Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

15.सामूहिक नृत्य गीत

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सामूहिक नृत्य गीत

तर्ज-रंग बरसे भीगे चुनर वाली.......

रंग छलके ज्ञान गगरिया से रंग छलके........
हो.....रंग छलके ज्ञान गगरिया से रंग छलके.......हो......।।टेक.।।
जग को होली का रंग सुहाता-2
तुमको सुहाती ज्ञान गंग, जगत तरसे रंग छलके......हो......।।1।।
जग को सुहाती, जयपुर की चुनरिया-2
तुम्हें भाती चरित्र चुनरिया, जो मन हरषे रंग छलके......हो......।।2।।
जग को सुहाते, रत्नन के गहने-2
तुम्हें भाते ज्ञान के गहने, रतन बरसे रंग छलके......हो......।।3।।
जग को सुहाती, विषयों की लाली-2
तुमको सुहाती जिनवाणी, जगत झलके रंग छलके......हो......।।4।।
कहे ‘‘चन्दना’’ सब मिल आओ-2
हम भी सुनें जिनवाणी, ज्ञान बरसे रंग छलके.....हो.....।।5।।