ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

52. विदेशों में जैन मंदिर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
विदेशों में जैन मंदिर

फ्ज्द्य्तु.jpg

भारत मात्र में ही नहीं सारे विश्व में तीर्थंकरों को पूजने की परम्परा रही है, यह यथार्थ है ऐसा इतिहास पढ़ने से भी ज्ञात होता है। वर्तमान काल में भी अनेक जैन बन्धु विदेशों में निवास कर रहे हैं तथा अपने आराध्य की आराधना के लिए उन्होंने जिनमंदिर आदि का निर्माण कराया है। जिनमें से कुछ के चित्र यहाँ प्रस्तुत हैं— कम्बोडिया तथा थाईलैंड में नागबुद्ध के नाम से पूजित सभी प्रतिमाएँ भगवान् पाश्र्वनाथ की हैं। डॉ. गोकुलचंद जैन लिखते हैं कि—‘‘टर्की में भगवान् बाहुबली का ५२५ धनुष लंबा बिम्ब खंडित दशा में है।’’ जिसका वर्णन आता है कि यह पोदनपुर में भगवान् बाहुबली के निर्वाण के बाद बनवाया गया था। अरब में बहुत से जैन मंदिरों के खंडहर हैं, जो देखने नहीं दिए जाते। फोटो लेना भी मना है।

उय्द्त मक.jpg