ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

10.पूजा अन्त्य विधि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


विषय सूची

[सम्पादन]
पूजा अन्त्य विधि

(अनंतर मणि, मूंगा, चाँदी आदि की माला से या अंगुली से अथवा १०८ पुष्पों से नीचे लिखे मंत्र का जाप्य करें। समयाभाव में ९ बार मंत्र पढ़कर पुष्प चढ़ावें।)

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूँ ह्रौं ह्र: असि आ उसा स्वाहा।

पुन: चैत्यभक्ति, पंचगुरुभक्ति और शांतिभक्ति पढ़ें—
अथ जिनेन्द्रमहापूजास्तवसमेतं श्रीचैत्यभक्तिकायोत्सर्गं करोम्यहं।
णमो अरहंताणं णमो सिद्धाणं णमो आइरियाणं।
ण्मो उवज्झायाणं णमो लोए सव्व साहूणं।।
चत्तारि मंगलं, अरहंत मंगलं, सिद्ध मंगलं, साहुमंगलं, केवलिपण्णत्तो धम्मोमंगल, चत्तारि लोगुत्तमा, अरहंत लोगुत्तमा, सिद्ध लोगुत्तमा, साहु लोगुत्तमा, केवलिपण्णत्तो धम्मो लोगुत्तमा। चत्तारि सरणं पव्वज्जामि, अरहंतसरणं पव्वज्जामि, सिद्ध सरणं पव्वज्जामि, साहुसरणं पव्वज्जामि, केवलिपण्णत्तो धम्मोसरणं पव्वज्जामि।
जाव अरिहंताणं भयवंताणं पज्जुवासं करेमि ताव कायं पावकम्मं दुच्चरियं वोस्सरामि।

(९ बार णमोकार मंत्र का जाप्य।)

थोस्सामि हं जिणवरे तित्थयरे केवली अणंतजिणे।

णवपवरलोयमहिये विहुयरयमले महप्पण्णे।।
लोयस्सुज्जोययरे धम्मं तित्थंकरे जिणे वंदे।
अरहंते कित्तिस्से चउवीसं चेव केवलिणो।।१।।
चैत्यभक्ति—
श्रीमन्मेरौ कुलाद्रौ रजतगिरिवरे शाल्मलौ जम्बुवृक्षे।
वक्षारे चैत्यवृक्षे रतिकररुचके कुंडले मानुषांके।।
इष्वाकारेंऽजनाद्रौ दधिमुखशिखरे व्यंतरे स्वर्गलोके।
ज्योतिर्लोकेऽभिवंदे भुवनमहितले यानि चैत्यानि तानि।।१।।

यावंति जिनचैत्यानि विद्यंते भुवनत्रये।
तावंति सततं भक्त्या त्रि:परीत्य नमाम्यहं।।२।।

[सम्पादन]
अंचलिका—

इच्छामि भंत्ते! चेइयभत्ति काओस्सग्गो कओ तस्सालोचेउं अहलोय-तिरियलोय उड्ढलोयम्मि किट्टिमाकिट्टिमाणि जाणि जिणचेइयाणि ताणि सव्वाणि तिसुवि लोएसु भवणवासियवाणविंतरजोयिसयि-कप्पवासियन्ति चउविहा देवा सपरिवारा दिव्वेहिं गंधेहिं, दिव्वेहिं अक्खेहिं, दिव्वेहिं पुफ्पेâहिं, दिव्वेहिं दीवेहिं, दिव्वेहिं धूवेहिं, दिव्वेहिं चुण्णेहिं, दिव्वेहिं वासेहिं, दिव्वेहिं ण्हाणेहिं णिच्चकालं अच्चंति, पुज्जंति, वंदंति, णमंसन्ति, चेदियमहाकल्लाणं करंति। अहमवि इह संतो तत्थ संताइं णिच्चकालं अंचेमि पूजेमि वंदामि णमंस्सामि दुक्कक्खओ कम्मक्खओ बोहिलाहो सुगइगमणं समाहिमरणं जिणगुणसंपत्ति होउ मज्झं।

