ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

प्रथामाचार्य श्री शांतिसागर महाराज की 62 वीं पुण्यतिथि (भाद्रपद शुक्ला दुतिया) 23 अगस्त को मुंबई के जैनम हाल में पूज्य गणिनी ज्ञानमती माता जी के सानिध्य में मनायी जाएगी जैन धर्मावलंबी अपने-अपने नगरों में विशेष रूप से इस पुण्यतिथि को मनाकर सातिशय पुण्य का बंध करें|
Graphics-candles-479656.gif

इस मंत्र की जाप्य दो दिन 22 और 23 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं साधुसमाधि भावनायै नमः"

11.भगवानश्रेयांसनाथ वन्दना

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्री श्रेयांसनाथ वन्दना

अडिल्लछंद


श्री श्रेयांस जिन मुक्ति रमा के नाथ हैं।

त्रिभुवन पति से वंद्य त्रिजग के नाथ हैं।।

गणधर गुरु भी नमें नमाकर शीश को।

मैं भी रुचि से नमूँ नमाऊँ शीश को।।१।।

-नरेंद्र छंद-

चिन्मय ज्योति चिदंबर चेतन, चिच्चैतन्य सुधाकर।

जय जय चिन्मूरति चिंतामणि, चिंतितप्रद रत्नाकर।।

आप अलौकिक कल्पवृक्ष प्रभु, मुंह मांगा फल देते।

आप भक्त चक्री सुरपति, तीर्थंकर पद पा लेते।।२।।

जो तुम चरण सरोरुह पूजें, जग में पूजा पावें।

जो जन तुमको चित में ध्याते, सब जन उनको ध्यावें।।

जो तुम वचन सुधारस पीते, सब उनके वच पालें।

जो तुम आज्ञा पालें भविजन, उन आज्ञा नहिं टालें।।३।।

जो तुम सन्मुख भक्ति भाव से, नृत्य करें हर्षित हों।
 
तांडव नृत्य करें उन आगे, सुरपति भी प्रमुदित हों।।

जो तुम गुण को नित्य उचरते, भवि उनके गुण गाते।

जो तुम सुयश सदा विस्तारें, वे जग में यश पाते।।४।।

मन से भक्ति करें जो भविजन, वे मन निर्मल करते।

वचनों से स्तुति को पढ़कर, वचन सिद्धि को वरते।।

काया से अंजलि प्रणमन कर, तन का रोग नशाते।

त्रिकरण शुचि से वंदन करके, कर्म कलंक नशाते।।५।।

कुंथु आदि गण ईश सतत्तर, सात ऋद्धि के धारी।
 
मुनि निग्र्रंथ सहस चौरासी, सातभेद गुणधारी।।

प्रमुख धारणा आदि आर्यिका, बीस सहस इक लक्षा।

दोय लाख श्रावक व श्राविका, चार लाख गुणदक्षा।।६।।

आयु चुरासी लाख वर्ष की, अस्सी धनुष तनू है।

तप्त स्वर्ण छवि तनु अतिसुंदर, गेंडा चिन्ह सहित हैं।।

प्रभु श्रेयांस विश्व श्रेयस्कर, त्रिभुवन मंगलकारी।

प्रभु तुम नाम मंत्र ही जग में, सकल अमंगलहारी।।७।।

बहु विध तुम यश आगम वर्णे, श्रवण किया मैं जब से।

तुम चरणों में प्रीति लगी है, शरण लिया मैं तब से।।

प्रभु श्रेयांस! कृपा ऐसी अब, मुझ पर तुरतहिं कीजे।
 
सम्यग्ज्ञानमती लक्ष्मी को, देकर निजसम कीजे।।८।।

दोहा- परमश्रेष्ठ श्रेयांस जिन, पंचकल्याणक ईश।

नमूँ नमूँ तुमको सदा, श्रद्धा से नत शीश।।९।।