ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

24. विदेशों में जैन साहित्य

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
विदेशों में जैन साहित्य

लंदन स्थित अनेक पुस्तकालयों में भारतीय ग्रंथ विद्यमान हैं, जिनमें से एक पुस्तकालय में तो लगभग १५०० हस्तलिखित भारतीय ग्रंथ हैं और अधिकतर ग्रंथ प्राकृत—संस्कृत भाषाओं में हैं और जैनधर्म से सम्बन्धित हैं।

जर्मनी में लगभग ५ हजार पुस्तकालय हैं। इनमें से र्बिलन स्थित एक पुस्तकालय में १२ हजार भारतीय हस्तलिखित ग्रंथ हैं, जिनमें बड़ी संख्या जैन ग्रंथों की है। अमेरिका के वाशिंगटन और बौस्टन नगर में ५०० से अधिक पुस्तकालय हैं। इनमें से एक पुस्तकालय में ४० लाख हस्तलिखित पुस्तकें हैं, जिनमें भी २० हजार पुस्तकें प्राकृत—संस्कृत भाषाओं में हैं, जो भारत से गई हुई हैं।

प्रस में ११०० से अधिक बड़े पुस्तकालय हैं, जिनमें पेरिस स्थित बिब्लियोथिक नामक पुस्तकालय में ४० लाख पुस्तकें हैं। उनमें १२ हजार पुस्तकें प्राकृत—संस्कृत भाषा में की हैं और भारत से गई हुई हैं।

रूस में १,५०० बड़े पुस्तकालय हैं। उनमें एक राष्ट्रीय पुस्तकालय भी है, जिसमें ५ लाख पुस्तकें हैं। उनमें २२ हजार पुस्तकें प्राकृत—संस्कृत की हैं और भारत से गई हुर्इं हैं। इसमें जैन ग्रंथों की भी बड़ी संख्या में हैं।

इटली में लगभग ४,५०० पुस्तकालय हैं। उनमें से प्रत्येक में लाखों पुस्तकों का संग्रह है। कोई ६० हजार पुस्तकें प्राकृत—संस्कृत की है, जो प्राय: भारत से गई हुई हैं। इनमें जैन पुस्तकें भी बड़ी संख्या हैं।

नेपाल के काठमांडू स्थित पुस्तकालयों में एवं अन्यत्र हजारों की संख्या में जैन प्राकृत और संस्कृत ग्रंथ विद्यमान हैं तथा शोध—खोज की अपेक्षा रखते हैं। इसी प्रकार, चीन, तिब्बत, ब्रह्मा, इण्डोनेशिया, जापान, मंगोलिया, कोरिया, तुर्की, ईरान, असीरिया काबुल आदि के पुस्तकालयों में भी भारतीय ग्रंथ बड़ी संख्या में मौजूद हैं। भारत से विदेशों में ग्रंथ ले जाने की प्रवृत्ति केवल अंग्रेजों के काल से ही प्रारम्भ नहीं हुई, अपितु इससे हजारों वर्ष पूर्व भी भारत की इस अमूल्य निधि को विदेशी लोग अपने—अपने देशों में ले जाते रहे हैं। उदाहरण के लिए, विक्रम की पाँचवीं शताब्दी में चीनी यात्री फाह्यान भारत में आया था और यहाँ से ताड़पत्रों पर लिखी हुई १५२० पुस्तकें चीन ले गया था। विक्रम की सातवीं शताब्दी में चीनी यात्री हुएनसांग भारत आया था और वह भी अपने साथ पहली बार १५५० पुस्तकें, दूसरी बार २१७५ पुस्तकें और तदुपरान्त सन् ४६४ ईसवीं के आसपास २५५० ताड़पत्रों पर लिखे हुए ग्रंथ अपने साथ चीन ले गया।

इस प्रकार समय—समय पर विश्व के विभिन्न देशों से सैकड़ों यात्री आते रहे और वे अपने साथ महत्त्वपूर्ण भारतीय साहित्य ले जाते रहे। वे लोग भारत से कितने ग्रंथ ले गए उनकी संख्या का सही अनुमान लगाना कठिन है। इसके अतिरिक्त, म्लेच्छों, आततायियों, धर्म—द्बेषियों ने हजारों—लाखों की संख्या में हमारे साहित्य के रत्नों को जला दिया।