ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

06. भगवान अरनाथ का संक्षिप्त परिचय

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
भगवान अरनाथ का संक्षिप्त परिचय

जन्मभूमि - हस्तिनापुर

पिता - राजा सुदर्शन

माता - मित्रसेना

वंश - सोमवंश

गर्भावतरण - फाल्गुन कृष्णा तृतीया

जन्म - मगसिर शुक्ला चतुर्दशी

आयु - चौरासी हजार वर्ष

शरीर ऊँचाई - तीस धनुष (१२० हाथ)

वर्ण - स्वर्ण

कुमार काल - इक्कीस हजार वर्ष

राज्य - इक्कीस हजार वर्ष

लौकिक पद - सातवें चक्रवर्ती, चौदहवें कामदेव

पारमार्थिक पद - अठारहवे तीर्थंकर

चक्रीपदकाल - इक्कीस हजार वर्ष

वैराग्य निमित्त - मेघ विलय का देखना

दीक्षा वन - हस्तिनापुर का सहेतुक वन

दीक्षा तिथि - मगसिर सुदी दशमी

प्रथम आहार दाता - चक्रपुर के राजा अपराजित

छद्मस्थ - सोलह वर्ष

केवलज्ञान स्थल - सहेतुक वन

दीक्षा एवं केवलज्ञान वृक्ष - आम्र वृक्ष

समवसरण में - तीस गणधर, पचास हजार मुनि, साठ हजार आर्यिका, एक लाख साठ हजार श्रावक, तीन लाख श्राविका

केवली काल - बीस हजार नौ सौ चौरासी वर्ष।

योगनिरोध काल - एक माह

मुक्ति स्थल - सम्मेदशिखर

मुक्ति दिवस - चैत्र कृष्णा अमावस्या

अब तक व्यतीत काल - सौ अरब, पैंसठ लाख, छयासी हजार पाँच सौ वर्ष