ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

28. जैन प्राचीनतम शिलालेख

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
जैन प्राचीनतम शिलालेख

Scan Pic0025.jpg

जैनधर्म सम्बन्धी प्राचीन शिलालेख सबसे ज्यादा मिलते हैं। उड़ीसा में महामेघ वाहन खारवेल का (ई. पू. दूसरी शताब्दी) शिलालेख बहुत महत्त्वपूर्ण है। उदयगिरि—खण्डगिरि में और प्राकृत लेख उपलब्ध हुए हैं। मथुरा के जैन लेखों के आधार पर ही डॉ. हर्मन जैकॉबी ने जैनागमों की प्राचीनता को मान्य किया है। गुप्तकाल के बाद के लेख प्रचुर हैं। श्रवणबेलगोला के लेख कन्नड़ लिपि में हैं। पश्चिम भारत में पाये जाने वाले लेख देवनागरी लिपि में है। मध्यकाल में यहाँ के राज्यों में जैनों को सम्मान प्राप्त था और जैनधर्म को राजा आदर की दृष्टि से देखते थे। जैसलमेर, कुहाऊँ, राजगृह, शत्रुंजय, रणकपुर, गिरनार, हटूण्डी, देवगढ़ आदि में मूल्यवान शिलालेख पाये गये हैं।