Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


परम पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का ऋषभदेवपुरम् मांगीतुंगी से अयोध्या की ओर मंगल विहार चल रहा है |

मगसिर कृष्णा दशमी को भगवान महावीर का दीक्षा कल्याणक एवं स्वस्ति श्री रवीन्द्रकीर्ति स्वामी जी का ८वां पीठाधीश पदारोहण दिवस मनाया गया |

"अध्यावासान स्थान" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो ()
छो
पंक्ति १: पंक्ति १:
 
'''अध्यावासान स्थान''' <br />
 
'''अध्यावासान स्थान''' <br />
 
Place obtained by the result of Karmic bondage.
 
Place obtained by the result of Karmic bondage.
सब मूल प्रकृतियों के अपने-अपने उदय से जो परिणाम उत्पन्न होते हैं उनकी ही अपनी-अपनी स्थिति के बंध में कारण होने में स्थिति बंध अध्यवसाय स्थान है ।[[श्रेणी:शब्दकोष]]
+
सब मूल प्रकृतियों के अपने-अपने उदय से जो परिणाम उत्पन्न होते हैं उनकी ही अपनी-अपनी स्थिति के बंध में कारण होने में स्थिति बंध अध्यवसाय स्थान है ।[[श्रेणी:शब्दकोश]]

१५:५१, २८ फ़रवरी २०१७ का अवतरण

अध्यावासान स्थान
Place obtained by the result of Karmic bondage. सब मूल प्रकृतियों के अपने-अपने उदय से जो परिणाम उत्पन्न होते हैं उनकी ही अपनी-अपनी स्थिति के बंध में कारण होने में स्थिति बंध अध्यवसाय स्थान है ।