ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

52. विदेशों में जैन मंदिर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


विदेशों में जैन मंदिर

Videsh1.jpg

भारत मात्र में ही नहीं, सारे विश्व में तीर्थंकरों को पूजने की परम्परा रही है, यह यथार्थ है ऐसा इतिहास पढ़ने से भी ज्ञात होता है। वर्तमान काल में भी अनेक जैनबन्धु विदेशों में निवास कर रहे हैं तथा अपने आराध्य की आराधना के लिए उन्होंने जिनमंदिर आदि का निर्माण कराया है। जिनमें से कुछ के चित्र यहाँ प्रस्तुत हैं— कम्बोडिया तथा थाईलैंड में नागबुद्ध के नाम से पूजित सभी प्रतिमाएँ भगवान् पार्श्वनाथ की हैं। डॉ. गोकुलचंद जैन लिखते हैं कि—‘‘टर्की में भगवान बाहुबली का ५२५ धनुष लंबा बिम्ब खंडित दशा में है।’’ जिसका वर्णन आता है कि यह पोदनपुर में भगवान् बाहुबली के निर्वाण के बाद बनवाया गया था। अरब में बहुत से जैनमंदिरों के खंडहर हैं, जो देखने नहीं दिए जाते। फोटो लेना भी मना है।

Videsh2.jpg