अथ जिनेन्द्रमहापूजास्तवसमेतं पंचमहागुरुभक्ति कायोत्सर्गं करोम्यहं।
णमो अरिहंताणं ..... आदि पढ़कर ९ बार महामंत्र जपकर थोस्सामि स्तव पढ़कर नीचे लिखी पंचगुरु भक्ति पढ़ें-
पंचगुरुभक्ति—
सर्वान् जिनेन्द्रचन्द्रान्, सिद्धानाचार्यपाठकान् साधून्।
रत्नत्रयं च वंदे, रत्नत्रयसिद्धये भक्त्या।।१।।
अंचलिका—
इच्छामि भंत्ते! पंचमहागुरुभक्ति काओसग्गो कओतस्सालोचेउं। अट्ठमहापाडिहेरसहियाणं अरिहंताणं। अट्ठमहाकम्मविप्पमुक्काणं सिद्धाणं। अट्ठपवयणमाउसंजुत्ताणं आइरियाणं। आयारादिसुदणाणोवदेसयाणं उवज्झायाणं। तिरयणगुणपालणरयाणं सव्वसाहूणं। भत्तीए णिच्चकालं अंचेमि पूजेमि वंदामि णमंस्सामि। दुक्खक्खओ कम्मक्खओ बोहिलाहो सुगइगमणं समाहिमरणं जिणगुणसंपत्ति होउ मज्झं।
अथ जिनेन्द्रमहापूजास्तवसमेतं श्रीशांतिभक्ति कायोत्सर्गं करोम्यहं।
णमो अरिहंताणं.......से पढ़कर ९ जाप्य करके थोस्सामि पढ़कर शांतिभक्ति पढ़ते हुए पुष्प क्षेपण करना चाहिए।
शांतिभक्ति—
शांतिजिनं शशिनिर्मलवक्त्रं, शीलगुणव्रतसंयमपात्रं।
अष्टशतार्चितलक्षणगात्रं, नौमि जिनोत्तममम्बुजनेत्रं।।१।।

पंचममीप्सितचक्रधराणां, पूजितमिंद्रनरेन्द्रगणैश्च।
शंतिकरं गणशांतिमभीप्सु: षोडशतीर्थकरं प्रणमामि।।२।।

दिव्यतरु: सुरपुष्पसुवृष्टिर्दुंदुभिरासनयोजनघोषौ।
आतपवारणचामररयुग्मे, यस्य विभाति च मंडलतेज:।।३।।

तं जगदर्चितशांतिजिनेन्द्रं, शांतिकरं शिरसा प्रणमामि।
सर्वगणाय तु यच्छतु शांतिं, मह्यमरं पठते परमां च।।४।।

येऽभ्यर्चिता मुकुटकुंडलहाररत्नै:।
शक्रादिभि: सुरगणै: स्तुतपादपद्मा:।।
ते मे जिना: प्रवरवंशजगत्प्रदीपा:।
तीर्थंकरा: सततशांतिकरा भवंतु।।५।।

संपूजकानां प्रतिपालकानां, यतीन्द्रसामान्यतपोधनानां।
देशस्य राष्ट्रस्य पुरस्य राज्ञ:, करोतु शांतिं भगवान् जिनेन्द्र।।६।।

क्षेमं सर्वप्रजानां प्रभवतु बलवान् धार्मिको भूमिपाल:।
काले काले च सम्यग्वर्षतु मघवा व्याधयो यांतु नाशं।।
दुर्भिक्षं चौरमारी क्षणमपि जगतां मास्म भूज्जीवलोके।
जैनेन्द्रं धर्मचव्रं प्रभवतु सततं सर्वसौख्यप्रदायि।।७।।

प्रध्वस्तघातिकर्माण: केवलज्ञानभास्करा:।
कुर्वंतु जगतां शांतिं वृषभाद्या: जिनेश्वरा:।।८।।

[सम्पादन]
अचंलिका—

इच्छामि भंत्ते! संति भत्ति काओसग्गो कओ तस्सालोचेउं पंचमहाकल्ला-णसंपण्णाणं, अट्ठमहापाडिहेरसहियाणं, चउतीसातिसयविसेस-संजुत्ताणं, बत्तीस-देवेन्दमणिमयमउडमत्थयमहियाणं, बलदेववासुदेवचक्कहररिसिमुणिजदिअ-णगारोवगूढाणं, थुइसयसहस्सणिलयाणं, उसहाइवीरपच्छिममंगलमहापुरिसाणं, णिच्चकालं अंचेमि पूजेमि वंदामि णमंसामि दुक्खक्खओ कम्मक्खओ बोहिलाहो सुगइगमणं समाहिमरणं जिणगुणासंपत्ति होउ मज्झं।

अथ जिनेन्द्रमहापूजास्तवसमेतं सिद्धचैत्यपंचगुरुशांतिभक्ति: कृत्वा तद्हीनाधिकदोषविशुद्ध्यर्थं समाधिभक्तिकायोत्सर्गं करोम्म्यहं।

(९ बार णमोकार मंत्र जपना)

[सम्पादन]
अथेष्ट प्रार्थना—

प्रथमं करणं चरणं द्रव्यं नम:।

शास्त्राभ्यासो जिनपतिनुति: संगति: सर्वदार्यै:।
सद्वृत्तानां गुणगणकथा दोषवादे च मौनम्।।
सर्वस्यापि प्रियहितवचो भावना चात्मतत्त्वे।
संपद्यन्तां मम भवभवे यावदेतेऽपवर्ग:।।१।।

