ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

Learning English The use of Proverbs

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
Learning English

The use of Proverbs
17800291-cute.jpg
17800291-cute.jpg
17800291-cute.jpg
17800291-cute.jpg

एन.एस.बिस्सा -

बोलचाल में कहावतों का इस्तेमाल करना आम बात है। अंग्रेजी भाषा की कहावतों को समझकर आप इनका प्रयोग करें।

Proverbs

1. Example is better than Precept.
कथनी से करनी श्रेष्ठ है।

2. A blind man is no judge of colours.
बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद ?

3.To cast Perls before suline.
अंधे के आगे रोए, अपने नेत्र खोए।

4. Death's day is doom's day.
आप मरे जग प्रलय।

5. Death keeps no calendar.
मृत्यु का कोई समय नहीं।

6.Out of sight, Out of mind.
आँख ओझल, पह़ाड ओझल।

7. Self praise is no recommendation.
अपने मुँह मियां मिट्ठू बनना।

8.He that does lend dose lose a friend.
उधार दीजिए, शत्रु बनाइए।

9. Man Proposes nut God disposes.
आदमी कुछ सोचता है, ईश्वर कुछ करता है।

10.Do not put of tilltomorrow what you can do today.
आज का काम कल पर मत छोड़ो।

11.Man is known by the company he keeps.
व्यक्ति अपनी संगत से पहचाना जाता है।

12. He that blows in the dust fills his own eyes.
आकाश पर थूका सिर पर गिरा।

13.Penny wise, pound foolish.
अशर्पिफयाँ लूटें, कोयलों पर मोहर।

14.Better alone than in a bad company.
कुसंगत से अकेला भला।

15. It is looking for a thing when it is in the mouth.
बगल में छोरा, शहर में ढिंढोरा।

16.To carry coals to new Castle.
उल्टे बांस बरेली को

17.Too much familiarity breeds contrmpt.
हर रोज आने—जाने से कद्र कम होती है।

18.From a bad pay master get what you can.
भागते चोर की लंगोटी सही।

19.Two of a trade seldom agree.
एक म्यान में दो तलवारें नहीं समा सकती।

प्रेषक— विकल्प जैन, गुनौर
विराग वाणी—२०१४