Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

"अन्तरात्मा ही परमात्मा बन सकता है" के लिये जानकारी

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मूल जानकारी

प्रदर्शित शीर्षकअन्तरात्मा ही परमात्मा बन सकता है
डिफ़ॉल्ट सॉर्ट कीअन्तरात्मा ही परमात्मा बन सकता है
पृष्ठ आकार (बाइट्स में)२१,७६८
पृष्ठ आइ॰डी6387
पृष्ठ सामग्री भाषाहिन्दी (hi)
Page content modelविकिटेक्स्ट
सर्च इंजन बॉट द्वारा अनुक्रमणअनुमतित
दर्शाव की संख्या२९९
इस पृष्ठ को पुनर्निर्देशों की संख्या

पृष्ठ सुरक्षा

संपादनसभी सदस्यों को अनुमति दें
स्थानांतरणसभी सदस्यों को अनुमति दें

सम्पादन इतिहास

पृष्ठ निर्माताBhisham (चर्चा | योगदान)
पृष्ठ निर्माण तिथि१३:५२, २४ जुलाई २०१३
नवीनतम सम्पादकJainudai (चर्चा | योगदान)
नवीनतम सम्पादन तिथि०१:०२, ७ जुलाई २०१७
संपादन की कुल संख्या२४
लेखकों की संख्या
हाल में हुए सम्पादनों की संख्या (पिछ्ले ९१ दिन में)
हाल ही में लेखकों की संख्या