Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

16. उपसर्ग विजयी गुरुदत्त मुनिराज का संक्षिप्त परिचय

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उपसर्ग विजयी गुरुदत्त मुनिराज का संक्षिप्त परिचय

जन्मभूमि - हस्तिनापुर

नाम - गुरुदत्त महाराज

दीक्षा से पूर्व - राज्य संचालन। प्रजा रक्षार्थ गुफा में व्याघ्र को अग्नि लगवाकर मरवाना

व्याघ्र का जीव - कपिल ब्राह्मण हुआ

दीक्षा - राजा गुरुदत्त का दिगम्बर मुनि हो जाना

प्रति हिंसा - कपिल ने खेत में खड़े ध्यानस्थ गुरुदत्त मुनिराज को सेमल की रुई लपेटकर आग लगा दी।

उपसर्ग विजय - मुनिराज उपसर्ग जीतकर केवली हो गये।

पारमार्थिक पद - मुक्तिलाभ