत्थ जाउ, संयमु विणु विहलिय अत्थि आउ।।
घत्ता— इह—भवि पर—भवि संजमु सरणु हुज्जउ जिणणाहें भणिउ।

दुग्गइ—सर—सोसण—खर—किरणोवम जेण भवालि विसमु हणिउ।।

अर्थ — इस संसार में संयम धर्म दुर्लभ है, जो प्राप्त कर उसे छोड़ देता है वह मूढ़मति है, वह जरा और मरण के समूह से व्याप्त इस संसाररूपी वन में परिभ्रमण करता रहता है, पुन: वह सुगति को कैसे प्राप्त कर सकता है? पाँचों इन्द्रियों के दमन करने से संयम होता है, कषायों का निग्रह करने से संयम होता है, दुर्धर तप के धारण करने से संयम होता है और रस परित्याग के विचार भावों से संयम होता है। उपवासों के बढ़ाने से संयम होता है, मन के प्रसार को रोकने से संयम होता है, बहुत प्रकार के कायक्लेश तप से संयम होता है और परिग्रहरूपी पिशाच के छोड़ने से संयम होता है। त्रस—स्थावर जीवों की रक्षा से संयम होता है, सात तत्वों के परीक्षण से संयम होता है, काययोग के नियंत्रण से संयम होता है और बहुत गमन के त्याग से संयम होता है। अनुवंâपा करने से संयम होता है, परमार्थ तत्त्व के विचार करने से संयम होता है, यह संयम सम्यग्दर्शन के मार्ग को पोषित करता है और वह संयम ही निश्चय से मोक्ष का मार्ग है। संयम के बिना यह सारा मनुष्य भव शून्य के समान है, संयम के बिना यह जीव दुर्गति में जन्म ले लेता है। इसलिये संयम के बिना एक घड़ी भी व्यर्थ मत जीओ, क्योंकि संयम के बिना सम्पूर्ण आयु विफल है। इस भव में और परभव में संयम ही शरण हो सकता है ऐसा श्री जिनेन्द्र देव ने कहा है। यह दुर्गतिरूपी सरोवर का शोषण करने के लिये तीक्ष्ण किरणों के समान है। इस उत्तम संयम से ही विषम भवावली का नाश होता है ।

[सम्पादन] संस्कृत की पंक्तियों में देखें संयम धर्म की व्याख्या

प्राणीन्द्रियैद्र्विधा प्रोक्त:, संयम: संयतै: जनै:।

षट्कायजीवरक्षा स्यात् पंचेंद्रियमनोजय:।।१।।
जीवानां संकुले लोके, कुर्वे ह्याचरणं कथम्।
भाषे भुंजे कथं स्वामिन्! यतो पापं न बध्यते।।२।।
यत्नादाचरणं कुर्या:, यत्नात् भाषण भोजनम्।
यत्नात् सर्वां क्रियां कृत्वा त्वया पापं न बध्यते।।३।।
एकव्रतयुतं शत्रुं सीताचरोऽपि रावणम्।
सम्यक्त्वं ग्रहयित्वा सोऽकार्षीत् वैरविमोचनम्।।४।।
संयम्येंद्रियचेतोऽहं वाञ्छामि स्वात्मनि स्थितिं।