तव पादौ मम हृदये मम हृदयं तव पदद्वये लीनम्।
तिष्ठतु जिनेंद्र! तावत् यावन्निर्वाणसंप्राप्ति:।।२।।

अक्खरपयत्थहीणं मत्ताहीणं च जं मए भणियं।
तं खमउ णाणदेवय! मज्झ वि दुक्खक्खयं दिंतु।।३।।

दुक्कक्खओ कम्मक्खओ बोहिलाहो सुगइगमणं समाहिमरणं जिणगुणसंपत्ति होउ मज्झं।
शांति मंत्र—
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रौं ह्र: अ सि आ उसा नम: सर्वशांतिं कुरु-कुरु वषट् स्वाहा। (इस मंत्र का पाँच बार उच्चारण करें।)
गणधरवलय मंत्र—
ॐ ह्रीं अर्हं णमो जिणाणं, णमो ओहिजिणाणं, णमो परमोहिजिणाणं, णमो सव्वोहिजिणाणं, णमो अणंतोहि जिणाणं, णमो कोट्ठबुद्धीणं, णमो बीजबुद्धीणं, णमो पादाणुसारीणं, णमो संभिण्ण सोदाराणं, णमो सयंबुद्धाणं, णमो पत्तेयबुद्धाणं, णमो बोहियबुद्धाणं, णमो उजुमदीणं, णमो विउलमदीणं, णमो दसपुव्वीणं, णमोचउदसपुव्वीणं, णमो अट्ठंग महाणिमित्त कुसलाणं, णमो विउव्वइड्ढिपत्ताणं, णमो विज्जाहराणं, णमो चारणाणं, णमो पण्णसमणाणं, णमो आगासमागीणं, णमो आसीविसाणं, णमो दिट्ठिविसाणं, णमो उग्गतवाणं, णमो दित्ततवाणं, णमोतत्तवाणं, णमो महातवाणं, णमो घोरतवाणं, णमो घोरगुणाणं, णमो घोरपरक्कमाणं, णमो घोरगुण बंभयारीणं, णमो आमोसहिपत्ताणं, णमो खेल्लोसहिपत्ताणं, णमो जल्लोसहिपत्ताणं, णमो विप्पोसहिपत्ताणं, णमो सव्वोसहिपत्ताणं, णमो मणबलीणं, णमो वचिबलीणं, णमो कायबलीणं, णमो खीरसवीणं, णमो सप्पिसवीणं, णमो महुरसवीणं, णमो अमियसवीणं, णमो अक्खीण महाणसाणं, णमो वड्ढमाणाणं, णमो सिद्धायदणाणं, णमो भयवदो महदिमहावीर वड्ढमाण बुद्धिरिसीणं, ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रौं ह्र: असिआउसा अप्रतिचक्रे फट् विचक्राय झ्रौं झ्रौं नम: स्वाहा।

(पुष्पाजंलि क्षिपेत्)

[सम्पादन]
विसर्जन पाठ—

ज्ञानतोऽज्ञानतो वापि, शास्त्रोत्क्तं न कृतं मया।

तत्सर्वं पूर्णमेवास्तु त्वत्प्रसादाज्जिनेश्वर!।।१।।
आह्वानं नैव जानामि, नैव जानामि पूजनम्।
विसर्जनं न जानामि, क्षमस्व परमेश्वर।।२।।
मंत्र हीनं क्रियां हीनं द्रव्य हीनं तथैव च।
तत्सर्वं क्षम्यतां देव रक्ष रक्ष जिनेश्वर!।।३।।
आहूता ये पुरा देवा, लब्धभागा यथाक्रमं।
ते मयाऽभ्यर्चिता भक्त्या, सर्वे यांतु यथायथम्।।४।।
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रौं ह्र: असिआउसा अर्हत्सिद्धाचार्योपाध्या-यसर्वसाधुजिनधर्मजिनागमजिनचैत्यचैत्यालया: सर्वयक्षयक्षीदिक्पालादिअष्टा-शीतिदेवादय: स्वस्थानं गच्छत गच्छत ज: ज: ज:।
—चौबोल छंद—
मोह ध्वांत के नाशक विश्वप्रकाशी विशद दीप्तिधारी।
सन्मारग प्रतिभासक बुधजन को नित ही मंगलकारी।।
श्री जिनचंद्र शांतिप्रद भगवन्! तापहरन भव भक्ति करूँ।
पुन: पुन: तव दर्शन होवे, यही याचना नित्य करूँ।।१।।
इति नित्य पूजा विधि:।