ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

17.भगवान कुंथुनाथ वंदना

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्री कुंथुनाथ वन्दना

-दोहा-

हस्तिनागपुर में हुए, गर्भ जन्म तप ज्ञान।

सम्मेदाचल मोक्षथल, नमूँ कुंथु भगवान।।१।।

-त्रिभंगी छंद-

पैंतिस गणधर मुनि साठ सहस, भाविता आर्यिका गणिनी थीं।

सब साठ सहस त्रय शतपचास, संयतिकायें अघ हरणी थीं।।

श्रावक दो लाख श्राविकाएँ, त्रय लाख चिन्ह बकरा शोभे।

आयू पंचानवे सहस वर्ष, पैंतिस धनु तनु स्वर्णिम दीपे।।२।।

-शिखरिणी छंद-

जयो कुंथुदेवा, नमन करता हूँ चरण में।

करें भक्ती सेवा, सुरपति सभी भक्तिवश तें।।

तुम्हीं हो हे स्वामिन्! सकल जग के त्राणकर्ता।

तुम्हीं हो हे स्वामिन्! सकल जग के एक भर्ता।।३।।

घुमाता मोहारी, चतुर्गति में सर्व जन को।

रुलाता ये बैरी, भुवनत्रय में एक सबको।।

तुम्हारे बिन स्वामिन्! शरण नहिं कोई जगत में।

अत: कीजै रक्षा, सकल दुख से नाथ! क्षण में।।४।।

प्रभो! मैं एकाकी, स्वजन नहिं कोई भुवन में।

स्वयं हूँ शुद्धात्मा, अमल अविकारी अकल मैं।।

सदा निश्चयनय से, करमरज से शून्य रहता।

नहीं पाके निज को, स्वयं भव के दु:ख सहता।।५।।

प्रभो! ऐसी शक्ती, मिले मुझको भक्ति वश से।

निजात्मा को कर लूँ, प्रगट जिनकी युक्तिवश से।।

मिले निजकी संपत, रत्नत्रयमय नाथ मुझको।

यही है अभिलाषा, कृपा करके पूर्ण कर दो।।६।।

-दोहा-

कामदेव चक्रीश प्रभु, सत्रहवें तीर्थेश।

केवल ‘‘ज्ञानमती’’ मुझे, दो त्रिभुवन परमेश।।७।।

सूरसेन नृप के तनय, श्रीकांता के लाल।

नमें तुम्हें जो वे स्वयं, होते मालामाल।।८।।