कर्म कर्मफलं भुंजन, मनाक् खेदमनाप्नुयाम्।।५।।

‘समितिषु वर्तमानस्य प्राणींद्रिय परिहारस्संयम:१।’ समिति में प्रवृत्त हुये मुनि जो प्राणी हिंसा और इन्द्रिय विषयों का परिहार करते हैं सो संयम हैं।’’ संयत मुनियों में प्राणी संयम और इन्द्रिय संयम की अपेक्षा दो भेद हैं। पाँच स्थावर और त्रस ऐसे षट्काय जीवों की रक्षा करना प्राणी संयम है और पाँच इन्द्रिय तथा मन का जय करना इन्द्रिय संयम है। हे भगवन्! जीवों से ठसाठस भरे हुये इस संसार में मैं कैसे प्रवृत्ति करूँ ? कैसे बोलूँ ? और कैसे भोजन करूँ ? कि जिससे पाप का बंध नहीं होवे ? इस प्रकार से प्रश्न होने पर आचार्य कहते हैं कि यत्नपूर्वक आचरण करो, यत्नपूर्वक भाषण और भोजन करो तथा यत्नपूर्वक सम्पूर्ण क्रिया करने से तुम्हें पाप का बंध नहीं होगा। देखो ! सीता का जीव जब अच्युतेन्द्र हुआ ‘एक व्रत को धारण करने से रावण मेरे साथ बलात्कार के लिये प्रयत्नशील नहीं हुआ’ ऐसा सोचकर वह अच्युतेंद्र नरक में जाकर रावण को सम्यक्त्व ग्रहण कराकर वैर का त्याग करा देता है। मैं सर्व इंद्रिय और मन को नियन्त्रित करके अपनी आत्मा में स्थित करना चाहता हूँ कि जिससे कर्म और कर्म के फल को भोगता हुआ कचित् मात्र खेद को न प्राप्त होऊँ।।१ से ५।। प्रतिदिन ऐसी भावना भाते रहना चाहिए। इस प्रकार से वह संयम पूर्णतया मुनियों के ही होता है किन्तु गृहस्थ भी एक देश रूप से संयम का पालन करते हैं चूँकि उनकी छह आवश्यक क्रियाओं में संयम भी एक क्रिया हैं कुछ न कुछ नियम का लेना एक संयम है। गृहस्थाश्रम में रहते हुए भी प्रत्येक कार्य को सावधानीपूर्वक करना संयम है। सावधानीपूर्वक चलना, फिरना, उठना, बैठना भी संयम है। चौराहे की लालबत्ती संयम को सिखाती है जो उसकी उपेक्षा करते हैं वह जीवन को भी खतरे में डाल देते हैं। अभक्ष्य का त्याग कर देना तथा खाने योग्य वस्तु को भी जब तक नहीं खाते, तब तक के लिए छोड़ देना भी संयम है। इसलिये जो रात्रि में सर्वथा आहार का त्याग कर देते हैं तो एक महीने में पंद्रह दिन के उपवास के फल को प्राप्त कर लेते हैं । ‘कुलवंता नाम की एक दरिद्र कन्या ने धर्म बुद्धि से किसी समय एक मुहूर्त तक के लिये अन्न का त्याग कर अनशन धारण कर लिया जिसके फलस्वरूप सल्लेखना से मरणकर िंकपुरुष नामक देव की क्षीरधारा नामक देवी हुई। कालांतर में इंद्र नाम का विद्याधर होकर निर्वाण को प्राप्त कर लिया ।' अनंतबल मुनिराज केवली हो गये थे। उनके निकट धर्मोपदेश सुनकर रावण ने व्रत लिया कि ‘जो परस्त्री मुझे नहीं चाहेगी मैं उसे ग्रहण नहीं करूँगा।’ वुंभकर्ण ने यह नियम लिया कि ‘मैं प्रतिदिन प्रात:काल अभिषेकपूर्वक जिनेन्द्र देव की पूजा करूँगा और जब तक निर्ग्रंथ मुनियों की विधिपूर्वक पूजा नहीं कर लूँगा आज से मैं तब तक भोजन नहीं करूँगा१।’ क्योंकि सम्यग्दृष्टि के लिए एक ही व्रत मुक्ति का बीज हो जाता है। रावण की इस प्रतिज्ञा के निमित्त से सीता के जीव इंद्र ने प्रभावित होकर नरक में जाकर उसे सम्यग्दर्शन ग्रहण करा दिया। ‘संयम से युक्त मुनिजन चतुर्थकाल में एक हजार वर्ष में जितने कर्मों की निर्जरा करते थे आज के संयमी मुनि एक वर्ष में उतनी निर्जरा कर लेते हैं चूँकि आजकल संहनन हीन है२। आचार्य शांतिसागर महाराज कहा करते थे—

