ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

59. विश्व क्षमा दिवस : क्षमावाणी पर्व

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
विश्व क्षमा दिवस : क्षमावाणी पर्व

Scan Pic0021+++++.jpg

जैन परम्परा में दशलक्षण पर्व की समाप्ति के ठीक एक दिन बाद एक विशेष पर्व मनाया जाता है, जिसे क्षमावाणी पर्व कहते हैं। विश्व के इतिहास में यह पहला पर्व है, जिसमें शुभकामना, बधाई, उपहार न देकर सभी जीवों से अपने द्वारा जाने—अनजाने में किए गए समस्त अपराधों के लिए क्षमा—याचना करते हैं। क्षमा करने और क्षमा माँगने के लिए विशाल हृदय की आवश्यकता होती है। तीर्थज्र्रों ने सम्पूर्ण विश्व में शांति की स्थापना के लिए सूत्र दिया है—


खम्मामि सव्वजीवाणं, सव्वे जीवा खमंतु मे।
मित्ती मेत्ती मे सव्वभूदेसु, वेरं मञ्झं ण केण वि।।

मैं सभी जीवोंको क्षमा करता हूँ। सभी जीव मुझे भी क्षमा करें। मेरी सभी जीवों से मैत्री है। किसी के साथ मेरा कोई वैर भाव नहीं है। अनुसंधानकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला है कि लम्बे समय तक मन में बदले की भावना, ईष्र्या—जलन और दूसरों के अहित का चिन्तन और प्रयास करने पर मनुष्य भावनात्मक रूप से बीमार रहने लगता है। क्षमा एक ऐसी अचूक औषधि है, जिसके द्वारा हम लम्बी बीमारियों से भी निजात पा सकते हैं। जिस प्रकार २ अक्टूबर (गाँधी जयंती) को विश्व अहिंसा दिवस घोषित किया गया है, उसी प्रकार क्षमावाणी पर्व भी विश्व दिवस या ‘वल्र्ड फारगिवनेस डे’ के रूप में मनाया जाना चाहिए।

मेरे जीवन में जैन संस्कारों का गहरा असर है और मेरे ऊपर जैन मुनियों व आचार्यों की कृपा बनी हुई है। आज मैं यह घोषणा करता हूँ कि मेरे मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए मध्य प्रदेश की किसी भी आँगनवाड़ी में अण्डा नहीं परोसा जायेगा।