Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

चौबीस तीर्थंकर पूजा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौबीस तीर्थंकर पूजा

[सम्यक्त्व पचीसी व्रत,सुखचिन्तामणि व्रत,सर्वसंपत् व्रत (पुत्र संपत व्रत),नित्य सौभाग्य व्रत (सप्तज्योति कुंकुम व्रत),लोकमंगल व्रत,कनकावली व्रत,तपोञ्जलि व्रत,चौबीस तीर्थंकर व्रत,एकीभाव स्तोत्र व्रत,लघु सुखसम्पत्ति व्रत,रत्नावली व्रत,श्रावक त्रेपनक्रिया व्रत]
1177.JPG
-अथ स्थापना-शंभु छंद-
Cloves.jpg
Cloves.jpg

पुरुदेव आदि चौबिस तीर्थंकर, धर्मतीर्थ करतार हुये।

इस जम्बूद्वीप में भरतक्षेत्र के, आर्यखंड में नाथ हुये।।

इन मुक्तिवधू परमेश्वर का हम, भक्ती से आह्वान करें।

इनके चरणाम्बुज को जजते, भव भव दु:खों की हानि करें।।

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरसमूह! अत्र अवतर अवतर संवौषट् आह्वाननं।

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरसमूह! अत्र तिष्ठ तिष्ठ ठ: ठ: स्थापनं।

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरसमूह! अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट् सन्निधीकरणं।

-अथ अष्टक-गीता छंद-

हे नाथ! मेरी ज्ञानसरिता, पूर्ण भर दीजे अबे।

इस हेतु जल से आप के, पदकमल को पूजूँ अबे।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।१।।

Jal.jpg
Jal.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: जन्मजरामृत्युविनाशनाय जलं निर्वपामीति स्वाहा।

निज आत्म में सम्पूर्ण शीतल, सलिल धारा पूरिये।

तुम चरण युगल सरोज में, चंदन चढ़ाऊँ इसलिए।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।२।।

Chandan.jpg
Chandan.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: संसारतापविनाशनाय चंदनं निर्वपामीति स्वाहा।

अक्षय अखंडित सौख्य निधि, भंडार भर दीजे प्रभो।

इस हेतु अक्षत पुंज से, मैं पूजहूँ तुम पद विभो।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।३।।

Akshat 1.jpg
Akshat 1.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: अक्षयपदप्राप्तये अक्षतं निर्वपामीति स्वाहा।

मुझ आत्मगुण सौगंध्य सागर, पूर्ण भर दीजे प्रभो।

इस हेतु मैं सुरभित सुमन ले, पूजहूँ तुम पद विभो।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।४।।

Pushp 1.jpg
Pushp 1.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: कामबाणविनाशनाय पुष्पं निर्वपामीति स्वाहा।

मेरी करो परिपूर्ण तृप्ती, आत्म सुख पीयूष से।

भगवन्! अत: नैवेद्य से, पूजूँ चरण युग भक्ति से।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।५।।

Sweets 1.jpg
Sweets 1.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: क्षुधारोगविनाशनाय नैवेद्यं निर्वपामीति स्वाहा।

प्रभु ज्ञान ज्योती मुझ हृदय में, पूर्ण भर दीजे अबे।

मैं आरती रुचि से करूँ, अज्ञानतम तुरतहिं भगे।।


चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।६।।

Diya 3.jpg
Diya 3.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: मोहांधकारविनाशनाय दीपं निर्वपामीति स्वाहा।

मुझ आत्मयश सौरभ गगन में, व्याप्त कर दीजे प्रभो।

इस हेतु खेऊँ धूप मैं, कटुकर्म भस्म करो विभो।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।७।।

Dhoop 1.jpg
Dhoop 1.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: अष्टकर्मदहनाय धूपं निर्वपामीति स्वाहा।

निज आत्मगुण संपत्ति को, अब पूर्ण भर दीजे प्रभो।

इस हेतु फल को मैं चढ़ाऊँ, आपके सन्निध विभो।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।८।।

Almonds.jpg
Almonds.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: मोक्षफलप्राप्तये फलं निर्वपामीति स्वाहा।

अनमोल गुण निज के अनंते, किस विधी से पूर्ण हों।

बस अघ्र्य अर्पण करत ही, सब विघ्न वैरी चूर्ण हों।।

चौबीस तीर्थंकर जिनेश्वर, की करूँ मैं अर्चना।

इन पूजते निजसौख्य पाऊँ, करूँ यम की तर्जना।।९।।

Arghya.jpg
Arghya.jpg

ॐ ह्रीं श्रीवृषभदेवादिचतुर्विंशतितीर्थंकरेभ्य: अनघ्र्यपदप्राप्तये अर्घं निर्वपामीति स्वाहा।

