ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

18. गृहस्थ के ६ आर्यकर्म

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
गृहस्थ के ६ आर्यकर्म

DT9bEk9T7.jpg
DT9bEk9T7.jpg

आदिपुराण भाग २ में श्रावकों के ६ आर्यकर्म का वर्णन है—

इज्यां वार्तां च दत्ति च स्वाध्यायं संयमं तपः।
श्रुतोपासकसूत्रत्वात् स तेभ्यः समुपादिशत्।।२४।।

अर्थ — भरत ने उन्हें अर्थात् व्रती श्रावकों को उपासकाध्ययनांग से इज्या, वार्ता, दत्ति, स्वाध्याय, संयम और तप का उपदेश दिया। अन्यत्र ग्रन्थों में श्रावकों की षट्क्रियायें मानी हैं—

  1. देवपूजा
  2. गुरूपास्ति
  3. स्वाध्याय
  4. संयम
  5. तप
  6. दान ।

पद्मनन्दिपञ्चविंशतिका ग्रन्थ में श्रावकाचार अधिकार में श्रावकों के षट् आवश्यक कर्म बताए हैं—

देवपूजा गुरूपास्तिः स्वाध्यायः संयमस्तपः।
दानञ्चेति गृहस्थाणां षट् कर्माणि दिने दिने२।।७।।