Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

16. उपसर्ग विजयी गुरुदत्त मुनिराज का संक्षिप्त परिचय

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उपसर्ग विजयी गुरुदत्त मुनिराज का संक्षिप्त परिचय

जन्मभूमि - हस्तिनापुर

नाम - गुरुदत्त महाराज

दीक्षा से पूर्व - राज्य संचालन। प्रजा रक्षार्थ गुफा में व्याघ्र को अग्नि लगवाकर मरवाना

व्याघ्र का जीव - कपिल ब्राह्मण हुआ

दीक्षा - राजा गुरुदत्त का दिगम्बर मुनि हो जाना

प्रति हिंसा - कपिल ने खेत में खड़े ध्यानस्थ गुरुदत्त मुनिराज को सेमल की रुई लपेटकर आग लगा दी।

उपसर्ग विजय - मुनिराज उपसर्ग जीतकर केवली हो गये।

पारमार्थिक पद - मुक्तिलाभ