ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

25. देवों द्वारा राम को सम्बोधन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
देवों द्वारा राम को सम्बोधन

(२५५)

इस तरह राम के एक दिन कम, छह महिने ऐसे बीत गये।
तब देवों ने उनके सम्मुख, विपरीत कार्य प्रारम्भ किये।।
इक देव मनुष का वेष बना, सूखे वृक्षों को सींच रहा।

पत्थर पर बीज डाल करके, दो मृतक बैल को खींच रहा।।
(२५६)

कोई पानी को मटके में रख,मक्खन की तरह विलोता है।
घानी में रेत डाल करके, दूसरा पेलने लगता है।।
अब बोले राम अरे मूर्खों, क्यों ऐसे कारज करते हो।

क्या तेल निकलता बालू से, पत्थर पे बीज क्यों बोते हो ?।।
(२५७)

तब कहा देवताओं ने नृप! क्यों मृत शरीर ले घूम रहे ?
क्यों नहीं कर रहे दाहक्रिया? क्यों मृतकाया को चूम रहे।।
श्रीराम कुपित होकर बोले, यह कोरा ख्याल तुम्हारा है।

मेरा भाई तो जीवित है,देखो तो कितना प्यारा है।।
(२५८)

फिर उनके आगे वही देव, उनके जैसी ही क्रिया करी।
इक मृतक डाल निज कांधे पर, समझाने की प्रक्रिया करी।।
जब पूछा रामप्रभू ने ये, मुर्दा डाले क्यों घूम रहे ?।

तब कहा प्रीतवश हे स्वामी ! तुम ही तो हो स्वामी मेरे ।।
(२५९)

हम सभी पिशाचों के स्वामी, अब आप बन गये राजा हैं।
होती समान में प्रीत सदा, ये ही ऐतिहासिक गाथा है।।
हट गया मोह अब रघुवर का, मन में अब लगे सोचने वे ।

मैं इतना ज्ञानवान होकर,क्यूँ ऐसी चेष्टा की मैंने।।