ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माता जी के द्वारा अागमोक्त मंगल प्रवचन एवं मुंबई चातुर्मास में हो रहे विविध कार्यक्रम के दृश्य प्रतिदिन देखे - पारस चैनल पर प्रातः 6 बजे से 7 बजे (सीधा प्रसारण)एवं रात्रि 9 से 9:20 बजे तक|
इस मंत्र की जाप्य दो दिन 18 और 19 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं शक्तितस्त्याग भावनायै नमः"

08.नवग्रहशांति मंत्र

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


नवग्रहशांति मंत्र

१. ॐ ह्रीं अर्हं सूर्यग्रहारिष्टनिवारक-श्री पद्मप्रभजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

२. ॐ ह्रीं सोमग्रहारिष्टनिवारक-श्री चन्द्रप्रभजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

३. ॐ ह्रीं मंगलग्रहारिष्टनिवारक-श्री वासुपूज्यजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

४. ॐ ह्रीं बुधग्रहारिष्टनिवारक-श्री मल्लिनाथजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

५. ॐ ह्रीं गुरुग्रहारिष्टनिवारक-श्री महावीरजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

६. ॐ ह्रीं शुक्रग्रहारिष्टनिवारक-श्री पुष्पदन्तनाथजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

७. ॐ ह्रीं शनिग्रहारिष्टनिवारक-श्री मुनिसुव्रतनाथजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

८. ॐ ह्रीं राहुग्रहारिष्टनिवारक-श्री नेमिनाथजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

९. ॐ ह्रीं केतुग्रहारिष्टनिवारक-श्री पार्श्र्वनाथजिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा।

णमोकार महामंत्र के एक-एक पद भी एक-एक ग्रह की शांति के लिए माने गये हैं, जो कि सूर्य, चन्द्र आदि के नंबर से दिये गये हैं-

१. ॐ ह्रीं णमो सिद्धाणं। (७००० जाप्य)

२. ॐ ह्रीं णमो अरिहंताणं। (११००० जाप्य)

३. ॐ ह्रीं णमो सिद्धाणं। (१०००० जाप्य)

४. ॐ ह्रीं णमो उवज्झायाणं। (१४००० जाप्य)

५. ॐ ह्रीं णमो उवज्झायाणं। (१९००० जाप्य)

६. ॐ ह्रीं णमो उवज्झायाणं। (१०००० जाप्य)

७. ॐ ह्रीं णमो लोए सव्वसाहूणं। (२३००० जाप्य)

८. ॐ ह्रीं णमो लोए सव्वसाहूणं। (१८००० जाप्य)

९. ॐ ह्रीं णमो लोए सव्वसाहूणं। (१०००० जाप्य)