‘बाबा नो संयम धारण करा, भिऊ नका भिऊ नका। भव्यों! संयम धारण करो डरो मत।’ जब तीर्थंकर महापुरुष संयम धारण करने के सन्मुख होते हैं उस समय किसी कल्याणक में न आने वाले लौकान्तिक देव आकर उनकी पूजा करते हैं उनके वैराग्य की स्तुति करते हैं। ‘अहिच्छत्र के राजा वसुपाल ने ‘सहस्रकूट’ जिनमंदिर बनवा कर पाश्र्वनाथ की प्रतिमा विराजमान की, उस पर लेप चढ़ाने के लिए कारीगर बुलाया। वह रोज प्रतिमा पर लेप चढ़ाता था, किन्तु लेप रात्रि में गिर जाता था। तब मुनि ने बताया कि जब यह कारीगर मांस न खाने का व्रत लेगा तब लेप चढ़ेगा। कारीगर के नियम लेकर लेप चढ़ाने के बाद लेप टिक गया।’ इन सब उदाहरणों से संयम का महत्त्व समझकर संयम धर्म को धारण करना चाहिये। समय आरे के समान आयु के क्षणों को काटता चला जा रहा है अत: जल्दी करना चाहिये। संयम से ही मनुष्य महान् और पूज्य बन जाता है । एक राजा ने विशाल वैभव को महान समझते हुए दिगम्बर मुनि से उसके त्याग का कारण पूछा। जब मुनि ने त्याग—संयम में ही सच्चा सुख बतलाया तो उसने भी राज्य वैभव को छोड़कर जैनेश्वरी दीक्षा ले ली

[सम्पादन] कथा

पद्मिनी नामा नगर में किसी समय ‘‘मतिवर्धन’’ नाम के दिगम्बराचार्य चर्तुिवध संघ सहित पधारे। उनके संघ में महातपस्वी ज्ञानी और ध्यानी सभी तरह के मुनि धर्मध्यान में परायण थे। ‘‘अनुद्धरा’’ नाम की र्आियका थीं जो कि सर्व आर्यिकाओं की रक्षा करने में तत्पर गणिनी थीं। वह विशाल संघ वहाँ आकर नगर के बाहर के उद्यान में आचार्य देव की आज्ञा से ठहर गया। उस उद्यान का माली अपने साथियों को साथ लेकर भय से काँपता हुआ पद्मिनी नगरी के महाराजा विजयपर्वत के राजदरबार में पहुँचा और नमस्कार करके निवेदन करने लगा— ‘‘महाराज ! आगे तो बहुत अधिक ऊँची ढालू चट्टान है और पीछे व्याघ्र हैं, बताइये हम किसी की शरण में जायें ? महाराज ने आश्चर्य युक्त हो पूछा— ‘‘बोलो, बोलो, क्या कह रहे हो ? क्या संकट उपस्थित हुआ है?’ उन िंककरों में प्रमुख वनपाल ने कहा— ‘‘महाराज ! उद्यान की रमणीय भूमि में मुनियों का एक विशाल संघ आकर ठहर गया है। यदि इस संघ को हम मना करते हैं तो शाप को प्राप्त होते हैं और यदि नहीं मना करते हैं तो आप क्रोध को प्राप्त होंगे, इस प्रकार हम लोगों पर बड़ा संकट आ पड़ा है। हे राजन् ! आपके प्रसाद से हम लोगों ने वह उद्यान कल्पवृक्षों के उद्यान के समान बना रखा है। उसमें साधारण पामर मनुष्य प्रवेश भी नहीं कर सकते हैं, किन्तु जो तप के तेज से अत्यन्त दुर्गम हैं ऐसे निर्ग्रंथ मुनियों को देव भी रोकने में समर्थ नहीं हैं फिर भला हम जैसे लोगों के द्वारा उन्हें कैसे रोका जा सकता है ? यह सुनकर राजा आश्चर्य से युक्त होकर उन लोगों को सान्त्वना देते हुये बोले— ‘‘डरो मत, वे मुनिगण ठहर चुके हैं तो अब कोई बात नहीं है, हम स्वयं ही वहाँ आ रहे हैं।’’

