Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का 13 दिसंबर को महमूदाबाद से लखनऊ की ओर मंगल विहार ।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

कवि :

ENCYCLOPEDIA से
Aadesh (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित ०८:२८, २८ नवम्बर २०१५ का अवतरण ('जैन_सूक्ति_भण्डार श्रेणी:शब्दकोष ==<center><font color=#FF1493> ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैन_सूक्ति_भण्डार

कवि :

परेषां दूषणाज्जातु न बिभेति कवीश्वरा:।

किमुलूकभयाद् धुन्वन् ध्वान्तं नोदेति भानुमान्।।

—आदिपुराण : १-७५

दूसरों के भय से कविजन (विद्वान) कभी डरते नहीं हैं। क्या उल्लुओं के भय से सूर्य अंधकार का नाश करना छोड़ देता है ?