ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

10. सोलहकारण भावना

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
सोलहकारण भावना

Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png
Border-top.png

षट्खण्डागम ग्रन्थ में १६ भावनाओं के नाम का व्रम इस प्रकार है तथा इनके लक्षण भी इसी प्रकार लिए हैं—

कदिहि कारणेहिं जीवा तित्थयरणामगोदं कम्मं बंधंति[१] ?।।३९।।'


सूत्रार्थ — कितने कारणों से जीव तीर्थंकर नाम-गोत्रकर्म को बांधते हैं ?।।३९।।

तत्थ इमेहि सोलसेहि कारणेहि जीवा तित्थयरणामगोदकम्मं बंधंति।।४०।।'


सूत्रार्थ — वहां इन सोलह कारणों से जीव तीर्थंकर नाम-गोत्रकर्म को बांधते हैं।।४०।। मनुष्यगति में ही तीर्थंकर कर्म के बन्ध का प्रारम्भ होता है, अन्यत्र नहीं, इस बात के ज्ञापनार्र्थ सूत्र में ‘वहां’ ऐसा कहा गया है।

दंसणविसुज्झदाए विणयसंपण्णदाए सीलव्वदेसु णिरदिचारदाए आवासएसु अपरिहीणदाए खण-लवपडिबुज्झणदाए लद्धिसंवेगपण्णदाए जधाथामे तधा तवे, साहूणं पासुअपरिचागदाए साहूणं समाहिसंधारणदाए साहूणं वेज्जावच्चजोगजुत्तदाइ अरहंतभत्तीइ बहुसुदभत्तीए पवयणभत्तीए पवयणवच्छलदाए पवयणप्पभावणदाए अभिक्खणं अभिक्खणं णाणोवजोगजुत्तदाए इच्चेदेहि सोलसेहि कारणेहि जीवा तित्थयरणामगोदं कम्मं बंधंति।।४१।।'


सूत्रार्थ

दर्शनविशुद्धता, विनयसम्पन्नता, शील-व्रतों में निरतिचारता, छह आवश्यकों में अपरिहीनता, क्षण-लवप्रतिबोधनता, लब्धि-संवेगसम्पन्नता, यथाशक्ति तप, साधुओं को प्रासुकपरित्यागता, साधुओं की समाधिसंधारणता, साधुओं की वैयाव्रत्ययोगयुक्तता, अरहंतभक्ति, बहुश्रुतभक्ति, प्रवचनभक्ति, प्रवचनवत्सलता, प्रवचनप्रभावनता और अभीक्ष्ण-अभीक्ष्णज्ञानोपयोगयुक्तता, इन सोलह कारणों से जीव तीर्थंकर नाम-गोत्रकर्म को बांधते हैं।।४१।।'

श्री उमास्वामी आचार्य ने निम्न प्रकार से सोलहकारण भावनाओं के नाम लिए हैं। वर्तमान में इन्हीं भावनाओं का क्रम प्रसिद्ध है— दर्शनविशुद्धर्विनयसम्पन्नताशीलव्रतेष्वनतिचारोऽभीक्ष्णज्ञानोपयोगसंवेगौशक्तितस्त्यागतपसी-साधुसमाधि-र्वैय्यावृत्यकरणमर्हदाचार्यबहुश्रुतप्रवचनभक्तिरावश्यकापरिहाणिमार्गप्रभावनाप्रवचन-वत्सलत्वमिति तीर्थकरत्वस्य।।२४।।[२]


अर्थ — दर्शनविशुद्धि, विनयसम्पन्नता, शील और व्रतों में अतिचार न लगाना, अभीक्ष्णज्ञानोपयोग और संवेग, यथाशक्तित्याग और तप, साधुसमाधि, वैयावृत्य, अर्हदभक्ति, आचार्यभक्ति, बहुश्रुतभक्ति, प्रवचनभक्ति, आवश्यकापरिहाणि, मार्गप्रभावना और प्रवचनवत्सलता इन १६ भावनाओं से तीर्थंकर नाम प्रकृति का आस्रव होता है।


विशेषार्थ — इन भावनाओं में दर्शनविशुद्धि मुख्य भावना है। उसके अभाव में सबके अथवा यथासंभव हीनाधिक होने पर भी तीर्थंकर प्रकृति का आस्रव नहीं होता और उसके रहते हुए अन्य भावनाओं के अभाव में भी तीर्थंकर प्रकृति का आस्रव होता है।

षट्खंडागम ग्रन्थराज एवं तत्त्वार्थसूत्र में कथित सोलहकारण भावनाओं में अन्तर-


षट्खंडागम

  1. दर्शनविशुद्धता
  2. विनयसंपन्नता
  3. शीलव्रतों में निरतिचारता
  4. छह आवश्यकों में अपरिहीनता
  5. क्षणलवप्रतिबोधनता
  6. लब्धिसंवेगसंपन्नता
  7. यथा शक्तितप
  8. साधुओं को प्रासुक परित्यागता
  9. साधुओं की समाधिसंधारणता
  10. साधुओं की वैयावृत्ति योगयुक्तता
  11. अरिहंतभक्ति
  12. बहुश्रुतभक्ति
  13. प्रवचनभक्ति
  14. आवश्यकअपरिहाणि
  15. प्रवचनप्रभावनता
  16. अभीक्ष्ण-अभीक्ष्णज्ञानोपयोगयुक्तता


तत्त्वार्थसूत्र

  1. दर्शनविशुद्धि
  2. विनयसंपन्नता
  3. शीलव्रतों में अनतिचार
  4. अभीक्ष्णज्ञानोपयोग
  5. संवेग
  6. शक्तितस्त्याग
  7. शक्तितस्तप
  8. साधुसमाधि
  9. वैयावृत्यकरण
  10. अर्हद्भक्ति
  11. आचार्यभक्ति
  12. बहुश्रुतभक्ति
  13. प्रवचनभक्ति
  14. प्रवचनवत्सलता
  15. मार्गप्रभावना
  16. प्रवचनवत्सलत्व

[सम्पादन] टिप्पणी

  1. षट्खण्डागम धवला पु. ८, पृ.-७६, ७८, ७९।
  2. तत्त्वार्थसूत्र अध्याय-६ सूत्र-२४।