ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

06. संविधान सभा में जैन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
संविधान सभा में जैन

Varshayog Stapana Final.jpg

भारत का संविधान २६ जनवरी, १९५० को लागू हुआ, जिसे गणतंत्र दिवस के रूप में प्रतिवर्ष मनाते हैं। संविधान सभा लगभग ३ वर्ष (२ वर्ष, ११ महीने, १७ दिन) कार्यरत रही। उसके कुल ११ सत्र हुए और १६५ बैठकें हुर्इं। प्रारूप समिति की १४१ बैठकें हुर्इं। स्पष्ट है कि हमारी संविधान सभा ने बहुत ही कम दिनों में अपना संविधान बना लिया था। संविधान सभा में लगभग ३५० सदस्य थे, जिसमें ६ जैन सदस्य थे।

  1. श्री अजितप्रसाद जैन, सहारनपुर (उ. प्र.)
  2. श्री कुसुमकान्त जैन, इंदौर (म. प्र.)
  3. श्री भवानी अर्जुन खीमजी, कच्छ (गुज.)
  4. श्री बलवंतसिंह मेहता, उदयपुर (राज.)
  5. श्री रतनलाल मालवीय, सागर (म. प्र.)
  6. श्री चिमनभाई चकुभाई शाह, सौराष्ट्र (गुज.)