Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्यशक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकैतनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

"जैन भूगोल" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(Uploaded Jain Geography prav. (01-05-2019))
(Updated jain geography pravchans)
पंक्ति २: पंक्ति २:
 
<div class="side-border1">
 
<div class="side-border1">
 
<center><font color=green size=9><b>'''जैन भूगोल ''' </b></font></center><hr/>
 
<center><font color=green size=9><b>'''जैन भूगोल ''' </b></font></center><hr/>
{{#ev:youtube|A3Cico70LZI|375|center|<center>'''गाणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी'''</center>}}
+
{| class="wikitable" width="100%"
 +
|-
 +
| {{#ev:youtube|1bfRWlO9Pbc|300|center|'''तीन लोक का वर्णन'''}} || {{#ev:youtube|A3Cico70LZI|300|center|'''पार्ट-२'''}} ||
 +
|-
 +
| {{#ev:youtube|E_yckO3tfjY|300|center|'''६ पर्वत - ७ क्षेत्र'''}} || {{#ev:youtube|z6_8aU3C4kU|300|center|'''भोगभूमी एवं सरोवर का वर्णन'''}}
 +
|}
 
</div>
 
</div>

१०:५९, ८ जुलाई २०१९ का अवतरण

जैन भूगोल

तीन लोक का वर्णन
पार्ट-२
६ पर्वत - ७ क्षेत्र
भोगभूमी एवं सरोवर का वर्णन