ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

35. जैन सरस्वती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
जैन सरस्वती

Scan Pic0032.jpg


जैनाचार्यों ने सरस्वती देवी के स्वरूप की भगवान् की वाणी से तुलना की है। यथार्थत: सरस्वती की प्रतिमा द्वादशाङ्ग का ही प्रतीकात्मक चिह्न है। जैन सरस्वती के चार हाथों में कमल, अक्षमाला, शास्त्र तथा कमण्डलु हैं, जो क्रमश: अन्तर्दुष्टि, वैराग्य, ज्ञान और संयम के प्रतीक हैं। जैन मनीषियों ने शास्त्रों की रचना करते समय मंगलाचरण आदि में सरस्वती, भारती, शारदा, वाग्देवी, एवं ब्राह्मी आदि के नामों से जो स्तुति, वंदना, नमस्कार आदि किया है, वह वस्तुत: जिनोपदेश, श्रुतज्ञान अथवा केवलज्ञान की प्राप्ति स्वरूप किया गया है। नमस्कार का प्रयोजन अष्टकर्मों का क्षय एवं अष्टगुणों की प्राप्ति है।