-दोहा-

तीर्थंकर चरणाब्ज में, धारा तीन करंत।

त्रिभुवन में भी शांति हो, निजगुण मणि विलसंत।।१०।।

शांतये शांतिधारा।

जिनवर चरण सरोज में, सुरभित कुसुम धरंत।

सुख संतति संपति बढ़े, आत्म सौख्य विलसंत।।११।।

दिव्य पुष्पांजलि:।

RedRose.jpg

जाप्य-ॐ ह्रीं वृषभादिवर्धमानान्तेभ्यो नम:।

Jaap.JPG
Jaap.JPG

जयमाला

-चौबोल छंद-

आवो हम सब करें वंदना, चौबीसों भगवान की।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।

जय जय जिनवरं-४

आदिनाथ युग आदि तीर्थंकर, अजितनाथ कर्मारि हना।

संभवजिन भव दु:ख के हर्ता, अभिनंदन आनंद घना।।

सुमतिनाथ सद्बुद्धि प्रदाता, पद्मप्रभु शिवलक्ष्मी दें।

श्री सुपाश्र्व यम पाश विनाशा, चन्द्रप्रभू निज रश्मी दें।।

केवलज्ञान सूर्य बन चमके, त्रिभुवन तिलक महान की।।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।१।।

जय जय जिनवरं-४

पुष्पदंत भव अंत किया है, शीतल प्रभु के वच शीतल।

श्री श्रेयांस जगत हित कर्ता, वासुपूज्य छवि लाल कमल।।

विमलनाथ ने अघ मल धोया, जिन अनंत गुण अन्तातीत।

धर्मनाथ वृषतीर्थ चलाया, शांतिनाथ शांतिप्रद ईश।।

शांतीच्छुक जन शरण आ रहे, ऐसे करुणावान की।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।२।।

जय जय जिनवरं-४

वुंâथुनाथ करुणा के सागर, अर जिन मोह अरी नाशा।

मल्लिनाथ यममल्ल विजेता, मुनिसुव्रत व्रत के दाता।।

नमिप्रभु नियम रत्नत्रय धारी, नेमिनाथ शिवतिय परणा।

पाश्र्वनाथ उपसर्ग विजेता, महावीर भविजन शरणा।।

इनने शिव की राह दिखाई, जन-जन के कल्याण की।।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।३।।

जय जय जिनवरं-४

तीर्थंकर के जन्म समय से, दश अतिशय श्रुत में गाये।

केवलज्ञान प्रगट होते ही, दश अतिशय गणधर गायें।।

देवोंकृत चौदह अतिशय हों, सुंदर समवसरण रचना।

इन्द्र-इन्द्राणी देव-देवियाँ, गाते रहते गुण गरिमा।।

सभी भव्य गुण कीर्तन करते, अभयंकर जिननाम की।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।४।।

Vandana 1.jpg
Vandana 1.jpg

जय जय जिनवरं-४

तरु अशोक सुरपुष्पवृष्टि, भामंडल चामर सिंहासन।

तीन छत्र सुरदुंदुभि बाजे, दिव्यध्वनी है अमृतसम।।

आठ महा ये प्रातिहार्य हैं, गंधकुटी में प्रभु शोभें।

विभव वहाँ का सुर नर पशु क्या, मुनियों का भी मन लोभे।।

गणधर गुरु भी संस्तुति करते, अविनश्वर भगवान की।।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।५।।

जय जय जिनवरं-४

दर्शन ज्ञान सौख्य वीरज ये, चार अनंत चतुष्टय हैं।

ये छ्यालिस गुण अर्हंतों के, फिर भी गुणरत्नाकर हैं।।

क्षुधा तृषादिक दोष अठारह, प्रभु के कभी नहीं होते।

वीतराग सर्वज्ञ तीर्थंकर, हित उपदेशी ही होते।।

परम पिता परमेश्वर स्वामिन्! पूजा कृपानिधान की।

तीर्थंकर बन तीर्थ चलाया, उन अनंत गुणवान की।।६।।

जय जय जिनवरं-४

ॐ ह्रीं श्रीवृषभादिवर्धमानान्त्यचतुर्विंशति-तीर्थंकरेभ्य: जयमाला पूर्णार्घं निर्वपामीति स्वाहा।

शांतये शांतिधारा।

दिव्य पुष्पांजलि:।

-सोरठा-

धर्मचक्र के नाथ, द्विविध धर्मकर्ता प्रभो।

नमूँ नमाकर माथ, ‘‘ज्ञानमती’’ कलिका खिले।।१।।

Vandana 2.jpg

।।इत्याशीर्वाद:।।