ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

37. हमारा राष्ट्रीय चिह्न और सम्राट् अशोक

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



[सम्पादन]
हमारा राष्ट्रीय चिह्न और सम्राट् अशोक

ASHOK चीन.jpg

हमारा राष्ट्रीय चिह्न जिसे हमने सम्राट अशोक की विरासत के रूप में प्राप्त किया है। यह चिह्न सम्राट् अशोक की शिक्षाओं की स्मृति को ताजा करता ही है, वरन् इस चिह्न में हमारी असीम सांस्कृतिक विरासत भी झलकती है। सम्राट् अशोक के स्तम्भों में जैन तीर्थज्र्रों के चिह्न अंकित हैं। धर्म चक्र में २४ आरे तीर्थज्र्रों की संख्या २४ के प्रतीक हैं। चतुर्मुखी सिंह भगवान् महावीर का चिह्न है। बैल, हाथी और घोड़ा क्रमश: भगवान् ऋषभदेव, अजितनाथ और संभवनाथ (पहले, दूसरे, तीसरे) तीर्थज्र्र के चिह्न हैं। भगवान् महावीर और अहिंसा धर्म के संस्कारों के कारण अशोक के हृदय में तीर्थज्र्रों और जैनधर्म के प्रति बहुत सम्मान था। अहिंसा के गहन संस्कारों के कारण ही कलिंग के युद्ध में भीषण रक्तपात देखकर उसका हृदय तिलमिला उठा और उसने भविष्य में रक्तपात वाले युद्ध न करने की घोषणा कर दी। सम्राट् अशोक आरम्भिक काल में जैन थे। उनके पिता बिन्दुसार, पितामह चन्द्रगुप्त आदि भी दिगम्बर जैनधर्म की उपासना करते थे, उन्होंने बाद में बौद्धधर्म स्वीकार किया। उनके उत्तराधिकारियों ने जैनधर्म की समृद्धि में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया था। उन्होंने अधिकांश शिलालेख प्राकृत भाषा में खुदवाये थे।