ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

17.स्याद्वाद चन्द्रिका:- स्वोपज्ञ हिन्दी सानुवाद टीका

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
स्याद्वाद चन्द्रिका:- स्वोपज्ञ हिन्दी सानुवाद टीका

Stoc.jpg
Stoc.jpg

पू० माता जी ने प्रस्तुत कृति का हिन्दी अनुवाद स्वयं लिखा है। इसके साथ विषेशार्थ (भावार्थ) लिखा है इससे यह टीका सी लगती है। इसे मैं उपयोगी रूप से स्वीकार करता हूँ। एक दृश्टि से तो वह स्याद्वाद चन्द्रिका की अंग ही बनी हुई है। यह केवल संस्कृत टीका का अनुवाद मात्र नहीं है। वरन् इसमें विषेशतायें हैं। इन विषेशताओं के कारण ही यह जन सामान्य को हृदयंगम करने हेतु आवष्यक सिद्ध हुई है।

वर्तमान में प्रायः सर्वत्र संस्कृत भाशा की अनभिज्ञता ही देखी जाती है। अतः भाशानुवाद आवष्यक है माता जी द्वारा सरल शब्दों में स्याद्वाद चन्द्रिका का यह अनुवाद उपयोगी और आकर्शक है। जैसे आ० ज्ञानसागर जी महाराज ने अपने संस्कृत टीका ग्रन्थों में स्वोपज्ञ हिन्दी भाशा टीका भी प्रस्तुत की है। ठीक उसी प्रकार माता जी ने अनिवार्यता अनुभव कर यह कार्य किया है। वास्तव में लेखक ही अपने विचारों का मूल ज्ञाता होता है अतः वही अपनी रचना का हार्द अधिक अच्छी प्रकार खोल सकता है अतः यह टीका भी जो कि स्याद्वाद चन्द्रिका में ही साथ प्रकाषित हुई है, सहायक के रूप में विषेश कही जावेगी। हिन्दी टीका की सबसे बड़ी विषेशता यह है कि इसमें संस्कृत भाशा में लिखित तात्पर्य अथवा भावार्थ के अतिरिक्त भी आवष्यक स्पश्टीकरण हेतु हिन्दी भावार्थ या विषेशार्थ समाहित किया गया है। यह अनेक स्थलों पर दृश्टव्य है। सारांष यह है कि भाशानुवाद से सहित प्रस्तुत कृति अपेक्षित पूर्णता एवं शोभा को प्राप्त हुई है। यहाँ एक स्थल प्रस्तुत है,

”भावार्थ - मार्गणादि का विस्तार गोम्मटसार जीव काण्ड आदि ग्रन्थों से समझ लेना चाहिए। वास्तव में गोम्मटसार के जीवकाण्ड और कर्मकाण्ड का अच्छी तरह स्वाध्याय कर लेने पर ही नियमसार आदि अध्यात्म ग्रन्थों का अर्थ ठीक से समझ में आ सकता है।

गाथा क्रमांक 19 की टीका के अन्त में हिन्दी भावार्थ विस्तार से दिया है जिसमें लोक रचना सम्बन्धी विस्तृत वर्णन किया है पठनीय है। अन्यत्र भी जहाँ टीकाकत्र्री को यह अनुभव हुआ कि संस्कृत टीका से कोई बात अवषिश्ट है तो हिन्दी अनुवाद के उपरान्त विषेशार्थ द्वारा उन्होंने उस विशय को पूर्ण किया है।

वस्तुतः स्वोपज्ञ हिन्दी अनुवाद हम सभी के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध हुआ है। आवष्यकता है स्वाध्याय की रुचि बढ़ाकर उससे लाभ प्राप्त करने की। वर्तमान में ही सारे समय और स्वाध्याय रुचि को पष्चिमी अथवा भौतिक विज्ञान की साधन पूर्णता रूप संस्कृति के परिवेष में दूरदर्षनगत विकार खा रहे हैं। इससे बचकर इन ज्ञान-कृतियों का आनन्द उठाकर सुख शांति प्राप्त की जा सकती है।

आगे हम स्याद्वाद चन्द्रिका पर विहंगम दृश्टि डालने हेतु विभिन्न शर्शकों से विशयवार वर्णन करेंगे। जैसे किसी सर्च लाइट से अपेक्षित विशय पर प्रकाष डाला जाता है उसी प्रकार हम यथा संभव इस सरस्वती अंग रूप कृति के विविध पाष्र्वों पर प्रकाष डालने का उपक्रम कर रहे हैं।