ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

10. सबसे बड़ा जैन ग्रंथ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
सबसे बड़ा जैन ग्रंथ

Scan Pic0009.jpg

श्री धरसेनाचार्य जी के शिष्य और श्रुतपरम्परा के प्रवर्तक आचार्य पुष्पदन्त और आचार्य भूतबलि जी मुनिराजों द्वारा ईसा की पहली शताब्दी में षट्खण्डागम ग्रंथ की रचना की गई। इस ग्रंथ के प्रथम पाँच खण्ड अर्थात् जीवस्थान, क्षुद्रकबंध, बंधस्वामित्व, वेदनाखण्ड और वर्गणा खण्ड, इनमें ६००० श्लोकप्रमाण सूत्र हैं। छठवें खण्ड को महाबंध कहा जाता है। वह ३०,००० श्लोक प्रमाण सूत्र के माध्यम से रचा गया था।

षट्खण्डागम एवं कसायपाहुड इन दो महान् ग्रंथों की टीकाएँ अनेक आचार्यों ने लिखी हैं। उनमें आठवीं शताब्दी में आचार्य वीरसेन स्वामी कृत प्रथम पाँच खण्डों पर धवला नामक टीका लिखी गई, जो ७२,००० श्लोक प्रमाण है एवं संस्कृत और प्राकृत मिश्रित भाषा में है। आचार्य वीरसेन स्वामी एवं उनके शिष्य जिनसेन स्वामी ने कसायपाहुड ग्रंथ की जयधवला नामक टीका ६०,००० श्लोकों में लिखी। षट्खण्डागम के महाबंध (छठवाँ खण्ड) पर टीका नहीं लिखी गई।