ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

33. जैन जीवन शैली (पानी छानकर पीना)

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
जैन जीवन शैली (पानी छानकर पीना)

Scan Pic0030.jpg

जैनाचार्यों ने एक बूंद अनछने जल में असंख्यात जीव बताये हैं। सुप्रसिद्ध विज्ञानवेत्ता वैप्टन स्ववोर्सवी ने सूक्ष्मदर्शी यंत्र की सहायता से एक बूँद जल में ३६,४५० त्रस जीव की गणना की है। अनछने जल के उपयोग से अधिक हिंसा होती है, जो घोर पाप का कारण है। उज्जयिनी नगरी के सेठ जिनदत्त की बहू के द्वारा जीवाणी गिरने पर प्रायश्चित्त के निवेदन पर मुनि महाराज ने ८४००० मुनिराजों को आहार अथवा निर्दोष ब्रह्मचर्य की साधना करने वाले गृहस्थ जोड़े को आहार कराने का प्रायश्चित्त दिया। (इतना बड़ा प्रायश्चित्त इस बात का प्रतीक है कि इतनी बड़ी हिंसा होती है) अिंहसा धर्म का पालन करके आप अपनी आत्मा को पवित्र कर सकते हैं। मेरु पर्वत के बराबर स्वर्ण दान से अधिक पुण्य संचय का कारण एक जीव की रक्षा में है। आज डॉक्टर स्वास्थ्य की दृष्टि से छने पानी के पीने के लिए जोर देते हैं, जबकि जैनदर्शन स्वास्थ्य के साथ जीवदया का भी पालन करने का निर्देश करता है। पानी पिओ छानकर, गुरु मानो जानकर।