ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

22.भगवान नेमिनाथ वन्दना

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


श्री नेमिनाथ वन्दना

Sto32.jpg
Sto32.jpg
Sto32.jpg
Sto32.jpg
(तर्ज-चंदन सा बदन.......)

नेमी भगवन्! शत शत वंदन, शत शत वंदन तव चरणों में।

कर जोड़ प्रभो! तव चरण पड़े, हम शीश झुकाते चरणों में।।टेक.।।

यौवन में राजमती को वरने, चले बरात सजा करके।

पशुओं को बांधे देख प्रभो! रथ मोड़ लिया उल्टे चल के।।

लौकांतिक सुर संस्तव करके, पुष्पांजलि की तव चरणों में।।१।।

प्रभु नग्न दिगंबर मुनि बने, ध्यानामृत पी आनंद लिया।

वैâवल्य सूर्य उगते धनपति ने, समवसरण भी अधर किया।।

तब राजमती आर्यिका बनी, चतुसंघ नमें तव चरणों में।।नेमी.।।२।।

वरदत्त आदि ग्यारह गणधर, अठरह हजार मुनिराज वहाँ।

राजीमति गणिनी आदिक, चालिस हजार संयतिकाएँ वहाँ।।

इक लाख सुश्रावक तीन लाख, श्राविका झुकीं तव चरणों में।।नेमी.।।३।।

सर्वाण्ह यक्ष अरु कूष्मांडिनि, यक्षी प्रभु शंख चिन्ह माना।

आयू इक सहस वर्ष चालिस, कर सहस देह उत्तम जाना।।

द्वादशगण से सब भव्य वहाँ, शत-शत वंदें तव चरणों में।।नेमी.।।४।।

प्रभु समवसरण में कमलासन पर, चतुरंगुल से अधर रहें।

चउ दिश में प्रभु का मुख दीखे, अतएव चतुर्मुख ब्रह्म कहें।।

सौ इन्द्र मिले पूजा करते, नित नमन करें तव चरणों में।।नेमी.।।५।।

प्रभु के विहार में चरण कमल, तल स्वर्ण कमल खिलते जाते।

बहुकोशों तक दुर्भिक्ष टले, षट् ऋतुज फूल फल खिल जाते।।

तनु नीलवर्ण सुंदर प्रभु को, सब वंदन करते चरणों में।।नेमी.।।६।।

तरुवर अशोक था शोकरहित, सिंहासन रत्न खचित सुंदर।

छत्रत्रय मुक्ताफल लंबित, भामंडल भवदर्शी मनहर।।

निज सात भवों को देख भव्य, प्रणमन करते तव चरणों में।। नेमी.।।७।।

सुरदुंदुभि बाजे बाज रहे, ढुरते हैं चौंसठ श्वेत चंवर।

सुरपुष्पवृष्टि नभ से बरसे, दिव्यध्वनि फैले योजन भर।।

श्रीकृष्ण तथा बलदेव आदि, अतिभक्ति लीन तव चरणों में।।नेमी.।।८।।

हे नेमिनाथ! तुम बाह्य और अभ्यंतर लक्ष्मी के पति हो।

दो मुझे अनंत चतुष्टयश्री, जो ज्ञानमती सिद्धिप्रिय हो।।

इसलिए अनंतों बार नमें, हम शीश झुकाते चरणों में।।नेमी.।।९।।