Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

34. जैन जीवन शैली (रात्रि भोजन का त्याग)

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जैन जीवन शैली (रात्रि भोजन का त्याग)

Scan Pic0031.jpg

रात्रि को अनगिनत सूक्ष्म एवं स्थूल जीवों का सद्भाव वातावरण में हो जाता है। दिन में सूर्य—प्रकाश होने के कारण उनका सद्भाव नहीं पाया जाता। इसका कारण सूर्य प्रकाश में पायी जाने वाली अल्ट्रावायलेट नाम की अदृश्य किरणें हैं। सूर्य के प्रकाश में उक्त अदृश्य और गर्म किरणें निकलती रहती हैं। उनके प्रभाव से सूक्ष्म जीव दिन में यहाँ-वहाँ छिप जाते हैं तथा नये जीवों की उत्पत्ति नहीं होती। रात्रि होते ही वे उत्पन्न होने लगते हैं। सूर्य—प्रकाश के अतिरिक्त प्रकाश के किसी अन्य स्रोत में उक्त किरणें नहीं पायी जाती। यही कारण है कि वर्षा ऋतु में दिन में लाइट जलाने पर कीड़े नहीं आते जबकि रात्रि में उसी लाइट के प्रकाश में अनेक जीव दृष्टिगोचर होते हैं, जो भोज्य सामग्री के साथ मिल मरण को प्राप्त होते हैं, जो त्रस जीव की हिंसा का कारण है, साथ ही पेटसम्बन्धी बीमारी का कारण है अत: रात्रिभोजन त्यागने योग्य है।

दो इन्द्रिय से लेकर पंचेन्द्रिय तक के जीवों को त्रसजीव कहते हैं।
इनमें से कुछ जीव आँखों से दिखाई देते हैं, कुछ नहीं भी।