ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माता जी के द्वारा अागमोक्त मंगल प्रवचन एवं मुंबई चातुर्मास में हो रहे विविध कार्यक्रम के दृश्य प्रतिदिन देखे - पारस चैनल पर प्रातः 6 बजे से 7 बजे (सीधा प्रसारण)एवं रात्रि 9 से 9:20 बजे तक|
इस मंत्र की जाप्य दो दिन 18 और 19 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं शक्तितस्त्याग भावनायै नमः"

18.भगवान अरनाथ वन्दना

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्री अरनाथ वन्दना

Flowers 62.jpg
Flowers 62.jpg
Flowers 62.jpg
Flowers 62.jpg
-दोहा-

हस्तिनागपुर में हुये, गर्भ जन्म तप ज्ञान।

सम्मेदाचल मोक्षथल, वंदूं अर भगवान।।१।।

-त्रिभंगी छंद-

पितु नृपति सुदर्शन सोमवंशवर, प्रसू मित्रसेना सुत थे।

आयू चौरासी सहस वर्ष धनु, तीस तनू स्वर्णिम छवि थे।।

गुरु तीस गणाधिप मुनि पचास, हज्जार आर्यिका साठ सहस।

श्रावक इक लाख व साठ सहस, श्राविका लाख त्रय धर्मनिरत।।२।।

-पंचचामर छंद-

जयो जिनेश! आप तीर्थनाथ तीर्थरूप हो।

जयो जिनेश! आप मुक्तिनाथ मुक्तिरूप हो।।

जयो जिनेश! आप तीन लोक के अधीश हो।

जयो जिनेश! आप सर्व आश्रितों के मीत हो।।३।।

सभी सुरेन्द्र भक्ति से सदैव वंदना करें।

सभी नरेन्द्र आपकी सदैव अर्चना करें।।

सभी खगेन्द्र हर्ष से जिनेन्द्र कीर्ति गावते।

सभी मुनीन्द्र चित्त में तुम्हीं को एक ध्यावते।।४।।

अपूर्व तेज आप देख कोटि सूर्य लज्जते।

अपूर्व सौम्य मूर्ति देख कोटि चन्द्र लज्जते।।

अपूर्व शांति देख क्रूर जीव वैर छोड़ते।

सुमंद मंद हास्य देख शुद्ध चित्त होवते।।५।।

अनेक भव्य आपके पदाब्ज पूजते सदा।

अनेक जन्म पाप भी क्षणेक में नशें तदा।।

अनेक जीव भक्ति बिन अनंत जन्म धारते।

अनेक जीव भक्ति से अनंत सौख्य पावते।।६।।

अनंत ज्ञानरूप हो अनंत ज्ञानकार हो।

अनंत दर्शरूप हो अनंत दर्शकार हो।।

अनंत सौख्यरूप हो अनंत सौख्यकार हो।

अनंत वीर्यरूप हो अनंत शक्तिकार हो।।७।।

-दोहा-

कामदेव चक्रीश प्रभु, अठारवें तीर्थेश।

‘‘ज्ञानमती’’कैवल्य हित, नमूँ नमूँ परमेश।।८।।

अरतीर्थंकर जगप्रथित, मीन चिन्ह से नाथ! ।

पावें अविचल कीर्ति को, जो वंदे नत माथ ।।९।।