ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

11. इन्द्रिय और उनके भेद

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
इन्द्रिय और उनके भेद

San343434 copyfgd.jpg
San343434 copyfgd.jpg

प्रश्न-३८७ इन्द्रियाँ कितनी होती हैं उनके नाम लिखो?

उत्तर-३८७ इन्द्रियाँ ५ होती हैं उनके नाम क्रमश: इस प्रकार हैं-स्पर्शन, रसना, घ्राण, चक्षु और कर्ण।

प्रश्न-३८८ इन्द्रिय किसे कहते हैं?

उत्तर-३८८ संसारी जीव की पहिचान के चिन्ह को इंद्रिय कहते हैं।

प्रश्न-३८९ स्पर्शन इंद्रिय का लक्षण बताओ?

उत्तर-३८९ जिसके छू जाने पर हल्का, भारी, ठंडा, आदि ज्ञान होता है उसे स्पर्शन इंद्रिय कहते हैं।

प्रश्न-३९० रसना इंद्रिय का लक्षण बताओ?

उत्तर-३९० जिससे खट्टा, मीठा, कडुआ, चरपरा व कषायला रस जाना जाता है उसे रसना इंद्रिय कहते हैं?

प्रश्न-३९१ घ्राण इंद्रिय की परिभाषा बताओ?

उत्तर-३९१ जिससे सुगंध और दुर्गन्ध का ज्ञान होता है उसे घ्राण इंद्रिय कहते हैं।

प्रश्न-३९२ चक्षु इंद्रिय और कर्ण इंद्रिय का लक्षण बताओ?

उत्तर-३९२ जिससे काला, पीला, नीला, लाल, सफेद रंज जाना जाता है उसे चक्षु इंद्रिय कहते हैं। जिससे मनुष्य, पक्षु, पक्षी, बादल, बाजे आदि की आवाज जानी जाती है उसे कर्ण इंद्रिय कहते हैं।

प्रश्न-३९३ हमारे कितनी इंद्रियाँ हैं?

उत्तर-३९३ हमारे पाँचों इंद्रिया हैं।

प्रश्न-३९४ तीन इंद्रिय जीव के कर्ण हैं या नहीं?

उत्तर-३९४ तीन इंद्रिय जीव के कर्णेन्द्रिय नहीं हैं।


San343434 copy.jpg