ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

43. भारत की प्राचीन भाषा : प्राकृत

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
भारत की प्राचीन भाषा : प्राकृत

मूल मंत्र : णमोकार

णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आइरियाणं।

णमो उपज्झायाणं, णमो लोएसव्वसाहूणं।।
  1. प्राकृत एक लोक भाषा है। अत: इसका अस्तित्त्व उतना ही पुराना है, जितना कि लोक।
  2. प्राक्—कृत · प्राकृत—पुराकाल से प्राचीन जनभाषाओं को प्राकृत कहते हैं। संस्कृत के समान प्राकृत का क्षेत्र व काल विस्तृत रहा है। तीर्थंकर जैसे दिव्य पुरुषों ने जन—जन की समझ में आने वाली जनभाषा के द्वारा ही जगत् में धर्म की गंगा प्रवाहित की है।
  3. वैदिक सम्प्रदाय ने केवल संस्कृत भाषा को अपनाया, अत: किसी भी वैदिक विद्वान् का बनाया हुआ कोई प्राकृत भाषा का ग्रंथ उपलब्ध नहीं होता, किन्तु जैन सम्प्रदाय ने किसी भी भाषा से अरुचि प्रकट नहीं की। अतएव जैन विद्वानों ने भारतीय मूल भाषा प्राकृत में भी विपुल एवं महत्त्वपूर्ण साहित्य की रचना की तथा संस्कृत भाषा में भी व्याकरण, साहित्य, तर्वâ, छन्द, अलंकार, कोश, वैद्यक, ज्योतिष, गणित आदि समस्त विषयों पर अनुपम ग्रंथों की रचना की।
  4. काल और क्षेत्र के परिवर्तन से प्राकृत भाषा के भी अनेक रूप हो गए, जिन्हें भाषा—विज्ञानी शौरसेनी, महाराष्ट्री, अद्र्धमागधी, पाली, पैशाची, अपभ्रंश, शिलालेखी व निया प्राकृत आदि कहते हैं।
  5. पुरा साहित्य की प्रकृति, पुराकालीन धर्म, दर्शन तथा जीवन पद्धति को समझने के लिए प्राकृत को समझना आवश्यक है।