ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

62. धैर्य तथा उत्तुंग व्यक्तित्व के उद्योगपति सेठ बालचंद हीराचंद दोशी (जैन)

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
धैर्य तथा उत्तुंग व्यक्तित्व के उद्योगपति

सेठ बालचंद हीराचंद दोशी (जैन)

(1882-1953)

Scan Pic0024Sarder.jpg

The patriotic industrialist whose life was a triumph of persistence over adversity. Sardar Vallabhbhai Patel

सेठ बालचंद हीराचंद दोशी (जैन) ‘बालचंद नगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड’ के मुख्य संस्थापक थे। वह एक देशभक्त और दूरदृष्टि रखने वाले उद्योगपति थे। भारत में उद्योग जगत् और नए प्रकल्पों की नींव आपने ही रखी थी।

आपने हिन्दुस्तान कन्स्ट्रक्शन कंपनी (प्ण्ण्) की १९२६ में तथा रावलगाँव शुगर फैक्ट्री की १९३३ में स्थापना की तथा आपके द्वारा ही हिन्दुस्तान एअरक्राफ्ट कंपनी की शुरूआत बैंगलोर में की। जो वर्तमान में हिन्दुस्तान एअरोनोटिक्स लिमिटेड के नाम से जानी जाती है।

विशाखापट्टणम् में जहाज बनाने का कारखाना ‘हिन्दुस्तान शिपयार्ड’ की स्थापना भी आपके द्वारा की गई।

भारत में सबसे पहला पैसेंजर कार बनाने का कारखाना ‘प्रिमियर ऑटोमोबाइल्स’ सन् १९४४ में मुम्बई में स्थापित किया गया।

बालचंद नगर के आसपास की जमीन को आपने सुव्यवस्थित खेती करके गन्ने के खेतों में बदल दिया, वहाँ पर शुगर फैक्ट्री की शुरूआत की। सिंदिया स्टीम नेव्हीगेशन कंपनी की भी स्थापना की गई।

Scan Pic0025बाल्चाद.jpg

बालचंद नगर इण्डस्ट्रीज लिमिटेड, इंडस्ट्रीयल मशीनरी डिव्हीजन का निम्नलिखित क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण योगदान है—स्वनिर्मित शुगर फैक्ट्री, शुगर मशीनरी का निर्यात, नौसेना के जहाजों का गिअर बॉक्स, स्वनिर्मित सीमेंट फैक्ट्री अणु ऊर्जा प्रकल्प के महत्त्वपूर्ण हिस्से, आकाशयान, प्रक्षेपणास्त्र के पाटर्स पनडुब्बी के महत्त्वपूर्ण पाटर्स, ऑप्टीकल टेलीस्कोप आदि।

आप भारत सरकार, संरक्षण मंत्रालय की तरफ से देश के प्रति सेवा के कारण कई बार सम्मानित हुए।

आज भी आपके द्वारा स्थापित कंपनियाँ देश व समाज के विकास में योगदान दे रहीं है।

भारत सरकार द्वारा २३.११.२००४ में प्रसिद्ध जैन उद्योगपति बालचंद हीराचंद दोशी के नाम पर डाक टिकट जारी किया गया।