पुन: राजा विशाल वैभव के साथ उद्यान भूमि में पहुँचकर उस चर्तुिवध संघ को देखता है। वहाँ पर सभी साधु वन की धूलि से धूसरित हो रहे थे। उनमें से कोई मुनिराज जिनेन्द्र देव की स्तुति, वंदना में तत्पर थे, कोई भुजाओं को लटकाकर जिनमुद्रा से ध्यान कर रहे थे, कोई स्वाध्याय में लीन थे, कोई अध्ययन कर रहे थे, तो कोई महाविद्वान मुनि अन्य साधुओं को सिद्धान्त ग्रंथों का अध्ययन करा रहे थे। किन्हीं मुनियों के शरीर बेला, तेला आदि उपवासों से अतिशय क्षीण हो रहे थे फिर भी उनके चेहरे की दीप्ति व उनका अपना उत्साह उनके आत्मबल को, उनके मनोबल को स्पष्ट घोषित कर रहा था। एक तरफ आर्यिकाओं के समुदाय में भी वन की धूलि से लिप्त एक साड़ी मात्र परिग्रह को धारण करने वाली उन आर्यिकाओं में कुछ आर्यिकायें मधुर स्वर से पाठ गुनगुना रही थीं, कुछ स्वाध्याय क्रिया में तत्पर थीं, कुछ पठन—पाठन में व्यस्त थीं, कहीं पर सिद्धान्त के गूढ रहस्यों का उद्घाटन हो रहा था तो कहीं पर महापुरुषों के चरित्र का बखान चल रहा था। राजा क्रम—क्रम से सभी साधु—साध्वियों की वंदना करते हुये उनके गुणों से प्रसन्न हो रहे थे। अंत में वे आचार्य देव की वंदना करके उनके निकट बैठकर विनयपूर्वक बोले— ‘‘भगवन् ! आपके शुभ लक्षणों से युक्त जैसी आपकी दीप्ति है वैसे भोग आपके चरण कमल में स्थित क्यों नहीं हैं ?’’ आचार्य देव ने उत्तर दिया— हे नरश्रेष्ठ! ये संसार के विषयभोग सुखदायी हैं यह कल्पना कहाँ तक सत्य है ? पहले आप इसे समझो तब आपको पता चलेगा कि ये भोग महान् नहीं हैं प्रत्युत इनको तृणवत् समझकर इनका त्याग करने वाले संयमी साधु ही महान् हैं। देखो ! यह जीवन, यह यौवन, यह राज्यसंपदा, यह विशाल वैभव कितने दिन तक टिकने वाला है ? क्या इनमें से कोई भी वस्तु स्थायी शांति दे सकती है ?

राजा गुरुदेव के इन प्रश्नों को सुनकर कुछ क्षण के लिए परमविस्मय को प्राप्त हो गया और और विचार करने लगा कि वास्तव में इनमें से कुछ भी टिकने वाला नहीं है ? पुन:किस वस्तु से सुख की आशा की जाये ? पुनरपि राजा प्रश्न करता है— ‘‘भगवन् ! पुन: इस संसार में स्थायी वस्तु क्या है ?’’ ‘‘राजन् ! स्थायी वस्तु अपनी आत्मा है और उसका सुख ही सच्चा सुख है। यह शरीर नश्वर है, जड़ है और अनंत दु:खों की खान है।’’ इत्यादि रूप से मुनिपति के मुखकमल से निर्गत धर्मोपदेश को सुनकर राजा संसार के भोगों से विरक्त हो गया और उसी समय वह अपने विशाल वैभव को जीर्ण—तृणवत् त्यागकर तथा संयम धारण कर दिगम्बर मुनि हो गया। उस समय राजा को दीक्षित हुआ देखकर अनेकों भव्य जीवों ने जैनेश्वरी दीक्षा ले ली। जो दीक्षा लेने में अपने को सर्वथा असमर्थ समझ रहे थे ऐसे अनेकों ने श्रावक के व्रत ग्रहण कर लिये। सच है यदि संयम का महत्त्व अधिक न होता तो बड़े—बड़े राजा, महाराजा, चक्रवर्ती और इन्द्र भी मुनियों को नमस्कार क्यों करते !


जाप्य—ॐ ह्रीं उत्तमसंयमधर्माङ्गाय नम:।