ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

12.उचित व्यवसाय का महत्व

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
उचित व्यवसाय का महत्व

मनुष्य का भोजन कैसा व क्या हो इसके साथ ही यह भी अत्यंत महत्वपूर्ण हैं कि जिस धन से भोजन प्राप्त किया गया है वह धन कैसा है । महापुरुषों का कथन 'हैं कि उद्देश्य के साथ-साथ उसकी प्राप्ति के साधन भी उत्तम होने चाहिऐ । उत्तम साधन से कमाए हुए धन से प्राप्त भोजन ही अच्छी भावनाओं को जन्म देता है । दूसरों को दु :ख देकर प्राप्त हुए धन के भोजन से दु :ख ही प्राप्त होगा । वह भोजन कल्याणकारी न होकर अमंगलकारी व बुरे कर्मों की ओर प्रेरित करने वाला होगा । अत : भोजन के साथ ही हमारा व्यवसाय भी शुद्ध होना चाहिए । उचित रीति से प्राप्त हुआ धन अधिक स्थाई, सन्मार्ग पर ले जाने वाला व सुखकारी होता है । हिंसा, छल कपट आदि से प्राप्त धन अस्थाई, दुर्व्यसनों में लगाने वाला व दुखकारी होता है । धन जिस गति से आता है उसी गति से जाता है । डाकू, स्मगलर व हिंक्श व्यवसाय वाले नशीले पदार्थो के सेवन व अन्य दुर्गुणों में ही धन लुटाते हैं । उनके धन से प्राप्त भोजन कर उनकी संतान भी दुर्गणों पर चलना सीखती है । यदि हम अपने चारों ओर दृष्टि डालें तो यह प्रत्यक्ष देखेंगे कि जिस परिवार ने गलत तरीकों से धन प्राप्त किया है, वह पनपता नहीं । उस परिवार के सदस्यों में दुर्व्यसन, नशीले पदार्थो का सेवन, रोग व आपसी झगड़े अधिक रहते हैं व आत्मसंतोष व शांति का अभाव रहता है ।

अपने व्यवसाय से धन तो वेश्या भी खूब कमा लेती है, किन्तु उसके यहाँ भोजन करना कितने लोग चाहेंगे? भोजन बनाने में प्रयोग किये जाने वाले पदार्थ तो उसके भोजन में भी वही होते हैं जो एक धार्मिक स्थल पर बनने वाले भोजन में होते हैं किन्तु धार्मिक स्थल वाले भोजन को प्रसाद समझा जाता है क्योंकि वह भोजन जिस धन से बना है वह श्रद्धा व उत्तम भावना से दिए हुए धन का है, किसी वासना पूर्ति या अन्याय द्वारा प्राप्त हुए धन का नहीं ।

अत : सात्विक भोजन के साथ ही हमारा व्यवसाय भी शुद्ध होना चाहिये । जीव हिंसा करके अथवा करने में सहायक होकर कमाये हुए धन से प्राप्त भोजन कभी सुख, शांति व आरोग्य प्रदान नहीं करता अत : निम्न व्यवसायों से प्राप्त धन शुद्ध नहीं माना जाता ।

. मांसाहारी पदार्थो के लिए पशु, पक्षियो आदि का वध करना या कराना ।

. तमाशे के लिए पशुओं, मुर्गों, बटेरों, साडो आदि पशुओं को लड़ाना ।

. खाल चर्बी, फर व रेशम के वस्त्र, तेल, पक्षियों के परों से बनने वाली वे वस्तुएं बनाना जिनमें जीवित प्राणी की हत्या की जाती है ।

. पक्षियों को पकड कर कैद करना व उन्हें बेच कर धन कमाना ।

. शराब आदि मादक वस्तुओं का व्यवसाय करना या करवाना ।

मांस के लिए जीव हत्या करने वाला मांस का व्यापार करने अथवा कराने वाला भी मांस खाने वाले के समान ही दोषी है ।